Look Inside
Kaisa Sach
Kaisa Sach

Kaisa Sach

Regular price Rs. 166
Sale price Rs. 166 Regular price Rs. 178
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kaisa Sach

Kaisa Sach

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

सुपरिचित लेखिका आशा प्रभात का यह कहानी-संग्रह ‘कैसा सच’ अपने नामानुसार ही हक़ीक़त का भिन्न-भिन्न रूप समेटे हुए है अपने अन्दर। ये कहानियाँ सामाजिक विसंगतियों को परत-दर-परत खोलती उसके यथार्थ से गहराई से साक्षात्कार कराती हैं।
लेखिका ने ‘स्त्री’ के व्यक्ति बनने की जद्दोजहद को अपनी रचनाओं में रेखांकित कर नए दृष्टिकोण से अवगत कराया है। उनकी रचनाओं की पात्र समाज की रूढ़िवादी परम्पराओं को तोड़ने का ऐलान नहीं करतीं, बल्कि ख़ामोशी से परम्पराओं की दीवारें लाँघ आगे निकल जाती हैं और आत्मविश्वास से लबरेज यह पुरुषों से टकराव किए बगैर अपनी पहचान कायम करती हैं।
ये कहानियाँ सिर्फ़ सामाजिक विसंगतियों से ही नहीं, बल्कि व्यवस्था के घातक तंत्रों से भी रू-ब-रू कराती हैं कि कैसे इनसान जाने-अनजाने व्यवस्था का अंग बन उसकी बुराइयों में शरीक होता चला जाता है और जब तक उसे अपने फँसने का बोध होता है, बहुत देर हो चुकी होती है, और यह देरी ही जन्म देती है एक संवेदनहीन समाज को, जहाँ बड़े-से-बड़े तूफ़ान की आहट सुन इनसान सिर्फ़ पल-भर के लिए चौंकता है, नज़रें उठाकर देखता है और फिर आँखें बन्द कर सो जाता है।
आशा प्रभात की रचनाओं का फलक विस्तृत है। भाषा, शिल्प, कथ्य तथा बुनावट के स्तर पर ये कहानियाँ इतनी चुस्त हैं कि कब ये पाठकों को अपना हमख़याल और हमसफ़र बना लेती हैं, उन्हें आभास तक नहीं होता और जब पड़ाव आता है तो पाठक काफ़ी समय तक उनके प्रभाव से ख़ुद को मुक्त नहीं करा पाते। लेखिका ने स्त्री-विमर्श को नया आयाम देने की कामयाब कोशिश की है। Suparichit lekhika aasha prbhat ka ye kahani-sangrah ‘kaisa sach’ apne namanusar hi haqiqat ka bhinn-bhinn rup samete hue hai apne andar. Ye kahaniyan samajik visangatiyon ko parat-dar-parat kholti uske yatharth se gahrai se sakshatkar karati hain. Lekhika ne ‘stri’ ke vyakti banne ki jaddojhad ko apni rachnaon mein rekhankit kar ne drishtikon se avgat karaya hai. Unki rachnaon ki patr samaj ki rudhivadi parampraon ko todne ka ailan nahin kartin, balki khamoshi se parampraon ki divaren langh aage nikal jati hain aur aatmvishvas se labrej ye purushon se takrav kiye bagair apni pahchan kayam karti hain.
Ye kahaniyan sirf samajik visangatiyon se hi nahin, balki vyvastha ke ghatak tantron se bhi ru-ba-ru karati hain ki kaise insan jane-anjane vyvastha ka ang ban uski buraiyon mein sharik hota chala jata hai aur jab tak use apne phansane ka bodh hota hai, bahut der ho chuki hoti hai, aur ye deri hi janm deti hai ek sanvedanhin samaj ko, jahan bade-se-bade tufan ki aahat sun insan sirf pal-bhar ke liye chaunkta hai, nazren uthakar dekhta hai aur phir aankhen band kar so jata hai.
Aasha prbhat ki rachnaon ka phalak vistrit hai. Bhasha, shilp, kathya tatha bunavat ke star par ye kahaniyan itni chust hain ki kab ye pathkon ko apna hamakhyal aur hamasfar bana leti hain, unhen aabhas tak nahin hota aur jab padav aata hai to pathak kafi samay tak unke prbhav se khud ko mukt nahin kara pate. Lekhika ne stri-vimarsh ko naya aayam dene ki kamyab koshish ki hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products