Jannayak Ho Chi Minh Aur Bharat

Regular price Rs. 326
Sale price Rs. 326 Regular price Rs. 350
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Jannayak Ho Chi Minh Aur Bharat

Jannayak Ho Chi Minh Aur Bharat

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

मानवता के इतिहास में ऐसे व्यक्ति विरल हैं जिन्होंने देशकाल की सीमाओं का अतिक्रमण कर समूचे विश्व को प्रेरित-प्रभावित किया है। ‘वियतनाम जनतांत्रिक गणतंत्र’ का महास्वप्न साकार करनेवाले जननायक हो चि मिन्ह ऐसे ही महान व्यक्ति थे। हो चि मिन्ह का नाम आज पूरे विश्व में समता-न्याय-स्वतंत्रता के लिए अनथक संघर्ष करनेवाले जनयोद्धा के रूप में आदर के साथ लिया जाता है। वस्तुतः हो के विषय में जानना व उनके व्यक्तित्व और विचारों का विश्लेषण करना प्रत्येक सचेत व्यक्ति के लिए अनिवार्य है। ‘जननायक हो चि मिन्ह और भारत’ पुस्तक में प्रबुद्ध लेखक गीतेश शर्मा ने हो के जीवन का प्रामाणिक परिचय देते हुए उनके अविस्मरणीय योगदान को रेखांकित किया है! लेखक के अनुसार, ‘भारत में हो चि मिन्ह की प्रशस्ति तो बहुत की गई, उनकी याद में कसीदे पढ़े गए, पर हो के दर्शन, उनकी जीवन-शैली, सिद्धन्तों-आदर्शों पर न तो कोई गम्भीर पुस्तक आई, न ही उन्हें सही परिप्रेक्ष्य में समझने की गम्भीर चेष्टा की गई।’
प्रस्तुत पुस्तक हो को समझने का एक गम्भीर उपक्रम है। हो का भारत के साथ भी एक अद्भुत सम्बन्ध रहा है। जनोन्मुख राजनीति करनेवालों, बुद्धिजीवियों व ज़िम्मेदार पाठकों के मन में हो की स्मृतियाँ जीवन्त हैं। गीतेश शर्मा ने हो और भारत के वैचारिक रिश्तों का प्रभावपूर्ण वर्णन किया है। हो के व्यक्तित्व और कृतित्व का यह लेखा-जोखा समस्त पाठकों को नई ऊर्जा से सम्पन्न करेगा। प्रतिबद्ध राजनीति से जुड़े व्यक्तियों को हो के विचार आज भी सकारात्मक दिशा दिखा सकते हैं।
सहज व पारदर्शी भाषा-शैली में लिखी गई यह पुस्तक आज के वैश्विक परिदृश्य में एक आलोक स्तम्भ की तरह है। Manavta ke itihas mein aise vyakti viral hain jinhonne deshkal ki simaon ka atikrman kar samuche vishv ko prerit-prbhavit kiya hai. ‘viyatnam jantantrik gantantr’ ka mahasvapn sakar karnevale jannayak ho chi minh aise hi mahan vyakti the. Ho chi minh ka naam aaj pure vishv mein samta-nyay-svtantrta ke liye anthak sangharsh karnevale janyoddha ke rup mein aadar ke saath liya jata hai. Vastutः ho ke vishay mein janna va unke vyaktitv aur vicharon ka vishleshan karna pratyek sachet vyakti ke liye anivarya hai. ‘jannayak ho chi minh aur bharat’ pustak mein prbuddh lekhak gitesh sharma ne ho ke jivan ka pramanik parichay dete hue unke avismarniy yogdan ko rekhankit kiya hai! lekhak ke anusar, ‘bharat mein ho chi minh ki prshasti to bahut ki gai, unki yaad mein kaside padhe ge, par ho ke darshan, unki jivan-shaili, siddhanton-adarshon par na to koi gambhir pustak aai, na hi unhen sahi pariprekshya mein samajhne ki gambhir cheshta ki gai. ’Prastut pustak ho ko samajhne ka ek gambhir upakram hai. Ho ka bharat ke saath bhi ek adbhut sambandh raha hai. Janonmukh rajniti karnevalon, buddhijiviyon va zimmedar pathkon ke man mein ho ki smritiyan jivant hain. Gitesh sharma ne ho aur bharat ke vaicharik rishton ka prbhavpurn varnan kiya hai. Ho ke vyaktitv aur krititv ka ye lekha-jokha samast pathkon ko nai uurja se sampann karega. Pratibaddh rajniti se jude vyaktiyon ko ho ke vichar aaj bhi sakaratmak disha dikha sakte hain.
Sahaj va pardarshi bhasha-shaili mein likhi gai ye pustak aaj ke vaishvik paridrishya mein ek aalok stambh ki tarah hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products