Look Inside
Kahani Ki Rachana Prakriya
Kahani Ki Rachana Prakriya
Kahani Ki Rachana Prakriya
Kahani Ki Rachana Prakriya

Kahani Ki Rachana Prakriya

Regular price Rs. 367
Sale price Rs. 367 Regular price Rs. 395
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kahani Ki Rachana Prakriya

Kahani Ki Rachana Prakriya

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

प्रस्तुत पुस्तक ‘कहानी की रचना-प्रक्रिया’ में पुरानी कहानी और नई कहानी की रचना-प्रक्रिया के सूक्ष्म भेदों को समझने का प्रयत्न किया गया है और पहली बार रचना की प्रक्रिया से सम्बन्धित समस्याओं को कहानी-साहित्य की समीक्षा के क्षेत्र में उठाया गया है।
कहानी-साहित्य की रचनात्मक प्रक्रिया के अध्ययन-क्रम के आरम्भ में क्रमश: रचना-प्रक्रिया की ‘आधारभूमि’ रचना-प्रक्रिया के मनोवैज्ञानिक आधार, रचना-प्रक्रिया के साहित्यिक आधार, कहानी के प्राचीन रूप, कहानी के नए रूप, रचनात्मक चेतना का कहानी नामक साहित्यिक विधा में उपयोग, शास्त्रीय समीक्षा द्वारा निर्धारित कहानी-कला के प्रमुख तत्त्वों के रचनात्मक उपयोग की सम्भावना तथा रचना-प्रक्रिया और आधुनिकता के प्रमुख स्तर, रचनाकार, रचना-प्रक्रिया और पाठक आदि विषयों पर विचार किया गया है और प्रतिपादित किया गया है कि रचना-प्रक्रिया कोई जड़ यंत्र नहीं है, बल्कि वह रचनाकार की मानसिक संवेदना, सामाजिक परिवेश तथा उसके कलात्मक अनुभवों से सम्बन्धित एक जागरूक प्रक्रिया है जिसमें रचनाकार न केवल रचनात्मक अनुभवों को सम्प्रेषित करता है, बल्कि अपने को पाता भी है, उपलब्ध भी करता है।
दूसरे, तीसरे और चौथे अध्यायों में पूर्व प्रेमचन्द, प्रेमचन्द युग के पूर्वार्द्ध की कहानी, उत्तर प्रेमचन्द-युग की हिन्दी कहानी की विशेषताओं और सीमाओं की व्याख्या की गई है।
पाँचवें अध्याय में हिन्दी कहानी के विविध युगों की रचना-प्रक्रिया की चेतना का अध्ययन प्रस्तुत करते हुए कथा की चेतना या साक्षात्कार के प्रति विभिन्न युगों के कृतिकारों के दृष्टिकोणों में व्याप्त मौलिक अन्तर की व्याख्या की गई है।
छठे और अन्तिम अध्याय में जहाँ आज की कहानी की नई दिशाओं की ओर संकेत किया गया है, वहीं उसके परिशिष्ट में रचना-प्रक्रिया की चेतना पर समूचे अध्ययन के आधार पर पुनर्विचार की आवश्यकता का अनुभव किया गया है।
पुस्तक में साठोत्तर कहानी और आज की कहानी पर कई निबन्ध इस दृष्टि से दिए गए हैं कि आज के पाठक को यह कृति कथा आलोचना के क्षेत्र में सार्थक प्रस्थान दिखे। Prastut pustak ‘kahani ki rachna-prakriya’ mein purani kahani aur nai kahani ki rachna-prakriya ke sukshm bhedon ko samajhne ka pryatn kiya gaya hai aur pahli baar rachna ki prakriya se sambandhit samasyaon ko kahani-sahitya ki samiksha ke kshetr mein uthaya gaya hai. Kahani-sahitya ki rachnatmak prakriya ke adhyyan-kram ke aarambh mein krmash: rachna-prakriya ki ‘adharbhumi’ rachna-prakriya ke manovaigyanik aadhar, rachna-prakriya ke sahityik aadhar, kahani ke prachin rup, kahani ke ne rup, rachnatmak chetna ka kahani namak sahityik vidha mein upyog, shastriy samiksha dvara nirdharit kahani-kala ke prmukh tattvon ke rachnatmak upyog ki sambhavna tatha rachna-prakriya aur aadhunikta ke prmukh star, rachnakar, rachna-prakriya aur pathak aadi vishyon par vichar kiya gaya hai aur pratipadit kiya gaya hai ki rachna-prakriya koi jad yantr nahin hai, balki vah rachnakar ki mansik sanvedna, samajik parivesh tatha uske kalatmak anubhvon se sambandhit ek jagruk prakriya hai jismen rachnakar na keval rachnatmak anubhvon ko sampreshit karta hai, balki apne ko pata bhi hai, uplabdh bhi karta hai.
Dusre, tisre aur chauthe adhyayon mein purv premchand, premchand yug ke purvarddh ki kahani, uttar premchand-yug ki hindi kahani ki visheshtaon aur simaon ki vyakhya ki gai hai.
Panchaven adhyay mein hindi kahani ke vividh yugon ki rachna-prakriya ki chetna ka adhyyan prastut karte hue katha ki chetna ya sakshatkar ke prati vibhinn yugon ke kritikaron ke drishtikonon mein vyapt maulik antar ki vyakhya ki gai hai.
Chhathe aur antim adhyay mein jahan aaj ki kahani ki nai dishaon ki or sanket kiya gaya hai, vahin uske parishisht mein rachna-prakriya ki chetna par samuche adhyyan ke aadhar par punarvichar ki aavashyakta ka anubhav kiya gaya hai.
Pustak mein sathottar kahani aur aaj ki kahani par kai nibandh is drishti se diye ge hain ki aaj ke pathak ko ye kriti katha aalochna ke kshetr mein sarthak prasthan dikhe.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products