BackBack
-11%

Kahani Ki Talash Main

Rs. 395 Rs. 352

अलका सरावगी की कहानी-यात्रा कोई आयोजित भ्रमण नहीं है, यह जानने और जताने की है कि कैसे कोई कहानी के संसार की यात्रा शुरू कर देता है तो उसे पग-पग पर कहानियाँ मिलती रहती हैं। हाँ, इस मिलने में तलाशना जुड़ा है, मिलना सहज संयोग नहीं। लेखिका को सुन्दरता और... Read More

BlackBlack
Description

अलका सरावगी की कहानी-यात्रा कोई आयोजित भ्रमण नहीं है, यह जानने और जताने की है कि कैसे कोई कहानी के संसार की यात्रा शुरू कर देता है तो उसे पग-पग पर कहानियाँ मिलती रहती हैं। हाँ, इस मिलने में तलाशना जुड़ा है, मिलना सहज संयोग नहीं। लेखिका को सुन्दरता और परिपूर्ण जीवन की तलाश है और उसी की तलाश में वह कहानी पा लेती है—इसमें वह ऐसी सृजनात्मकता का वरण करती है जो सहज है पर जिसमें जटिलताओं का नकार नहीं।
संग्रह की दो कहानियाँ—‘कहानी की तलाश में’ और ‘हर शै बदलती है’ समकालीन हिन्दी कहानी के ढर्रे से कुछ अलग हैं, पर वे जैनेन्द्र कुमार और रघुवीर सहाय जैसे पूर्ववर्ती लेखकों की कहानियों की भी याद दिलाती हैं। इन कहानियों को जीवन की कहानियाँ कहने को मन करता है—रोज़मर्रा की ज़िन्दगी का मतलब एक पिटी-पिटाई और ढर्रे की ज़िन्दगी नहीं होता, आख़िर हर दिन एक नया दिन भी होता है। यह एहसास कहानियाँ करवाती हैं जो निश्चय ही आज एक अत्यन्त विरल अनुभव है।
कहानियों में कुछ चरित्र-प्रधान हैं, लेकिन उनका मर्म किसी चरित्र के मनोवैज्ञानिक उद्घाटन के बजाय ‘आधुनिकतावादी’ जीवन की संवेदनहीनता और विसंगतियों को उजागर करने में ज़्यादा प्रकट है। ऐसी कहानियों में ‘आपकी हँसी’, ‘ख़िज़ाब’, ‘महँगी किताब’, ‘सम्भ्रम’ की याद आती है।
ये कहानियाँ हिन्दी कहानी की अमित सम्भावनाओं को प्रकट करती हैं और यह कोई कम बड़ी बात नहीं। Alka saravgi ki kahani-yatra koi aayojit bhrman nahin hai, ye janne aur jatane ki hai ki kaise koi kahani ke sansar ki yatra shuru kar deta hai to use pag-pag par kahaniyan milti rahti hain. Han, is milne mein talashna juda hai, milna sahaj sanyog nahin. Lekhika ko sundarta aur paripurn jivan ki talash hai aur usi ki talash mein vah kahani pa leti hai—ismen vah aisi srijnatmakta ka varan karti hai jo sahaj hai par jismen jatiltaon ka nakar nahin. Sangrah ki do kahaniyan—‘kahani ki talash men’ aur ‘har shai badalti hai’ samkalin hindi kahani ke dharre se kuchh alag hain, par ve jainendr kumar aur raghuvir sahay jaise purvvarti lekhkon ki kahaniyon ki bhi yaad dilati hain. In kahaniyon ko jivan ki kahaniyan kahne ko man karta hai—rozmarra ki zindagi ka matlab ek piti-pitai aur dharre ki zindagi nahin hota, aakhir har din ek naya din bhi hota hai. Ye ehsas kahaniyan karvati hain jo nishchay hi aaj ek atyant viral anubhav hai.
Kahaniyon mein kuchh charitr-prdhan hain, lekin unka marm kisi charitr ke manovaigyanik udghatan ke bajay ‘adhuniktavadi’ jivan ki sanvedanhinta aur visangatiyon ko ujagar karne mein zyada prkat hai. Aisi kahaniyon mein ‘apki hansi’, ‘khizab’, ‘mahngi kitab’, ‘sambhram’ ki yaad aati hai.
Ye kahaniyan hindi kahani ki amit sambhavnaon ko prkat karti hain aur ye koi kam badi baat nahin.