Look Inside
Kagaji Hai Pairahan
Kagaji Hai Pairahan
Kagaji Hai Pairahan
Kagaji Hai Pairahan

Kagaji Hai Pairahan

Regular price Rs. 278
Sale price Rs. 278 Regular price Rs. 299
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kagaji Hai Pairahan

Kagaji Hai Pairahan

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

उर्दू की विद्रोहिणी लेखिका इस्मत चुग़ताई हिन्दी पाठकों के लिए भी उर्दू जितनी ही आत्मीय रही हैं। भारतीय समाज के रूढ़िवादी जीवन-मूल्यों और घिसी–पिटी परम्पराओं पर इस्मत चुग़ताई ने अपनी कहानियों से जितनी चोट की है और इसे एक अधिक मानवीय समाज बनाने में जितना बड़ा योगदान किया है, उसकी बराबरी कर पानेवाले लोग बिरले ही हैं। पाठकों के मन में सहज ही यह सवाल उठता रहा है कि इतनी पैनी नज़र से अपने परिवेश को टटोलनेवाली और इतने जीते–जागते पात्र रचनेवाली इस लेखिका की ख़ुद अपनी बनावट क्या है, किस प्रक्रिया में उसका निर्माण हुआ है। इस्मत आपा ने शायद अपने पाठकों की इस जिज्ञासा को ध्यान में रखते हुए ही अपनी आत्मकथा ‘काग़ज़ी है पैरहन’ शीर्षक से क़लमबंद की।
कहने को ही यह पुस्तक आत्मकथा है। पढ़ने में यह बाक़ायदा उपन्यास और उपन्यास से भी ज़्यादा कुछ है। एक पूरे समय और समाज का इतना जीवन्त, इतना प्रामाणिक वर्णन मुश्किल से ही मिल सकता है। तॉल्स्ताय ने गोर्की के बारे में कहा था कि उनकी कहानियाँ दिलचस्प हैं, लेकिन उनका जीवन और भी दिलचस्प है। यही बात इस्मत चुग़ताई के बारे में भी शब्दश: कही जा सकती है। तीस के दशक में पर्देदार कुलीन मुस्लिम परिवार में एक लड़की के पढ़ने–लिखने में कितनी मुश्किलें आती होंगी, इसकी सहज ही कल्पना की जा सकती है। ये मुश्किलें ‘काग़ज़ी है पैरहन’ की मुख्य कथावस्तु बनी हैं। लेकिन जो पीड़ा ये मुश्किलें एक ज़िद्दी लड़की के भीतर पैदा करती रही होंगी, उसका अन्दाज़ा पाठक को ख़ुद ही लगाना होगा, क्योंकि अपने दु:खों को बयान करना, आत्म–दया दिखाना इस्मत चुग़ताई की फ़ितरत ही नहीं रही है।
गद्य की लय क्या होती है, कितनी सहजता से यह लय ज़िन्दगी की घनघोर उलझनों का बयान करा ले जाती है, इसका अप्रतिम उदाहरण यह पुस्तक है। ख़ुद इस्मत आपा के शब्दों में : “लिखते हुए मुझे ऐसा लगता है जैसे पढ़नेवाले मेरे सामने बैठे हैं, उनसे बातें कर रही हूँ और वो सुन रहे हैं। कुछ मेरे हमख़याल हैं, कुछ मोतरिज़ हैं, कुछ मुस्कुरा रहे हैं, कुछ ग़ुस्सा हो रहे हैं। कुछ का वाक़ई जी जल रहा है। अब भी मैं लिखती हूँ तो यही एहसास छाया रहता है कि बातें कर रही हूँ।” Urdu ki vidrohini lekhika ismat chugtai hindi pathkon ke liye bhi urdu jitni hi aatmiy rahi hain. Bhartiy samaj ke rudhivadi jivan-mulyon aur ghisi–piti parampraon par ismat chugtai ne apni kahaniyon se jitni chot ki hai aur ise ek adhik manviy samaj banane mein jitna bada yogdan kiya hai, uski barabri kar panevale log birle hi hain. Pathkon ke man mein sahaj hi ye saval uthta raha hai ki itni paini nazar se apne parivesh ko tatolnevali aur itne jite–jagte patr rachnevali is lekhika ki khud apni banavat kya hai, kis prakriya mein uska nirman hua hai. Ismat aapa ne shayad apne pathkon ki is jigyasa ko dhyan mein rakhte hue hi apni aatmaktha ‘kagzi hai pairhan’ shirshak se qalamband ki. Kahne ko hi ye pustak aatmaktha hai. Padhne mein ye baqayda upanyas aur upanyas se bhi zyada kuchh hai. Ek pure samay aur samaj ka itna jivant, itna pramanik varnan mushkil se hi mil sakta hai. Taulstay ne gorki ke bare mein kaha tha ki unki kahaniyan dilchasp hain, lekin unka jivan aur bhi dilchasp hai. Yahi baat ismat chugtai ke bare mein bhi shabdash: kahi ja sakti hai. Tis ke dashak mein pardedar kulin muslim parivar mein ek ladki ke padhne–likhne mein kitni mushkilen aati hongi, iski sahaj hi kalpna ki ja sakti hai. Ye mushkilen ‘kagzi hai pairhan’ ki mukhya kathavastu bani hain. Lekin jo pida ye mushkilen ek ziddi ladki ke bhitar paida karti rahi hongi, uska andaza pathak ko khud hi lagana hoga, kyonki apne du:khon ko bayan karna, aatm–daya dikhana ismat chugtai ki fitrat hi nahin rahi hai.
Gadya ki lay kya hoti hai, kitni sahajta se ye lay zindagi ki ghanghor ulajhnon ka bayan kara le jati hai, iska aprtim udahran ye pustak hai. Khud ismat aapa ke shabdon mein : “likhte hue mujhe aisa lagta hai jaise padhnevale mere samne baithe hain, unse baten kar rahi hun aur vo sun rahe hain. Kuchh mere hamakhyal hain, kuchh motriz hain, kuchh muskura rahe hain, kuchh gussa ho rahe hain. Kuchh ka vaqii ji jal raha hai. Ab bhi main likhti hun to yahi ehsas chhaya rahta hai ki baten kar rahi hun. ”

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products