BackBack

Jigari

Rs. 95

‘जिगरी’ अशोक कुमार का सर्वाधिक चर्चित और पुरस्कृत उपन्यास है, जिसे इन्होंने एक हफ़्ते तक एक मदारी के साथ रहकर उसके पेशे और उसके भालू के स्वाभाव-व्यवहार का अध्ययन करने के बाद लिखा था। ‘अमेरिकन तेलगू एसोसिएशन’ की उपन्यास लेखन प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार के लिए चुने जाने के बाद... Read More

Description

‘जिगरी’ अशोक कुमार का सर्वाधिक चर्चित और पुरस्कृत उपन्यास है, जिसे इन्होंने एक हफ़्ते तक एक मदारी के साथ रहकर उसके पेशे और उसके भालू के स्वाभाव-व्यवहार का अध्ययन करने के बाद लिखा था। ‘अमेरिकन तेलगू एसोसिएशन’ की उपन्यास लेखन प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार के लिए चुने जाने के बाद इसका यह हिन्दी अनुवाद 2008 में साहित्य अकादेमी की पत्रिका ‘समकालीन भारतीय साहित्य’ में प्रकाशित हुआ। उपन्यास की लोकप्रियता का यह प्रमाण है कि उस हिन्दी अनुवाद के आधार पर इसके मराठी, पंजाबी, ओड़िया, कन्नड़, बांग्ला, मैथिली आदि भाषाओं के अनुवाद पुस्तकाकार प्रकाशित हुए हैं। बाद में इसका अंग्रेज़ी अनुवाद भी प्रकाशित हुआ। अति संवेदनशील कथानक से युक्त इस उपन्यास में एक भालू और एक मदारी की कथा है, जिसमें मदारी की जीविका का आधार बने भालू के हाव-भाव, क्रिया-कलापों, क्रोध, अपनत्व आदि का तथा मदारी के साथ उसके आत्मीय सम्बन्धों का मार्मिक चित्रण किया गया है। यह है तो एक लघु उपन्यास पर सवाल बड़े खड़े कर देता है।
‘वन्य जीव संरक्षण क़ानून’ वन्य प्राणियों के संरक्षण की दिशा में एक स्वागतयोग्य क़दम है। लेकिन यहाँ यह भी सत्य है कि प्राणी और मनुष्य के बीच प्रेम और ममता का ऐसा मज़बूत सम्बन्ध होता है जो क़ानून का उल्लंघन भी लग सकता है। आज जब मानवीय संवेदनाएँ मन्द-दुर्बल पड़ती जा रही हैं, अधिकांशतः औपचारिक मात्र रह गई हैं, यह उपन्यास इन संवेदनाओं को बचाए रखने की आवश्यकता की ओर बरबस हमारा ध्यान खींचता है।
जीवन्त अनुवाद में प्रस्तुत एक अत्यन्त पठनीय उपन्यास। ‘jigri’ ashok kumar ka sarvadhik charchit aur puraskrit upanyas hai, jise inhonne ek hafte tak ek madari ke saath rahkar uske peshe aur uske bhalu ke svabhav-vyavhar ka adhyyan karne ke baad likha tha. ‘amerikan telgu esosiyeshan’ ki upanyas lekhan pratiyogita mein prtham puraskar ke liye chune jane ke baad iska ye hindi anuvad 2008 mein sahitya akademi ki patrika ‘samkalin bhartiy sahitya’ mein prkashit hua. Upanyas ki lokapriyta ka ye prman hai ki us hindi anuvad ke aadhar par iske marathi, panjabi, odiya, kannad, bangla, maithili aadi bhashaon ke anuvad pustkakar prkashit hue hain. Baad mein iska angrezi anuvad bhi prkashit hua. Ati sanvedanshil kathanak se yukt is upanyas mein ek bhalu aur ek madari ki katha hai, jismen madari ki jivika ka aadhar bane bhalu ke hav-bhav, kriya-kalapon, krodh, apnatv aadi ka tatha madari ke saath uske aatmiy sambandhon ka marmik chitran kiya gaya hai. Ye hai to ek laghu upanyas par saval bade khade kar deta hai. ‘vanya jiv sanrakshan qanun’ vanya praniyon ke sanrakshan ki disha mein ek svagatyogya qadam hai. Lekin yahan ye bhi satya hai ki prani aur manushya ke bich prem aur mamta ka aisa mazbut sambandh hota hai jo qanun ka ullanghan bhi lag sakta hai. Aaj jab manviy sanvednayen mand-durbal padti ja rahi hain, adhikanshatः aupcharik matr rah gai hain, ye upanyas in sanvednaon ko bachaye rakhne ki aavashyakta ki or barbas hamara dhyan khinchta hai.
Jivant anuvad mein prastut ek atyant pathniy upanyas.