BackBack

Kahaniyan Rishton Ki : Manavta

Rs. 150 Rs. 134

भारतीय समाज में रिश्तों को जितनी मजबूती, आत्मीयता और उर्जा हासिल रही हैं, वह विरल है । एक तरह से कहा जा सकता है कि इस देश के यथार्थ को रिश्तों की समझ के बगैर जाना-समझा नहीं जा सकता है । माँ-पिता, भाई-बहन, दोस्त, दादी-नानी, बाबा-नाना, मामा, मौसा-मौसी, बुआ-फूफा, दादा,... Read More

Description

भारतीय समाज में रिश्तों को जितनी मजबूती, आत्मीयता और उर्जा हासिल रही हैं, वह विरल है । एक तरह से कहा जा सकता है कि इस देश के यथार्थ को रिश्तों की समझ के बगैर जाना-समझा नहीं जा सकता है । माँ-पिता, भाई-बहन, दोस्त, दादी-नानी, बाबा-नाना, मामा, मौसा-मौसी, बुआ-फूफा, दादा, चाचा, दोस्ती अनगिनत समबन्ध हैं जो लोगों के अनुभव-संसार में जिवंत हैं और जिनसे लोगों का अनुभव-संसार बना है । इसलिए हमारे देश की विभिन्न भाषाओँ में लिखी गई कहानियों, उपन्यासों आदि में ये रिश्ते बार-बार समूची ऊष्मा, जटिलता और गहनता के साथ प्रकट हुए हैं । न केवल लेखकों, कवियों, कलाकारों बल्कि सामाजिक चिंतकों के लिए भी ये रिश्ते एक तरह से लिटमस पेपर हैं जिनसे वे अपने अध्ययन क्षेत्र के निष्कर्षों, स्थापनाओं, सिद्धांतो की जाँच कर सकते हैं । अतः रिश्तों पर रची गई कहानियों की यह श्रंखला हमारी दुनिया का अंकन होने के साथ-साथ हमारी दुनिया को पहचानने और उसकी व्याख्या करने की परियोजना के लिए सन्दर्भ कोष के रूप में भी ग्रहण की जा सकती है । Bhartiy samaj mein rishton ko jitni majbuti, aatmiyta aur urja hasil rahi hain, vah viral hai. Ek tarah se kaha ja sakta hai ki is desh ke yatharth ko rishton ki samajh ke bagair jana-samjha nahin ja sakta hai. Man-pita, bhai-bahan, dost, dadi-nani, baba-nana, mama, mausa-mausi, bua-phupha, dada, chacha, dosti anaginat sambandh hain jo logon ke anubhav-sansar mein jivant hain aur jinse logon ka anubhav-sansar bana hai. Isaliye hamare desh ki vibhinn bhashaon mein likhi gai kahaniyon, upanyason aadi mein ye rishte bar-bar samuchi uushma, jatilta aur gahanta ke saath prkat hue hain. Na keval lekhkon, kaviyon, kalakaron balki samajik chintkon ke liye bhi ye rishte ek tarah se litmas pepar hain jinse ve apne adhyyan kshetr ke nishkarshon, sthapnaon, siddhanto ki janch kar sakte hain. Atः rishton par rachi gai kahaniyon ki ye shrankhla hamari duniya ka ankan hone ke sath-sath hamari duniya ko pahchanne aur uski vyakhya karne ki pariyojna ke liye sandarbh kosh ke rup mein bhi grhan ki ja sakti hai.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year

Kahaniyan Rishton Ki : Manavta

भारतीय समाज में रिश्तों को जितनी मजबूती, आत्मीयता और उर्जा हासिल रही हैं, वह विरल है । एक तरह से कहा जा सकता है कि इस देश के यथार्थ को रिश्तों की समझ के बगैर जाना-समझा नहीं जा सकता है । माँ-पिता, भाई-बहन, दोस्त, दादी-नानी, बाबा-नाना, मामा, मौसा-मौसी, बुआ-फूफा, दादा, चाचा, दोस्ती अनगिनत समबन्ध हैं जो लोगों के अनुभव-संसार में जिवंत हैं और जिनसे लोगों का अनुभव-संसार बना है । इसलिए हमारे देश की विभिन्न भाषाओँ में लिखी गई कहानियों, उपन्यासों आदि में ये रिश्ते बार-बार समूची ऊष्मा, जटिलता और गहनता के साथ प्रकट हुए हैं । न केवल लेखकों, कवियों, कलाकारों बल्कि सामाजिक चिंतकों के लिए भी ये रिश्ते एक तरह से लिटमस पेपर हैं जिनसे वे अपने अध्ययन क्षेत्र के निष्कर्षों, स्थापनाओं, सिद्धांतो की जाँच कर सकते हैं । अतः रिश्तों पर रची गई कहानियों की यह श्रंखला हमारी दुनिया का अंकन होने के साथ-साथ हमारी दुनिया को पहचानने और उसकी व्याख्या करने की परियोजना के लिए सन्दर्भ कोष के रूप में भी ग्रहण की जा सकती है । Bhartiy samaj mein rishton ko jitni majbuti, aatmiyta aur urja hasil rahi hain, vah viral hai. Ek tarah se kaha ja sakta hai ki is desh ke yatharth ko rishton ki samajh ke bagair jana-samjha nahin ja sakta hai. Man-pita, bhai-bahan, dost, dadi-nani, baba-nana, mama, mausa-mausi, bua-phupha, dada, chacha, dosti anaginat sambandh hain jo logon ke anubhav-sansar mein jivant hain aur jinse logon ka anubhav-sansar bana hai. Isaliye hamare desh ki vibhinn bhashaon mein likhi gai kahaniyon, upanyason aadi mein ye rishte bar-bar samuchi uushma, jatilta aur gahanta ke saath prkat hue hain. Na keval lekhkon, kaviyon, kalakaron balki samajik chintkon ke liye bhi ye rishte ek tarah se litmas pepar hain jinse ve apne adhyyan kshetr ke nishkarshon, sthapnaon, siddhanto ki janch kar sakte hain. Atः rishton par rachi gai kahaniyon ki ye shrankhla hamari duniya ka ankan hone ke sath-sath hamari duniya ko pahchanne aur uski vyakhya karne ki pariyojna ke liye sandarbh kosh ke rup mein bhi grhan ki ja sakti hai.