BackBack
-11%

Kahaniyan Rishton Ki : Pita

Rs. 150 Rs. 134

इनसान के जीवन में जितने सम्बन्ध होते हैं उनमें पिता जैसा विविधरूपी, बहुआयामी और बहुस्तरीय रिश्ता कोई दूसरा नहीं होता है। दूरी और नज़दीकी के जाने कितने शेड्स इस एक रिश्ते में होते हैं। इस संकलन में उन सभी बेहतरीन कहानियों का चयन करने की कोशिश की गई है, जिनसे... Read More

Description

इनसान के जीवन में जितने सम्बन्ध होते हैं उनमें पिता जैसा विविधरूपी, बहुआयामी और बहुस्तरीय रिश्ता कोई दूसरा नहीं होता है। दूरी और नज़दीकी के जाने कितने शेड्स इस एक रिश्ते में होते हैं। इस संकलन में उन सभी बेहतरीन कहानियों का चयन करने की कोशिश की गई है, जिनसे पिता का सम्बन्ध अपने विविध रूपों में सामने आ सके। इस संकलन की कहानियों को पढ़ते हुए भिन्न-भिन्न दौर के पिता की झलक भी साकार होती है। Insan ke jivan mein jitne sambandh hote hain unmen pita jaisa vividhrupi, bahuayami aur bahustriy rishta koi dusra nahin hota hai. Duri aur nazdiki ke jane kitne sheds is ek rishte mein hote hain. Is sanklan mein un sabhi behatrin kahaniyon ka chayan karne ki koshish ki gai hai, jinse pita ka sambandh apne vividh rupon mein samne aa sake. Is sanklan ki kahaniyon ko padhte hue bhinn-bhinn daur ke pita ki jhalak bhi sakar hoti hai.