Look Inside
Kahaniyan Rishton Ki : Sahodar
Kahaniyan Rishton Ki : Sahodar

Kahaniyan Rishton Ki : Sahodar

Regular price ₹ 140
Sale price ₹ 140 Regular price ₹ 150
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.
Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kahaniyan Rishton Ki : Sahodar

Kahaniyan Rishton Ki : Sahodar

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

अल्पना मिश्र हिन्दी कहानी के सूची-समाज में अनिवार्य रूप से शामिल नहीं हैं लेकिन वे उसकी सबसे मज़बूत परम्परा का एक विद्रोही और दमकता हुआ नाम हैं। उन्हें उखड़े और बाज़ार-प्रिय लोगों द्वारा सूचीबद्ध नहीं किया जा सका। कहानी का यह धीमा सितारा मिटनेवाला, धुँधला होनेवाला नहीं है, निश्चय ही यह स्थायी दूरियों तक जाएगा।
अल्पना मिश्र की कहानियों में अधूरे, तकलीफ़देह, बेचैन, खंडित और संघर्ष करते मानव जीवन के बहुसंख्यक चित्र हैं। वे अपनी कहानियों के लिए, बहुत दूर नहीं जातीं, निकटवर्ती दुनिया में रहती हैं। आज पाठक और कथाकार के बीच की दूरी कुछ अधिक ही बढ़ती जा रही है, अल्पना मिश्र की कहानियों में यह दूरी नहीं मिलेगी। आज बहुतेरे नए कहानीकार प्रतिभाशाली तो हैं पर कहानी तत्त्व उनका दुर्बल है, वे अपनी निकटस्थ, खलबलाती, उजड़ती, दुनिया को छोड़कर नए और आकर्षक भूमंडल में जा रहे हैं। इस नज़रिए से देखें तो अल्पना मिश्र उड़ती नहीं हैं, वे प्रचलित के साथ नहीं हैं, वे ढूँढ़ती हुई, खोजती हुई, धीमे-धीमे उँगली पकड़कर लोगों यानी अपने पाठकों के साथ चलती हैं।
‘ग़ैर-हाज़िरी में हाज़िर’, ‘गुमशुदा’, ‘रहगुज़र की पोटली’, ‘महबूब ज़माना और ज़माने में वे’, ‘सड़क मुस्तक़िल’, ‘उनकी व्यस्तता’, ‘मेरे हमदम मेरे दोस्त’, ‘पुष्पक विमान’ और ‘ऐ अहिल्या’ कहानियाँ इस संग्रह में हैं। इन सभी में किसी-न-किसी प्रकार के हादसे हैं। भूस्खलन, पलायन, छद्म आधुनिकता, जुल्म, दहेज हत्याएँ, स्त्री-शोषण से जुड़ी घटनाएँ अल्पना मिश्र की कहानियों के केन्द्र में हैं। इन सभी कहानियों में लेखिका की तरफ़दारी और आग्रह तीखे और स्पष्ट हैं। वे अत्याधुनिक अदाओं और स्थापत्य के लिए विकल नहीं हैं। उनकी कहानियाँ आलंकारिक नहीं हैं, वे उत्पीड़न के ख़िलाफ़ मानवीय आन्दोलन का पक्ष रखती हैं और इस तरह सामाजिक कायरता से हमें मुक्त कराने का रचनात्मक प्रयास करती हैं। मुझे इस तरह की कहानियाँ प्रिय हैं।
—ज्ञानरंजन Alpna mishr hindi kahani ke suchi-samaj mein anivarya rup se shamil nahin hain lekin ve uski sabse mazbut parampra ka ek vidrohi aur damakta hua naam hain. Unhen ukhde aur bazar-priy logon dvara suchibaddh nahin kiya ja saka. Kahani ka ye dhima sitara mitnevala, dhundhala honevala nahin hai, nishchay hi ye sthayi duriyon tak jayega. Alpna mishr ki kahaniyon mein adhure, taklifdeh, bechain, khandit aur sangharsh karte manav jivan ke bahusankhyak chitr hain. Ve apni kahaniyon ke liye, bahut dur nahin jatin, nikatvarti duniya mein rahti hain. Aaj pathak aur kathakar ke bich ki duri kuchh adhik hi badhti ja rahi hai, alpna mishr ki kahaniyon mein ye duri nahin milegi. Aaj bahutere ne kahanikar pratibhashali to hain par kahani tattv unka durbal hai, ve apni niktasth, khalablati, ujadti, duniya ko chhodkar ne aur aakarshak bhumandal mein ja rahe hain. Is nazariye se dekhen to alpna mishr udti nahin hain, ve prachlit ke saath nahin hain, ve dhundhati hui, khojti hui, dhime-dhime ungali pakadkar logon yani apne pathkon ke saath chalti hain.
‘gair-haziri mein hazir’, ‘gumashuda’, ‘rahaguzar ki potli’, ‘mahbub zamana aur zamane mein ve’, ‘sadak mustqil’, ‘unki vyastta’, ‘mere hamdam mere dost’, ‘pushpak viman’ aur ‘ai ahilya’ kahaniyan is sangrah mein hain. In sabhi mein kisi-na-kisi prkar ke hadse hain. Bhuskhlan, palayan, chhadm aadhunikta, julm, dahej hatyayen, stri-shoshan se judi ghatnayen alpna mishr ki kahaniyon ke kendr mein hain. In sabhi kahaniyon mein lekhika ki tarafdari aur aagrah tikhe aur spasht hain. Ve atyadhunik adaon aur sthapatya ke liye vikal nahin hain. Unki kahaniyan aalankarik nahin hain, ve utpidan ke khilaf manviy aandolan ka paksh rakhti hain aur is tarah samajik kayarta se hamein mukt karane ka rachnatmak pryas karti hain. Mujhe is tarah ki kahaniyan priy hain.
—gyanranjan

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products