Jeep Par Sawar Illiyan

Regular price Rs. 460
Sale price Rs. 460 Regular price Rs. 495
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Jeep Par Sawar Illiyan

Jeep Par Sawar Illiyan

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

प्रख्यात अंग्रेजी कवि और समालोचक मैथ्यू आर्नाल्ड ने कविता को जीवन की आलोचना कहा है, लेकिन आज सम्भवत: व्यंग्य ही साहित्य की एकमात्र विधा है जो जीवन से सीधा साक्षात्कार करती है।
व्यंग्यकार सतत जागरूक रहकर अपने परिवेश पर, जीवन और समाज की हर छोटी-से-छोटी घटना पर तटस्थ भाव से दृष्टिपात करता है और उसके आभ्यंतरिक स्वरूप का निर्मम अनावरण करता है। इसीलिए व्यंग्यकार का धर्म अन्य विधाओं में लिखनेवालों की अपेक्षा कठिन माना गया है, क्योंकि अपनी रचना- प्रक्रिया में उसे वाह्य विषयों के प्रति ही नहीं, स्वयं अपने प्रति भी निर्मम होना पड़ता है।
हिन्दी के सुपरिचित व्यंग्यकार शरद जोशी का यह संग्रह इस धर्म का पूरी मुस्तैदी के साथ निर्वाह करता है। धर्म, राजनीति, सामाजिक जीवन, व्यक्तिगत आचरण-कुछ भी यहाँ लेखक की पैनी नजर से बच नहीं पाया है और उनकी विसंगतियों का ऐसा मार्मिक उद्घाटन हुआ है कि पढ़नेवाला चकित होकर सोचने लगता है—अच्छा, इस मामूली-सी दिखनेवाली बात की असलियत यह है! वास्तव में प्रस्तुत निबन्ध-संग्रह की एक-एक रचना शरद जोशी की व्यंग्य-दृष्टि का सबलतम प्रमाण है। Prakhyat angreji kavi aur samalochak maithyu aarnald ne kavita ko jivan ki aalochna kaha hai, lekin aaj sambhvat: vyangya hi sahitya ki ekmatr vidha hai jo jivan se sidha sakshatkar karti hai. Vyangykar satat jagruk rahkar apne parivesh par, jivan aur samaj ki har chhoti-se-chhoti ghatna par tatasth bhav se drishtipat karta hai aur uske aabhyantrik svrup ka nirmam anavran karta hai. Isiliye vyangykar ka dharm anya vidhaon mein likhnevalon ki apeksha kathin mana gaya hai, kyonki apni rachna- prakriya mein use vahya vishyon ke prati hi nahin, svayan apne prati bhi nirmam hona padta hai.
Hindi ke suparichit vyangykar sharad joshi ka ye sangrah is dharm ka puri mustaidi ke saath nirvah karta hai. Dharm, rajniti, samajik jivan, vyaktigat aachran-kuchh bhi yahan lekhak ki paini najar se bach nahin paya hai aur unki visangatiyon ka aisa marmik udghatan hua hai ki padhnevala chakit hokar sochne lagta hai—achchha, is mamuli-si dikhnevali baat ki asaliyat ye hai! vastav mein prastut nibandh-sangrah ki ek-ek rachna sharad joshi ki vyangya-drishti ka sabaltam prman hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products