Look Inside
Kagaj Ki Nav
Kagaj Ki Nav

Kagaj Ki Nav

Regular price Rs. 367
Sale price Rs. 367 Regular price Rs. 395
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kagaj Ki Nav

Kagaj Ki Nav

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

उर्दू और हिन्दी में समान रूप से समादृत कथाकार कृश्न चन्दर का उपन्यास ‘काग़ज़ की नाव’ उनकी सशक्त लेखनी का मुखर साक्षी है। एक दस रुपए के नोट की आत्मकथा के माध्यम से उन्होंने इस उपन्यास में समाज के विभिन्न पक्षों के विभिन्न अंगों का चित्र बड़ी सरसता एवं स्पष्टता से खींचा है। आज की जीवन-प्रणाली में नोट इतना प्रधान हो गया है कि उसके आगे सभी अन्य वस्तुएँ धुँधली नज़र आती हैं। किसी की ख़ुशी का वादा एक नोट है, किसी की मुहब्बत का धोखा नोट है, किसी की मजबूर मेहनत का एक पल नोट है, तो किसी की प्रेमिका की मुस्कान भी एक नोट ही है। सच तो यह है कि संसार का हर व्यक्ति अपने जीवन के प्रति क्षण को नोट—यानी काग़ज़ की नाव में खेये चला जा रहा है। शायद यह नोट काग़ज़ का एक पुर्जा नहीं, इस युग की सबसे महत्त्वपूर्ण वस्तु है।
निस्सन्देह, आज के युग-यथार्थ की अगर कोई शक्ल है तो यही काग़ज़ की नाव। कृश्न चन्दर की प्रवाहमयी भाषा-शैली ने इसे जिस तेज़ी से घटनाओं की उत्ताल तरंगों पर तैराया है, उसका रोमांच बहुत गहरे तक पाठकीय भाव-संवेदन का हिस्सा बन जाता है। Urdu aur hindi mein saman rup se samadrit kathakar krishn chandar ka upanyas ‘kagaz ki nav’ unki sashakt lekhni ka mukhar sakshi hai. Ek das rupe ke not ki aatmaktha ke madhyam se unhonne is upanyas mein samaj ke vibhinn pakshon ke vibhinn angon ka chitr badi sarasta evan spashtta se khincha hai. Aaj ki jivan-prnali mein not itna prdhan ho gaya hai ki uske aage sabhi anya vastuen dhundhali nazar aati hain. Kisi ki khushi ka vada ek not hai, kisi ki muhabbat ka dhokha not hai, kisi ki majbur mehnat ka ek pal not hai, to kisi ki premika ki muskan bhi ek not hi hai. Sach to ye hai ki sansar ka har vyakti apne jivan ke prati kshan ko not—yani kagaz ki naav mein kheye chala ja raha hai. Shayad ye not kagaz ka ek purja nahin, is yug ki sabse mahattvpurn vastu hai. Nissandeh, aaj ke yug-yatharth ki agar koi shakl hai to yahi kagaz ki naav. Krishn chandar ki prvahamyi bhasha-shaili ne ise jis tezi se ghatnaon ki uttal tarangon par tairaya hai, uska romanch bahut gahre tak pathkiy bhav-sanvedan ka hissa ban jata hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products