BackBack
-11%

Jati Vyavstha

Rs. 550 Rs. 490

यह पुस्तक देश में चलनेवाली सामाजिक मारकाट, ख़ासकर जातीय दंगों और आदिवासी समूहों के आन्दोलनों के कारणों को समझने की कोशिश में शुरू हुई। इन समस्याओं को अलग–अलग ढंग से देखने की जगह पूरी दुनिया में उभरे संकीर्णतावाद और सामाजिक समूहों के टकराव की आम प्रवृत्ति के सन्दर्भ में देखने... Read More

BlackBlack
Description

यह पुस्तक देश में चलनेवाली सामाजिक मारकाट, ख़ासकर जातीय दंगों और आदिवासी समूहों के आन्दोलनों के कारणों को समझने की कोशिश में शुरू हुई। इन समस्याओं को अलग–अलग ढंग से देखने की जगह पूरी दुनिया में उभरे संकीर्णतावाद और सामाजिक समूहों के टकराव की आम प्रवृत्ति के सन्दर्भ में देखने की कोशिश की गई है। इस परिप्रेक्ष्य में यह पुस्तक मुख्यत: जाति व्यवस्था की उत्पत्ति और उसकी वास्तविकता पर ध्यान केन्द्रित करती है।
इस पुस्तक का सबसे बड़ा हिस्सा जाति व्यवस्था की वास्तविकता की जाँच–पड़ताल वाला है। यह महसूस किया गया है कि जाति के सन्दर्भ में जिन बातों को वास्तविक मान लिया जाता है, उनका काफ़ी बड़ा हिस्सा काल्पनिक ही है और इससे ग़लत धारणा बनती है, ग़लत निष्कर्ष तक पहुँचा जाता है। ‘जाति पूर्वाग्रह और पराक्रम’ शीर्षकवाला अध्ययन इस मामले में कुछ बातों को बहुत खुले ढंग से बताता है। और एक अर्थ में यही इस अध्ययन का सबसे महत्त्वपूर्ण हिस्सा है जिससे अन्य निष्कर्ष भी निकाले जाने चाहिए।
इसमें जाति व्यवस्था से सम्बन्धित कुछ महत्त्वपूर्ण सिद्धान्तों की भी परीक्षा की गई है। होमो–हायरार्किकस वाले सिद्धान्त की कुछ ज़्यादा विस्तार से इसमें चर्चा की गई है, क्योंकि इससे इस विनाशकारी दृष्टि को बल मिल सकता है कि जाति व्यवस्था भारतीय मानस में व्याप्त स्वाभाविक भेदभाव का ही एक प्रतिफल है।
यह पुस्तक प्रमुख समाजशास्त्रीय सिद्धान्तों के ऊपर भी गम्भीर सवाल खड़े करती है जो सामाजिक यथार्थ के तार्किक और कार्यकारी पहलुओं पर ज़रूरत से ज़्यादा ज़ोर देते हैं। विचारोत्तेजक सामग्री से भरपूर यह पुस्तक निश्चय ही पाठकों को पसन्द आएगी। Ye pustak desh mein chalnevali samajik markat, khaskar jatiy dangon aur aadivasi samuhon ke aandolnon ke karnon ko samajhne ki koshish mein shuru hui. In samasyaon ko alag–alag dhang se dekhne ki jagah puri duniya mein ubhre sankirntavad aur samajik samuhon ke takrav ki aam prvritti ke sandarbh mein dekhne ki koshish ki gai hai. Is pariprekshya mein ye pustak mukhyat: jati vyvastha ki utpatti aur uski vastavikta par dhyan kendrit karti hai. Is pustak ka sabse bada hissa jati vyvastha ki vastavikta ki janch–padtal vala hai. Ye mahsus kiya gaya hai ki jati ke sandarbh mein jin baton ko vastvik maan liya jata hai, unka kafi bada hissa kalpnik hi hai aur isse galat dharna banti hai, galat nishkarsh tak pahuncha jata hai. ‘jati purvagrah aur parakram’ shirshakvala adhyyan is mamle mein kuchh baton ko bahut khule dhang se batata hai. Aur ek arth mein yahi is adhyyan ka sabse mahattvpurn hissa hai jisse anya nishkarsh bhi nikale jane chahiye.
Ismen jati vyvastha se sambandhit kuchh mahattvpurn siddhanton ki bhi pariksha ki gai hai. Homo–hayrarkikas vale siddhant ki kuchh zyada vistar se ismen charcha ki gai hai, kyonki isse is vinashkari drishti ko bal mil sakta hai ki jati vyvastha bhartiy manas mein vyapt svabhavik bhedbhav ka hi ek pratiphal hai.
Ye pustak prmukh samajshastriy siddhanton ke uupar bhi gambhir saval khade karti hai jo samajik yatharth ke tarkik aur karykari pahaluon par zarurat se zyada zor dete hain. Vicharottejak samagri se bharpur ye pustak nishchay hi pathkon ko pasand aaegi.