BackBack
-11%

Janos Arany : Kathageet evam Kavitayen

Rs. 350 Rs. 312

हंगरी में उस समय एक संघर्ष चला जिसके अन्तर्गत हंगेरियन संस्कृति एवं साहित्य की स्वायत्त और जीवन्त सांस्कृतिक जड़ों का महत्त्व प्रस्तुत किया गया। इन प्रयासों में हंगेरियन राष्ट्रीय अभिजात वर्ग की भूमिका अहम रही। राष्ट्रीय आदर्श यानोश आरन्य और पैतोफ़ि के कार्यों में प्रकट थे। राष्ट्रीय आभिजात्यवाद, मौखिक परम्परा... Read More

Description

हंगरी में उस समय एक संघर्ष चला जिसके अन्तर्गत हंगेरियन संस्कृति एवं साहित्य की स्वायत्त और जीवन्त सांस्कृतिक जड़ों का महत्त्व प्रस्तुत किया गया। इन प्रयासों में हंगेरियन राष्ट्रीय अभिजात वर्ग की भूमिका अहम रही। राष्ट्रीय आदर्श यानोश आरन्य और पैतोफ़ि के कार्यों में प्रकट थे। राष्ट्रीय आभिजात्यवाद, मौखिक परम्परा और साहित्यिक कार्य में जनता, किसान और अन्य सामाजिक समूहों को शामिल किया गया। ये अठारहवीं शताब्दी में शुरू हुआ और पैतोफ़ि और यानोश आरन्य के कार्यों में प्रभावशील रहा। पचास, साठ और सत्तर के दशक में पाल ज्युलोई (1826-1909) किश्फालुदी साहित्यिक संस्था के अध्यक्ष थे और बुडापेस्ट विश्वविद्यालय के प्राध्यापक रहे। पैतोफ़ि की मृत्यु के बाद पचास, साठ और सत्तर के दशक में राष्ट्रीय आभिजात्यवाद के प्रस्तुत होने के बाद आरन्य की कविताओं में परिपक्वता आई जोकि उनकी लघु कविताओं और अनुवाद-कार्य में दृष्टिगोचर होती है।
नाज्यकोरोश में स्थायी कार्य मिलने से पूर्व उन्हें तिसा परिवार में अध्यापन का कार्य मिला।
इस संग्रह में संकलित अधिकतर कविताएँ पचास के दशक में रची गई थीं मसलन ‘करार’, ‘मूँछ’ और ‘वो भी क्या दिन थे’; हालाँकि ‘विद्वान की बिल्ली’ कविता का रचनाकाल सन् 1847 है।
स्वतंत्रता-संग्राम की विफलता के बाद हंगेरियन साहित्यकारों ने काव्य-अभिव्यक्ति के नए रूपों की तलाश की। यह तलाश राष्ट्रीय आभिजात्यवाद के लिए भी महत्त्वपूर्ण थी जिसके तहत हंगेरियन पारिवारिक हालात को एक आदर्श रूप में दर्शाया गया। 'घरेलू गुफ़्तगू' कविता इसका एक उदाहरण है। Hangri mein us samay ek sangharsh chala jiske antargat hangeriyan sanskriti evan sahitya ki svayatt aur jivant sanskritik jadon ka mahattv prastut kiya gaya. In pryason mein hangeriyan rashtriy abhijat varg ki bhumika aham rahi. Rashtriy aadarsh yanosh aaranya aur paitofi ke karyon mein prkat the. Rashtriy aabhijatyvad, maukhik parampra aur sahityik karya mein janta, kisan aur anya samajik samuhon ko shamil kiya gaya. Ye atharahvin shatabdi mein shuru hua aur paitofi aur yanosh aaranya ke karyon mein prbhavshil raha. Pachas, saath aur sattar ke dashak mein paal jyuloi (1826-1909) kishphaludi sahityik sanstha ke adhyaksh the aur budapest vishvvidyalay ke pradhyapak rahe. Paitofi ki mrityu ke baad pachas, saath aur sattar ke dashak mein rashtriy aabhijatyvad ke prastut hone ke baad aaranya ki kavitaon mein paripakvta aai joki unki laghu kavitaon aur anuvad-karya mein drishtigochar hoti hai. Najykorosh mein sthayi karya milne se purv unhen tisa parivar mein adhyapan ka karya mila.
Is sangrah mein sanklit adhiktar kavitayen pachas ke dashak mein rachi gai thin maslan ‘karar’, ‘munchh’ aur ‘vo bhi kya din the’; halanki ‘vidvan ki billi’ kavita ka rachnakal san 1847 hai.
Svtantrta-sangram ki viphalta ke baad hangeriyan sahitykaron ne kavya-abhivyakti ke ne rupon ki talash ki. Ye talash rashtriy aabhijatyvad ke liye bhi mahattvpurn thi jiske tahat hangeriyan parivarik halat ko ek aadarsh rup mein darshaya gaya. Gharelu guftgu kavita iska ek udahran hai.