Look Inside
Jivan Prabandhan Ki Shayari
Jivan Prabandhan Ki Shayari
Jivan Prabandhan Ki Shayari
Jivan Prabandhan Ki Shayari

Jivan Prabandhan Ki Shayari

Regular price Rs. 140
Sale price Rs. 140 Regular price Rs. 150
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Jivan Prabandhan Ki Shayari

Jivan Prabandhan Ki Shayari

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

शे'र और शायरी की सबसे बड़ी ख़ूबी है, उसका ज़बान पर चढ़ जाना। किसी भी अन्य भाषा की कविता शायद ही लोगों को इस तरह याद रहती है जैसे उर्दू की ग़ज़लें और शे'र। छोटी-छोटी लयबद्ध पंक्तियों में ज़िन्दगी के रंगों को उकेर देने की ख़ासियत के चलते हर ख़ासो-आम को अलग-अलग मौक़ों पर अलग-अलग मिज़ाज का शे’र कहते बहुत आसानी से सुना जा सकता है। इसी चीज़ को मद्देनज़र रखते हुए यह पुस्तक तैयार की गई है, इसका मक़सद ऐसी शायरी को एक जगह इकट्ठा करना है जिसका इस्तेमाल न सिर्फ़ आम पाठक अपनी ज़िन्दगी के चुनौतीपूर्ण अवसरों पर कर सकता है, बल्कि प्रबन्धन पढ़ानेवाले विशेषज्ञ भी अपने वक्तव्य को ज़्यादा आमफ़हम बनाने के लिए इससे काम ले सकते हैं।
प्रबन्धन विषय के जानकार और अच्छी शायरी के पारखी डॉ. पवन कुमार सिंह द्वारा तैयार यह पुस्तक शिक्षकों, प्रशिक्षकों, प्रशासकों, प्रबन्धकों, विद्यार्थियों और जननेताओं सभी के लिए समान रूप से उपयोगी है। विख्यात और कालजयी शायरों की रचनाओं से सजे इस संकलन में विषय के अनुसार आसानी से इच्छित शे'र मिल सकें, इसके लिए विषयवार विभाजन किया गया है, ताकि वे लोग भी इससे फ़ायदा उठा सकें जिनका शे'रो-शायरी से बहुत गहरा नाता नहीं रहा है। धूप में साये की दीवार उठाते जाएँ, ढंग जीने का ज़माने को सिखाते जाएँ, ख़ुद ही भर देंगे कोई रंग ज़माने वाले, हम तो एक सादा सी तस्वीर बनाते जाएँ। Shera aur shayri ki sabse badi khubi hai, uska zaban par chadh jana. Kisi bhi anya bhasha ki kavita shayad hi logon ko is tarah yaad rahti hai jaise urdu ki gazlen aur shera. Chhoti-chhoti laybaddh panktiyon mein zindagi ke rangon ko uker dene ki khasiyat ke chalte har khaso-am ko alag-alag mauqon par alag-alag mizaj ka she’ra kahte bahut aasani se suna ja sakta hai. Isi chiz ko maddenzar rakhte hue ye pustak taiyar ki gai hai, iska maqsad aisi shayri ko ek jagah ikattha karna hai jiska istemal na sirf aam pathak apni zindagi ke chunautipurn avasron par kar sakta hai, balki prbandhan padhanevale visheshagya bhi apne vaktavya ko zyada aamafham banane ke liye isse kaam le sakte hain. Prbandhan vishay ke jankar aur achchhi shayri ke parkhi dau. Pavan kumar sinh dvara taiyar ye pustak shikshkon, prshikshkon, prshaskon, prbandhkon, vidyarthiyon aur jannetaon sabhi ke liye saman rup se upyogi hai. Vikhyat aur kalajyi shayron ki rachnaon se saje is sanklan mein vishay ke anusar aasani se ichchhit shera mil saken, iske liye vishayvar vibhajan kiya gaya hai, taki ve log bhi isse fayda utha saken jinka shero-shayri se bahut gahra nata nahin raha hai. Dhup mein saye ki divar uthate jayen, dhang jine ka zamane ko sikhate jayen, khud hi bhar denge koi rang zamane vale, hum to ek sada si tasvir banate jayen.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products