Look Inside
Jhoola Nat
Jhoola Nat

Jhoola Nat

Regular price Rs. 92
Sale price Rs. 92 Regular price Rs. 99
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Jhoola Nat

Jhoola Nat

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

गाँव की साधारण–सी औरत है शीलो—न बहुत सुन्दर और न बहुत सुघड़...लगभग अनपढ़—न उसने मनोविज्ञान पढ़ा है, न समाजशास्त्र जानती है। राजनीति और स्त्री–विमर्श की भाषा का भी उसे पता नहीं है। पति उसकी छाया से भागता है। मगर तिरस्कार, अपमान और उपेक्षा की यह मार न शीलो को कुएँ–बावड़ी की ओर धकेलती है, और न आग लगाकर छुटकारा पाने की ओर। वशीकरण के सारे तीर–तरकश टूट जाने के बाद उसके पास रह जाता है जीने का नि:शब्द संकल्प और श्रम की ताक़त एक अडिग धैर्य और स्त्री होने की जिजीविषा...उसे लगता है कि उसके हाथ की छठी अँगुली ही उसका भाग्य लिख रही है...और उसे ही बदलना होगा।
‘झूला नट’ की शीलो हिन्दी उपन्यास के कुछ न भूले जा सकनेवाले चरित्रों में एक है। बेहद आत्मीय, पारिवारिक सहजता के साथ मैत्रेयी ने इस जटिल कहानी की नायिका शीलो और उसकी ‘स्त्री–शक्ति’ को फ़ोकस किया है–––
पता नहीं ‘झूला नट’ शीलो की कहानी है या बालकिशन की! हाँ, अन्त तक, प्रकृति और पुरुष की यह ‘लीला’ एक अप्रत्याशित उदात्त अर्थ में ज़रूर उद्भासित होने लगती है।
निश्चय ही ‘झूला नट’ हिन्दी का एक विशिष्ट लघु उपन्यास है…। Ganv ki sadharan–si aurat hai shilo—na bahut sundar aur na bahut sughad. . . Lagbhag anpadh—na usne manovigyan padha hai, na samajshastr janti hai. Rajniti aur stri–vimarsh ki bhasha ka bhi use pata nahin hai. Pati uski chhaya se bhagta hai. Magar tiraskar, apman aur upeksha ki ye maar na shilo ko kuen–bavdi ki or dhakelti hai, aur na aag lagakar chhutkara pane ki or. Vashikran ke sare tir–tarkash tut jane ke baad uske paas rah jata hai jine ka ni:shabd sankalp aur shram ki taqat ek adig dhairya aur stri hone ki jijivisha. . . Use lagta hai ki uske hath ki chhathi anguli hi uska bhagya likh rahi hai. . . Aur use hi badalna hoga. ‘jhula nat’ ki shilo hindi upanyas ke kuchh na bhule ja saknevale charitron mein ek hai. Behad aatmiy, parivarik sahajta ke saath maitreyi ne is jatil kahani ki nayika shilo aur uski ‘stri–shakti’ ko fokas kiya hai–––
Pata nahin ‘jhula nat’ shilo ki kahani hai ya balakishan ki! han, ant tak, prkriti aur purush ki ye ‘lila’ ek apratyashit udatt arth mein zarur udbhasit hone lagti hai.
Nishchay hi ‘jhula nat’ hindi ka ek vishisht laghu upanyas hai….

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products