BackBack
-11%

Jo Bacha Raha

Rs. 400 Rs. 356

वरिष्ठ रचनाकार नन्द चतुर्वेदी विविध विधाओं में लिखते रहे हैं। प्रस्तुत पुस्तक संस्मरण और आलोचना के मिश्रण से बने लेखों का संग्रह है। अनेक अनुभवों से समृद्ध इन लेखों में रचनाकारों का मूल्यांकन है, जीवन-शैली का विश्लेषण है, सिद्धान्तों की यात्रा है और सर्वोपरि उस दृष्टि की तलाश है जिसके... Read More

BlackBlack
Description

वरिष्ठ रचनाकार नन्द चतुर्वेदी विविध विधाओं में लिखते रहे हैं। प्रस्तुत पुस्तक संस्मरण और आलोचना के मिश्रण से बने लेखों का संग्रह है। अनेक अनुभवों से समृद्ध इन लेखों में रचनाकारों का मूल्यांकन है, जीवन-शैली का विश्लेषण है, सिद्धान्तों की यात्रा है और सर्वोपरि उस दृष्टि की तलाश है जिसके बिना दिशाएँ विलुप्त हो जाती हैं।
नन्द चतुर्वेदी ने नईम, रजनीकान्त वर्मा, जीवनानन्द दास, लोहिया, मीराँ, हरीश भादानी, गणपतचन्द भंडारी और मदन डागा आदि पर लिखते हुए उनके सकारात्मक पक्षों को सामने रखा है। आलोचनात्मक दृष्टि सक्रिय है...लेकिन तर्कों और तथ्यों को विस्मृत नहीं किया गया है। व्यक्तिगत रिश्ता होते हुए भी लेखकीय तटस्थता लेखों की उल्लेखनीय विशेषता है। वे कई जगह भ्रान्तियों का निवारण भी करते चलते हैं।
इन लेखों के केन्द्र में केवल साहित्यकार नहीं हैं। पत्रकारिता के साथ कुछ ऐसे व्यक्तियों का ज़िक्र भी है जिनमें आदर्शों की झलक दिखाई देती है। मौसाजी, मास्साब रामचन्द्रजी और नेमिचन्द भावुक पर लिखते समय नन्द चतुर्वेदी ने यह ध्यान रखा है। यह कहना ज़रूरी है कि लेखों की भाषा में पर्याप्त पारदर्शिता है, जिससे अर्थ चमक उठता है, जैसे—'पोप और शंकराचार्य शान्ति और सद्भाव की प्रार्थनाओं के बावजूद वास्तविकताओं की बात नहीं करते और न उन व्यवस्थापकों को अपराधी करार देते हैं जो शोषकों के अगुआ हैं। ईश्वर को आगे करने से इस सारी व्यवस्था के अपराधी चरित्र को वैधता हासिल होती है और शोषकों को हैसियत मिल जाती है।’ इन लेखों को पढ़ते हुए ‘संवाद’ की अनुभूति होती है, यह बहुत सुखद है। Varishth rachnakar nand chaturvedi vividh vidhaon mein likhte rahe hain. Prastut pustak sansmran aur aalochna ke mishran se bane lekhon ka sangrah hai. Anek anubhvon se samriddh in lekhon mein rachnakaron ka mulyankan hai, jivan-shaili ka vishleshan hai, siddhanton ki yatra hai aur sarvopari us drishti ki talash hai jiske bina dishayen vilupt ho jati hain. Nand chaturvedi ne naim, rajnikant varma, jivnanand daas, lohiya, miran, harish bhadani, ganapatchand bhandari aur madan daga aadi par likhte hue unke sakaratmak pakshon ko samne rakha hai. Aalochnatmak drishti sakriy hai. . . Lekin tarkon aur tathyon ko vismrit nahin kiya gaya hai. Vyaktigat rishta hote hue bhi lekhkiy tatasthta lekhon ki ullekhniy visheshta hai. Ve kai jagah bhrantiyon ka nivaran bhi karte chalte hain.
In lekhon ke kendr mein keval sahitykar nahin hain. Patrkarita ke saath kuchh aise vyaktiyon ka zikr bhi hai jinmen aadarshon ki jhalak dikhai deti hai. Mausaji, massab ramchandrji aur nemichand bhavuk par likhte samay nand chaturvedi ne ye dhyan rakha hai. Ye kahna zaruri hai ki lekhon ki bhasha mein paryapt pardarshita hai, jisse arth chamak uthta hai, jaise—pop aur shankracharya shanti aur sadbhav ki prarthnaon ke bavjud vastaviktaon ki baat nahin karte aur na un vyvasthapkon ko apradhi karar dete hain jo shoshkon ke agua hain. Iishvar ko aage karne se is sari vyvastha ke apradhi charitr ko vaidhta hasil hoti hai aur shoshkon ko haisiyat mil jati hai. ’ in lekhon ko padhte hue ‘sanvad’ ki anubhuti hoti hai, ye bahut sukhad hai.