Look Inside
Jhooth Ka Ped
Jhooth Ka Ped
Jhooth Ka Ped
Jhooth Ka Ped

Jhooth Ka Ped

Regular price Rs. 326
Sale price Rs. 326 Regular price Rs. 350
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Jhooth Ka Ped

Jhooth Ka Ped

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

प्रख्यात ओड़िया कथाकार ‘गौरहरि दास’ की कहानियाँ पहली नज़र में ही गाँवों के यथार्थपरक चित्रों और यादगार चरित्रों से पाठक को परिचित करा देती हैं। उनकी कहानियों में एक तरफ़ आम बोलचाल की सहज-सरल भाषा है तो दूसरी तरफ़ ओडिशा के भद्रक अंचल का सुवास, लेकिन वे अंचल विशेष के कथाकार नहीं हैं। संग्रह की नामधर्मा रचना 'झूठ का पेड़' हो या अन्य कहानी ‘घर’, वे गाँव को शहर से और शहर को गाँव से जोड़ देती हैं।
ओडिशा के जनजीवन को समग्रता में पेश करते हुए बिना किसी भाषायी या शिल्पगत चमत्कार के गौरहरि ने सृजन के शिखर छुए हैं, लेकिन इसके लिए उन्होंने न तो किसी देशी-विदेशी दर्शन का सहारा लिया, न ही किसी तरह के बौद्धिक तामझाम खड़े किए। जन-संचार माध्यमों से अपनी सम्पृक्ति के चलते वे जानते हैं कि जनधर्मी सृजन के लिए किसी दर्शन या वाद से जुड़ने के बजाय सामान्यजन से सीधे जुड़ना ज़्यादा उचित है; और हम जानते हैं कि गौरहरि देश के बड़े कथाकार-पत्रकार ही नहीं, आमजन के शुभेच्छु भी हैं।
ओडिशा के गाँवों और शहरों की प्राकृतिक सुषमा के साथ वहाँ की जीती-जागती ज़िन्दगी और अमीरी-ग़रीबी का संघर्ष देखना हो तो किसी समाजशास्त्री की पोथी पढ़ने के बजाय गौरहरि की कहानियाँ पढ़ना ज़्यादा उपयोगी होगा, क्योंकि समाज में व्याप्त ऊँच-नीच को चित्रित करते हुए नए-पुराने सामन्तवाद को भी गौरहरि ने प्रश्नाकुल दृष्टि से देखा है। वे अपने समाज की राई-रत्ती जानने के साथ उसे अभिव्यक्त करने की कला में भी पारंगत हैं। उनकी कहानियों में हम भारतीय चेतना के अन्तरंग चित्रों को साक्षात् देखते ही नहीं, महसूस भी करते हैं। Prakhyat odiya kathakar ‘gaurahari das’ ki kahaniyan pahli nazar mein hi ganvon ke yatharthaprak chitron aur yadgar charitron se pathak ko parichit kara deti hain. Unki kahaniyon mein ek taraf aam bolchal ki sahaj-saral bhasha hai to dusri taraf odisha ke bhadrak anchal ka suvas, lekin ve anchal vishesh ke kathakar nahin hain. Sangrah ki namdharma rachna jhuth ka ped ho ya anya kahani ‘ghar’, ve ganv ko shahar se aur shahar ko ganv se jod deti hain. Odisha ke janjivan ko samagrta mein pesh karte hue bina kisi bhashayi ya shilpgat chamatkar ke gaurahari ne srijan ke shikhar chhue hain, lekin iske liye unhonne na to kisi deshi-videshi darshan ka sahara liya, na hi kisi tarah ke bauddhik tamjham khade kiye. Jan-sanchar madhymon se apni samprikti ke chalte ve jante hain ki jandharmi srijan ke liye kisi darshan ya vaad se judne ke bajay samanyjan se sidhe judna zyada uchit hai; aur hum jante hain ki gaurahari desh ke bade kathakar-patrkar hi nahin, aamjan ke shubhechchhu bhi hain.
Odisha ke ganvon aur shahron ki prakritik sushma ke saath vahan ki jiti-jagti zindagi aur amiri-garibi ka sangharsh dekhna ho to kisi samajshastri ki pothi padhne ke bajay gaurahari ki kahaniyan padhna zyada upyogi hoga, kyonki samaj mein vyapt uunch-nich ko chitrit karte hue ne-purane samantvad ko bhi gaurahari ne prashnakul drishti se dekha hai. Ve apne samaj ki rai-ratti janne ke saath use abhivyakt karne ki kala mein bhi parangat hain. Unki kahaniyon mein hum bhartiy chetna ke antrang chitron ko sakshat dekhte hi nahin, mahsus bhi karte hain.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products