BackBack
-11%

Jeene Ka Udaatta Aashay

Rs. 600 Rs. 534

युवा कवि और आलोचक पंकज चतुर्वेदी की यह पुस्तक हमारे समय के वरिष्ठ कवि कुँवर नारायण की कविता पर केन्द्रित है। किसी भी विचारधारा के प्रभुत्व को स्वीकार करते हुए उन्होंने सत्य को एक विस्तृत पटल पर एक द्वन्द्वात्मक तथा बहुस्तरीय अवधारणा के रूप में आत्मसात् किया है। आदर्श और... Read More

Description

युवा कवि और आलोचक पंकज चतुर्वेदी की यह पुस्तक हमारे समय के वरिष्ठ कवि कुँवर नारायण की कविता पर केन्द्रित है। किसी भी विचारधारा के प्रभुत्व को स्वीकार करते हुए उन्होंने सत्य को एक विस्तृत पटल पर एक द्वन्द्वात्मक तथा बहुस्तरीय अवधारणा के रूप में आत्मसात् किया है।
आदर्श और यथार्थ, ज्ञान और संवेदना, समय और इतिहास की द्वन्द्वात्मक संहति से कुँवर नारायण की कविता संश्लिष्ट, गहन और विचारोत्तेजक घटित हुई है। उससे हम अपनी आत्मा को आलोकित और समृद्ध कर सकते हैं; क्योंकि उसमें वाग्जाल नहीं, एक मार्मिक पारदर्शिता और जीवन-सत्य का दुर्लब विवेक है।
लेखक ने इस पुस्तक के पहले निबन्ध में कुँवर नारायण के विचारों और उनकी समग्र काव्य-यात्रा से चुनी हुई कविताओं के विश्लेषण के ज़रिए उनकी काव्य-दृष्टि को समझने और उसका एक स्वरूप निर्मित करने की चेष्टा की है। बाद के निबन्धों में क्रमशः उनकी सभी काव्य-कृतियों का गहन और व्यापक मूल्यांकन किया गया है। बकौल लेखक, ‘शायद इसकी कोई सार्थकता है तो यह रेखांकित करने में कि कुँवर नारायण विचारों की बहुलता, दार्शनिक बेचैनी, आत्मवत्ता, प्रेम, जीवन की समृद्धि, सौन्दर्य, अपरिग्रह और सत्य के प्रति अदम्य आस्था के कवि ही नहीं; ग़ुलामी और अन्याय के विभिन्न रूपों के प्रति युयुत्सा और प्रतिरोध से सम्पन्न, गहरे विडम्बना-बोध, करुणा, व्यंग्य और परिवर्तन एवं प्रगति की कामना के भी कवि हैं।’ Yuva kavi aur aalochak pankaj chaturvedi ki ye pustak hamare samay ke varishth kavi kunvar narayan ki kavita par kendrit hai. Kisi bhi vichardhara ke prbhutv ko svikar karte hue unhonne satya ko ek vistrit patal par ek dvandvatmak tatha bahustriy avdharna ke rup mein aatmsat kiya hai. Aadarsh aur yatharth, gyan aur sanvedna, samay aur itihas ki dvandvatmak sanhati se kunvar narayan ki kavita sanshlisht, gahan aur vicharottejak ghatit hui hai. Usse hum apni aatma ko aalokit aur samriddh kar sakte hain; kyonki usmen vagjal nahin, ek marmik pardarshita aur jivan-satya ka durlab vivek hai.
Lekhak ne is pustak ke pahle nibandh mein kunvar narayan ke vicharon aur unki samagr kavya-yatra se chuni hui kavitaon ke vishleshan ke zariye unki kavya-drishti ko samajhne aur uska ek svrup nirmit karne ki cheshta ki hai. Baad ke nibandhon mein krmashः unki sabhi kavya-kritiyon ka gahan aur vyapak mulyankan kiya gaya hai. Bakaul lekhak, ‘shayad iski koi sarthakta hai to ye rekhankit karne mein ki kunvar narayan vicharon ki bahulta, darshnik bechaini, aatmvatta, prem, jivan ki samriddhi, saundarya, aprigrah aur satya ke prati adamya aastha ke kavi hi nahin; gulami aur anyay ke vibhinn rupon ke prati yuyutsa aur pratirodh se sampann, gahre vidambna-bodh, karuna, vyangya aur parivartan evan pragati ki kamna ke bhi kavi hain. ’