BackBack
-11%

Ka : Bhartiya Manas Aur Devataon Ki Kahaniyan

Rs. 225 Rs. 200

एक अद्भुत, रोमांचक और रहस्यपूर्ण यात्रा से अभी-अभी लौटा हूँ। सिर घूम रहा है— कुछ भी स्थिर नहीं। मैं उस विचित्र विचार-यात्रा के अनुभव आप सबके साथ बाँटना चाहता हूँ। एक में अनेक मानस यात्राएँ, लेकिन ज़रा ठहरिए, अभी-अभी जान पाया हूँ कि जिस अद्भुत यात्रा की बात कर रहा... Read More

Description

एक अद्भुत, रोमांचक और रहस्यपूर्ण यात्रा से अभी-अभी लौटा हूँ। सिर घूम रहा है— कुछ भी स्थिर नहीं। मैं उस विचित्र विचार-यात्रा के अनुभव आप सबके साथ बाँटना चाहता हूँ। एक में अनेक मानस यात्राएँ, लेकिन ज़रा ठहरिए, अभी-अभी जान पाया हूँ कि जिस अद्भुत यात्रा की बात कर रहा हूँ, वह तो शुरू ही नहीं हुई अभी तक। बस मन में कामना जगी है। और मैं इसी को यात्रा का आरम्भ और अन्त मान बैठा। सब गड्ड-मड्ड हो रहा है। प्रस्थान बिन्दु ही गन्तव्य है, और जिसे मैं गन्तव्य कह रहा हूँ, वही तो आरम्भ था। कोई आरम्भ प्रथम नहीं, क्योंकि वह दूसरा है, अन्त में से निकला है। जो नया है वह पिछले अन्त के अवशेष-शेष पर टिका है और अन्त भी अन्तिम सलिए नहीं कि वही आरम्भ है। मैं हूँ लेकिन नहीं भी हूँ। मेरा होना मेरे न होने में समाया है।
कहते हैं बुद्ध ने निर्वाण प्राप्त किया था। बोधिसत्व बुद्धत्व प्राप्त कर अन्तिम बार जीवन-मरण के चक्र से निकलकर परे चले गए थे। लेकिन हम तक तो बुद्ध अपने अवशेष-आनन्द पर आधारित रहकर ही पहुँचे थे। यदि आनन्द न होते तो क्या हम बुद्ध के विचारों से इस तरह परिचित हो पाते? यही बात मैं इटली के भारत प्रेमी विद्वान श्री रॉबर्तो कलासो के बारे में कहना चाहता हूँ। संक्षेप में कहूँ तो कलासो के माध्यम से ही मैंने जटिल पुरातन भारतीय विचार-दर्शन को कथारस की लपेटन में पहली बार स्पर्श किया है। उसे पूरी तरह समझकर ग्रहण करने की परम स्थिति अभी दूर है। निर्वाण से पहले अनेक बार बोधिसत्व बनना होगा। प्रायः ही मेरे जैसे सामान्यजनों की दृष्टि अपने अतीत में पुराणों तक ही पहुँच पाती है। प्रागैतिहासिक वैदिक काल पवित्र अज्ञान की तरह है जिसे दूर से ही प्रणाम किया जा सकता है। पहले मन था, फिर विचार आया, विचार में से दूसरा विचार। सागर में लहर पर लहर की तरह जो तब से आज तक लगातार उठती जा रही हैं। और यह क्रम थमने वाला नहीं, अनन्त काल तक चलता जाएगा, उन चक्रीय कथाओं की तरह जो अश्वमेध के घोड़े के बलिस्थल पर लौटने की प्रतीक्षा में दस दिन के अन्तराल पर अपने को दोहराती चली जाती थीं।
इस पुस्तक को पढ़ते हुए ऐसी अनुभूति होती है मानो मैं एक चक्करदार झूले पर घूमता जा रहा हूँ। जो पहले था वही बार-बार दिखाई दे रहा है। आर्यों को ऐसा ही लगा था भारत-भूमि पर आगे बढ़ते हुए। न जाने क्यों ऐसा लगता था, जो नष्ट किया था, वही फिर से सामने प्रकट हो गया है और फिर ऐसा बार-बार होने लगा। वे चकित-चमत्कृत थे। फिर एक समय ऐसा आया, जब भारतीय विचार-दर्शन और जटिल कर्मकांडीय संयोजन की जटिलता ने मन को क्लान्त कर दिया। लोग चाहने लगे—गुनगुने सर्द मौसम में मद्धिम अलाव के चारों ओर बैठकर केवल रस-भरी कथाएँ सुनें और कुछ न करें। धीरे-धीरे यही क्रम चल निकला। जो कथाएँ संकोच से कर्मकांडीय अन्तराल के बीच चुपचाप सिमटकर आ बैठी थीं, वही प्रमुख हो गईं। अतीत के कर्मकांडीय सन्दर्भ कथा-विवरणों में ढल गए। इस पुस्तक के संयोजन में भी यही शैली अपनाई गई है। बात बिन्दु से उभरती है, विचार में ढलती है, विचार प्रक्रिया एक आवेशित, प्रचंड प्रवाह का रूप ले लेती है—लहरें इतनी ऊँची उठती हैं कि मन व्याकुल हो उठता है। और तभी कलासो कथा कहने लगते हैं। क़िस्सागोई का यह अन्दाज़ विचार-प्रवाह की गुरुता को कम नहीं करता उसे कहीं अधिक ग्राह्य बनाता है हम सभी के लिए।
श्री रॉबर्तो कलासो को बधाई। और उन जैसे भारत-प्रेमी विद्वान को जन्म देने के लिए इटली को धन्यवाद।
—देवेन्द्र कुमार Ek adbhut, romanchak aur rahasypurn yatra se abhi-abhi lauta hun. Sir ghum raha hai— kuchh bhi sthir nahin. Main us vichitr vichar-yatra ke anubhav aap sabke saath bantana chahta hun. Ek mein anek manas yatrayen, lekin zara thahariye, abhi-abhi jaan paya hun ki jis adbhut yatra ki baat kar raha hun, vah to shuru hi nahin hui abhi tak. Bas man mein kamna jagi hai. Aur main isi ko yatra ka aarambh aur ant maan baitha. Sab gadd-madd ho raha hai. Prasthan bindu hi gantavya hai, aur jise main gantavya kah raha hun, vahi to aarambh tha. Koi aarambh prtham nahin, kyonki vah dusra hai, ant mein se nikla hai. Jo naya hai vah pichhle ant ke avshesh-shesh par tika hai aur ant bhi antim saliye nahin ki vahi aarambh hai. Main hun lekin nahin bhi hun. Mera hona mere na hone mein samaya hai. Kahte hain buddh ne nirvan prapt kiya tha. Bodhisatv buddhatv prapt kar antim baar jivan-maran ke chakr se nikalkar pare chale ge the. Lekin hum tak to buddh apne avshesh-anand par aadharit rahkar hi pahunche the. Yadi aanand na hote to kya hum buddh ke vicharon se is tarah parichit ho pate? yahi baat main itli ke bharat premi vidvan shri raubarto kalaso ke bare mein kahna chahta hun. Sankshep mein kahun to kalaso ke madhyam se hi mainne jatil puratan bhartiy vichar-darshan ko katharas ki lapetan mein pahli baar sparsh kiya hai. Use puri tarah samajhkar grhan karne ki param sthiti abhi dur hai. Nirvan se pahle anek baar bodhisatv banna hoga. Prayः hi mere jaise samanyajnon ki drishti apne atit mein puranon tak hi pahunch pati hai. Pragaitihasik vaidik kaal pavitr agyan ki tarah hai jise dur se hi prnam kiya ja sakta hai. Pahle man tha, phir vichar aaya, vichar mein se dusra vichar. Sagar mein lahar par lahar ki tarah jo tab se aaj tak lagatar uthti ja rahi hain. Aur ye kram thamne vala nahin, anant kaal tak chalta jayega, un chakriy kathaon ki tarah jo ashvmedh ke ghode ke balisthal par lautne ki prtiksha mein das din ke antral par apne ko dohrati chali jati thin.
Is pustak ko padhte hue aisi anubhuti hoti hai mano main ek chakkardar jhule par ghumta ja raha hun. Jo pahle tha vahi bar-bar dikhai de raha hai. Aaryon ko aisa hi laga tha bharat-bhumi par aage badhte hue. Na jane kyon aisa lagta tha, jo nasht kiya tha, vahi phir se samne prkat ho gaya hai aur phir aisa bar-bar hone laga. Ve chakit-chamatkrit the. Phir ek samay aisa aaya, jab bhartiy vichar-darshan aur jatil karmkandiy sanyojan ki jatilta ne man ko klant kar diya. Log chahne lage—gunagune sard mausam mein maddhim alav ke charon or baithkar keval ras-bhari kathayen sunen aur kuchh na karen. Dhire-dhire yahi kram chal nikla. Jo kathayen sankoch se karmkandiy antral ke bich chupchap simatkar aa baithi thin, vahi prmukh ho gain. Atit ke karmkandiy sandarbh katha-vivarnon mein dhal ge. Is pustak ke sanyojan mein bhi yahi shaili apnai gai hai. Baat bindu se ubharti hai, vichar mein dhalti hai, vichar prakriya ek aaveshit, prchand prvah ka rup le leti hai—lahren itni uunchi uthti hain ki man vyakul ho uthta hai. Aur tabhi kalaso katha kahne lagte hain. Qissagoi ka ye andaz vichar-prvah ki guruta ko kam nahin karta use kahin adhik grahya banata hai hum sabhi ke liye.
Shri raubarto kalaso ko badhai. Aur un jaise bharat-premi vidvan ko janm dene ke liye itli ko dhanyvad.
—devendr kumar