BackBack

Jharokhe

Bhishma Sahni

Rs. 125

Rajkamal Prakashan

‘झरोखे’ एक छोटे-से परिवार की व्यथा-कथा को प्रस्तुत करनेवाला मार्मिक उपन्यास है। लेखक ने एक छोटे-से बालक की आँखों से उस परिवार में घटनेवाली छोटी-छोटी घटनाओं को देखने और उनका उल्लेख करने की कोशिश की है। एक-एक घटना एक-एक प्रबल संस्कार बनकर आती है और परिवार के बच्चों के भावी... Read More

BlackBlack
Description

‘झरोखे’ एक छोटे-से परिवार की व्यथा-कथा को प्रस्तुत करनेवाला मार्मिक उपन्यास है। लेखक ने एक छोटे-से बालक की आँखों से उस परिवार में घटनेवाली छोटी-छोटी घटनाओं को देखने और उनका उल्लेख करने की कोशिश की है। एक-एक घटना एक-एक प्रबल संस्कार बनकर आती है और परिवार के बच्चों के भावी चरित्र की रूपरेखा गढ़ती चली जाती है। पारिवारिक जीवन में घटनेवाली घटनाएँ आम तौर पर अल्प और साधारण ही होती हैं, पर संस्कारों के रूप से उनका महत्त्व प्रचंड होता है। इन्हीं अल्प और साधारण लगनेवाली घटनाओं के नीचे ज़िन्दगी करवट लेती रहती है। यही छोटी-छोटी घटनाएँ पात्रों के जीवन में निर्णायक साबित होती हैं और उनकी ज़िन्दगी का रुख़ बदल देती हैं। एक छत के नीचे रहते हुए भी सभी की राहें अलग-अलग हैं। इसकी कथावस्तु में जहाँ एक ओर जीवन के उल्लसित क्षणों का चित्रण है, वहीं उसके दु:ख-दर्द और उसकी निर्मम गति का भी अविस्मरणीय रेखांकन हुआ है। ‘jharokhe’ ek chhote-se parivar ki vytha-katha ko prastut karnevala marmik upanyas hai. Lekhak ne ek chhote-se balak ki aankhon se us parivar mein ghatnevali chhoti-chhoti ghatnaon ko dekhne aur unka ullekh karne ki koshish ki hai. Ek-ek ghatna ek-ek prbal sanskar bankar aati hai aur parivar ke bachchon ke bhavi charitr ki ruprekha gadhti chali jati hai. Parivarik jivan mein ghatnevali ghatnayen aam taur par alp aur sadharan hi hoti hain, par sanskaron ke rup se unka mahattv prchand hota hai. Inhin alp aur sadharan lagnevali ghatnaon ke niche zindagi karvat leti rahti hai. Yahi chhoti-chhoti ghatnayen patron ke jivan mein nirnayak sabit hoti hain aur unki zindagi ka rukh badal deti hain. Ek chhat ke niche rahte hue bhi sabhi ki rahen alag-alag hain. Iski kathavastu mein jahan ek or jivan ke ullsit kshnon ka chitran hai, vahin uske du:kha-dard aur uski nirmam gati ka bhi avismarniy rekhankan hua hai.