BackBack
-11%

Jeevan Ke Din

Rs. 150 Rs. 134

ये लोक में टहलती हुई कविताएँ हैं। इन्होंने शहर की मुख्यधारा से सिर्फ़ लिपि उठाई है, बाक़ी सब इनका अपना है। नागर मुख्यधारा में रहते-बहते न इन कविताओं को रचा जा सकता है, न पढ़ा जा सकता है। इन्हें लिखने के लिए धीमी हवा की तरह बहते पानी की सतह... Read More

BlackBlack
Description

ये लोक में टहलती हुई कविताएँ हैं। इन्होंने शहर की मुख्यधारा से सिर्फ़ लिपि उठाई है, बाक़ी सब इनका अपना है। नागर मुख्यधारा में रहते-बहते न इन कविताओं को रचा जा सकता है, न पढ़ा जा सकता है। इन्हें लिखने के लिए धीमी हवा की तरह बहते पानी की सतह जैसा मन चाहिए होता है, जो निश्चय ही कवि के पास है। कवि ने इन कविताओं को जैसे धीरे-धीरे उड़ती चिडिय़ों के पंखों से फिसलते ही अपनी भाषा की पारदर्शी प्याली में थाम लिया है, और फिर काग़ज़ पर सहेज दिया है। इनमें दु:ख भी है, सुख भी है, अभाव भी है, प्रेम भी, बिछोह भी, जीवन भी और मृत्यु भी, और इन कविताओं को पढ़ते हुए वे सब प्रकृति के स्वभाव जितने नामालूम ढंग से, बिना कोई शोर मचाए हमारे आसपास साँस लेने लगते हैं। यही इन कविताओं की विशेषता है कि ये अपनी विषयवस्तु के साथ इस तरह एकमेक हैं कि आप इनका विश्लेषण परम्परागत समीक्षा-औज़ारों से नहीं कर सकते। ये अपने आप में सम्पूर्ण हैं; और जिस चित्र, जिस अनुभव को आप तक पहुँचाने के लिए उठती हैं, उसे बिना किसी बाह्य हस्तक्षेप के जस का तस आपके इर्द-गिर्द तम्‍बू की तरह तान देती हैं, और अनजाने आप अगली साँस उसकी हवा में लेते हैं।
संग्रह की एक कविता ‘गड़रिये’ जैसे इन कविताओं के मिज़ाज को व्यक्त करती है—‘वे निर्जन में रहते हैं/ इनसानों की संगत के वे उतने अभ्यस्त नहीं हैं जितने प्रकृति की संगत के/...वे झाड़ों के सामने खुलते हैं/वे झिट्टियों के लाल-पीले बेरों से बतियाते हैं/...वे आकाश में पैदल-पैदल जा रही बारिश के पीछे-पीछे/दूर तक जाते हैं अपने रेवड़ सहित...’
ये कविताएँ अपने परिवेश के समूचेपन में पैदल-पैदल चलते हुए सुच्‍चे फूलों की तरह जुटाई गई कविताएँ हैं; जिनका प्रतिरोध, जिनकी असहमति उनके होने-भर से रेखांकित होती है। वे एक वाचाल समाज को थिर, निर्निमेष दृष्टि से देखते हुए उसे उसकी व्यर्थता के प्रति सजग कर देती हैं, और उसके दम्‍भ को सन्देह से भर देती हैं। Ye lok mein tahalti hui kavitayen hain. Inhonne shahar ki mukhydhara se sirf lipi uthai hai, baqi sab inka apna hai. Nagar mukhydhara mein rahte-bahte na in kavitaon ko racha ja sakta hai, na padha ja sakta hai. Inhen likhne ke liye dhimi hava ki tarah bahte pani ki satah jaisa man chahiye hota hai, jo nishchay hi kavi ke paas hai. Kavi ne in kavitaon ko jaise dhire-dhire udti chidiyon ke pankhon se phisalte hi apni bhasha ki pardarshi pyali mein tham liya hai, aur phir kagaz par sahej diya hai. Inmen du:kha bhi hai, sukh bhi hai, abhav bhi hai, prem bhi, bichhoh bhi, jivan bhi aur mrityu bhi, aur in kavitaon ko padhte hue ve sab prkriti ke svbhav jitne namalum dhang se, bina koi shor machaye hamare aaspas sans lene lagte hain. Yahi in kavitaon ki visheshta hai ki ye apni vishayvastu ke saath is tarah ekmek hain ki aap inka vishleshan parampragat samiksha-auzaron se nahin kar sakte. Ye apne aap mein sampurn hain; aur jis chitr, jis anubhav ko aap tak pahunchane ke liye uthti hain, use bina kisi bahya hastakshep ke jas ka tas aapke ird-gird tam‍bu ki tarah taan deti hain, aur anjane aap agli sans uski hava mein lete hain. Sangrah ki ek kavita ‘gadariye’ jaise in kavitaon ke mizaj ko vyakt karti hai—‘ve nirjan mein rahte hain/ insanon ki sangat ke ve utne abhyast nahin hain jitne prkriti ki sangat ke/. . . Ve jhadon ke samne khulte hain/ve jhittiyon ke lal-pile beron se batiyate hain/. . . Ve aakash mein paidal-paidal ja rahi barish ke pichhe-pichhe/dur tak jate hain apne revad sahit. . . ’
Ye kavitayen apne parivesh ke samuchepan mein paidal-paidal chalte hue such‍che phulon ki tarah jutai gai kavitayen hain; jinka pratirodh, jinki asahamati unke hone-bhar se rekhankit hoti hai. Ve ek vachal samaj ko thir, nirnimesh drishti se dekhte hue use uski vyarthta ke prati sajag kar deti hain, aur uske dam‍bha ko sandeh se bhar deti hain.