Kaisi Aagi Lagai

Regular price Rs. 646
Sale price Rs. 646 Regular price Rs. 695
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Kaisi Aagi Lagai

Kaisi Aagi Lagai

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

उपन्यास का महत्त्व दरअसल आजकल भी इसलिए बना हुआ है कि उपन्यास एक समानान्तर जीवन की परिकल्पना करते हैं। इस सन्दर्भ में असग़र वजाहत के उपन्यास ‘कैसी आगी लगाई’ में जीवन की विशद व्याख्या है, जीवन का विस्तार है और तमाम अन्तर्विरोधों के बीच से मानव-गरिमा और श्रेष्ठता के कलात्मक संकेत मिलते हैं।
पिछले तीस साल से कहानियाँ और उपन्यासों के माध्यम से अपनी विशेष पहचान बना चुके असग़र वजाहत ने ‘कैसी आगी लगाई’ में विविधताओं से भरा एक जीवन हमारे सामने रखा है। यह जीवन बिना किसी शर्त पाठक के सामने खुलता चला जाता है। कहीं-कहीं बहुत संवेदनशील और वर्जित माने जानेवाले क्षेत्रों में उपन्यासकार पाठक को बड़ी कलात्मकता और सतर्कता से ले जाता है और कुछ ऐसे प्रसंग सामने आते हैं जो सम्भवतः हिन्दी उपन्यास में इससे पहले नहीं आए हैं।
उपन्यास का ढाँचा परम्परागत है लेकिन दर्शक के सामने विभिन्न प्रसंग जिस तरह खुलते हैं, वह अत्यन्त कलात्मक है, एक व्यापक जीवन में लेखक जिस प्रसंग को उठाता है, उसे जीवन्त बना देता है।
‘कैसी आगी लगाई’ में साम्प्रदायिकता, छात्र-जीवन, स्वातंत्र्योत्तर राजनीति, सामन्तवाद, वामपन्थी राजनीति, मुस्लिम समाज, छोटे शहरों का जीवन और महानगर की आपाधापी के साथ-साथ सामाजिक अन्तर्विरोधों से जन्मा वैचारिक संघर्ष भी हमारे सामने आता है। उपन्यास मानवीय सरोकारों और मानवीय गरिमा के कई पक्षों को उद्घाटित करता है। जीवन और जगत के विभिन्न कार्य-व्यापारों के बीच कथा-सूत्र एक ऐसा रोचक ताना-बाना बुनते हैं कि पाठक उनमें डूबता चला जाता है।
‘कैसी आगी लगाई’ उन पाठकों के लिए आवश्यक है जो उपन्यास विधा से अतिरिक्त आशाएँ रखते हैं। Upanyas ka mahattv darasal aajkal bhi isaliye bana hua hai ki upanyas ek samanantar jivan ki parikalpna karte hain. Is sandarbh mein asgar vajahat ke upanyas ‘kaisi aagi lagai’ mein jivan ki vishad vyakhya hai, jivan ka vistar hai aur tamam antarvirodhon ke bich se manav-garima aur shreshthta ke kalatmak sanket milte hain. Pichhle tis saal se kahaniyan aur upanyason ke madhyam se apni vishesh pahchan bana chuke asgar vajahat ne ‘kaisi aagi lagai’ mein vividhtaon se bhara ek jivan hamare samne rakha hai. Ye jivan bina kisi shart pathak ke samne khulta chala jata hai. Kahin-kahin bahut sanvedanshil aur varjit mane janevale kshetron mein upanyaskar pathak ko badi kalatmakta aur satarkta se le jata hai aur kuchh aise prsang samne aate hain jo sambhvatः hindi upanyas mein isse pahle nahin aae hain.
Upanyas ka dhancha parampragat hai lekin darshak ke samne vibhinn prsang jis tarah khulte hain, vah atyant kalatmak hai, ek vyapak jivan mein lekhak jis prsang ko uthata hai, use jivant bana deta hai.
‘kaisi aagi lagai’ mein samprdayikta, chhatr-jivan, svatantryottar rajniti, samantvad, vampanthi rajniti, muslim samaj, chhote shahron ka jivan aur mahangar ki aapadhapi ke sath-sath samajik antarvirodhon se janma vaicharik sangharsh bhi hamare samne aata hai. Upanyas manviy sarokaron aur manviy garima ke kai pakshon ko udghatit karta hai. Jivan aur jagat ke vibhinn karya-vyaparon ke bich katha-sutr ek aisa rochak tana-bana bunte hain ki pathak unmen dubta chala jata hai.
‘kaisi aagi lagai’ un pathkon ke liye aavashyak hai jo upanyas vidha se atirikt aashaen rakhte hain.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products