Look Inside
Jungle Ka Dard
Jungle Ka Dard

Jungle Ka Dard

Regular price Rs. 274
Sale price Rs. 274 Regular price Rs. 295
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Jungle Ka Dard

Jungle Ka Dard

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘जंगल का दर्द’ में कवि सर्वेश्वर की अपने अन्तर्जगत और बाह्य-जगत के जानवरों से लड़ाई, समसामयिक हिन्दी कविता की उपलब्धि है। ‘कुआनो नदी’ की कविताएँ डूबते सूरज की लम्बी परछाइयाँ थीं। अब ‘जंगल का दर्द’ में अंधकार सिमटकर बुलेट–सा छोटा, ठोस और भारी हो गया है। काव्य–विन्यास में इस परिवर्तन को कवि की यातना और दृष्टि से जोड़कर ही समझा जा सकता है। भेड़िए, कुत्ते, तेन्दुए, चिड़ियाँ, तितलियाँ, इस जंगल में सबसे उसका सामना होता है, उनसे वह जूझता है, बचता है, सीखता है और मानव नियति की राह टटोलता, झाड़ियों की रगड़ से अपनी देह का संगीत सुनता, ख़ुद को उधेड़ता–बुनता आगे बढ़ता जाता है। यह यात्रा जारी है, और हिन्दी कविता की भावी यात्रा के प्रति आश्वस्त करती है। यह काव्य–संग्रह ढहते मूल्यों के बीच खड़े रहने की सामर्थ्य देता है और यह स्पष्ट करता है कि कविता का मुख्य प्रयोजन सौन्दर्य–बोध के विस्तार के साथ–साथ मानव–आत्मा को निर्भीक करना और उसे कर्म से जोड़ना है। ‘jangal ka dard’ mein kavi sarveshvar ki apne antarjgat aur bahya-jagat ke janavron se ladai, samsamyik hindi kavita ki uplabdhi hai. ‘kuano nadi’ ki kavitayen dubte suraj ki lambi parchhaiyan thin. Ab ‘jangal ka dard’ mein andhkar simatkar bulet–sa chhota, thos aur bhari ho gaya hai. Kavya–vinyas mein is parivartan ko kavi ki yatna aur drishti se jodkar hi samjha ja sakta hai. Bhediye, kutte, tendue, chidiyan, titaliyan, is jangal mein sabse uska samna hota hai, unse vah jujhta hai, bachta hai, sikhta hai aur manav niyati ki raah tatolta, jhadiyon ki ragad se apni deh ka sangit sunta, khud ko udhedta–bunta aage badhta jata hai. Ye yatra jari hai, aur hindi kavita ki bhavi yatra ke prati aashvast karti hai. Ye kavya–sangrah dhahte mulyon ke bich khade rahne ki samarthya deta hai aur ye spasht karta hai ki kavita ka mukhya pryojan saundarya–bodh ke vistar ke sath–sath manav–atma ko nirbhik karna aur use karm se jodna hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products