Look Inside
Jo Kuchh Rah Gaya Ankaha
Jo Kuchh Rah Gaya Ankaha
Jo Kuchh Rah Gaya Ankaha
Jo Kuchh Rah Gaya Ankaha

Jo Kuchh Rah Gaya Ankaha

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Jo Kuchh Rah Gaya Ankaha

Jo Kuchh Rah Gaya Ankaha

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘जो कुछ रह गया अनकहा’ लेखक के जीवन संघर्षों की औपन्यासिक गाथा है। इसे पढ़ते हुए लेखक के जीवन से ही नहीं, युग-युग के उस सच से भी अवगत हो सकते हैं जो अपनी प्रक्रिया में एक दिन एक मिसाल बनता है।
उत्तर प्रदेश के ज़‍िला ग़ाज़ीपुर का गाँव वीरपुर, जहाँ लेखक का जन्म हुआ, यह खाँटी बाँगर मिट्टी का क्षेत्र है। यहाँ सिंचाई के अभाव में तब मुश्किल से ज्वार, बाजरा की फ़सल उपजती। लेखक ने खेती करते हुए पढ़ाई की तो आजीविका के लिए भटकाव की स्थिति से गुज़रना पड़ा। सबसे पहले कानपुर में 60 रुपए मासिक वेतन की नौकरी की, यह नौकरी रास नहीं आई तो नौ माह पश्चात् ही घर आ गए और गाँव के निजी संस्कृत विद्यालय में अध्यापन का कार्य सँभाला। पढ़ने की ललक निरन्तर बनी रही तो धीरे-धीरे एम.ए., एम.एड. तक की शिक्षा प्राप्त कर ली। फिर बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के ज़‍िला सचिव का पद मिला। 1977 में सीवान में अखिल भारतीय भोजपुरी सम्मेलन हुआ तो सीवान ज़‍िला इकाई का सचिव पद मिला। फिर 1992 में मुज़फ़्फ़रपुर राज्य संघ में महासचिव हुए। 2008 में अखिल भारतीय शान्ति एकजुटता संगठन के सौजन्य से वियतनाम में आयोजित द्वितीय भारत वियतनाम मैत्री महोत्सव में शिष्टमंडल के सदस्य रहे।
समय तेज़ी से परिवर्तित होता गया, लेखक को वह दौर भी देखने को मिला जब दुनिया-भर में शिक्षा और शिक्षकों के समक्ष एक ही प्रकार की चुनौतियाँ आईं। शिक्षा पर निजीकरण और व्यावसायीकरण का ख़तरा मँडराया, जब शिक्षकों के संवर्ग को समाप्त कर अल्पवेतन, अल्प योग्यताधारी शिक्षकों की नियुक्ति कर शिक्षा को पूर्णतः बाज़ार के हवाले कर देने की योजना को बढ़ावा मिला। लेखक इससे विचलित तो नहीं हुआ परन्तु शारीरिक तौर पर अस्वस्थता ने जीवन-नौका को डुबाने की कगार पर ला दिया। अन्ततः एन्जियोप्लास्टी के कष्ट को भी झेलना पड़ा। एक बार फिर जीवन संघर्षों से जूझने को बाध्य हो गया। तब लगा कि जीवन संघर्षों से ही निखरता है जैसे सोना अग्नि में तपकर चमकता है।
हम कह सकते हैं कि यह पुस्तक अपने आख्यान में जीवन्त तो है ही, अपने पाठ में जीने और जीतने की कला भी सिखाती है। ‘jo kuchh rah gaya anakha’ lekhak ke jivan sangharshon ki aupanyasik gatha hai. Ise padhte hue lekhak ke jivan se hi nahin, yug-yug ke us sach se bhi avgat ho sakte hain jo apni prakriya mein ek din ek misal banta hai. Uttar prdesh ke za‍ila gazipur ka ganv virpur, jahan lekhak ka janm hua, ye khanti bangar mitti ka kshetr hai. Yahan sinchai ke abhav mein tab mushkil se jvar, bajra ki fasal upajti. Lekhak ne kheti karte hue padhai ki to aajivika ke liye bhatkav ki sthiti se guzarna pada. Sabse pahle kanpur mein 60 rupe masik vetan ki naukri ki, ye naukri raas nahin aai to nau maah pashchat hi ghar aa ge aur ganv ke niji sanskrit vidyalay mein adhyapan ka karya sanbhala. Padhne ki lalak nirantar bani rahi to dhire-dhire em. e., em. Ed. Tak ki shiksha prapt kar li. Phir bihar madhymik shikshak sangh ke za‍ila sachiv ka pad mila. 1977 mein sivan mein akhil bhartiy bhojapuri sammelan hua to sivan za‍ila ikai ka sachiv pad mila. Phir 1992 mein muzaphfarpur rajya sangh mein mahaschiv hue. 2008 mein akhil bhartiy shanti ekajutta sangthan ke saujanya se viyatnam mein aayojit dvitiy bharat viyatnam maitri mahotsav mein shishtmandal ke sadasya rahe.
Samay tezi se parivartit hota gaya, lekhak ko vah daur bhi dekhne ko mila jab duniya-bhar mein shiksha aur shikshkon ke samaksh ek hi prkar ki chunautiyan aain. Shiksha par nijikran aur vyavsayikran ka khatra mandraya, jab shikshkon ke sanvarg ko samapt kar alpvetan, alp yogytadhari shikshkon ki niyukti kar shiksha ko purnatः bazar ke havale kar dene ki yojna ko badhava mila. Lekhak isse vichlit to nahin hua parantu sharirik taur par asvasthta ne jivan-nauka ko dubane ki kagar par la diya. Antatः enjiyoplasti ke kasht ko bhi jhelna pada. Ek baar phir jivan sangharshon se jujhne ko badhya ho gaya. Tab laga ki jivan sangharshon se hi nikharta hai jaise sona agni mein tapkar chamakta hai.
Hum kah sakte hain ki ye pustak apne aakhyan mein jivant to hai hi, apne path mein jine aur jitne ki kala bhi sikhati hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products