Look Inside
Janata Store
Janata Store

Janata Store

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Janata Store

Janata Store

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

नब्बे का दशक सामाजिक और राजनीतिक मूल्यों के लिए इस मायने में निर्णायक साबित हुआ कि अब तक के कई भीतरी विधि-निषेध इस दौर में आकर अपना असर अन्तत: खो बैठे। जीवन के दैनिक क्रियाकलाप में उनकी उपयोगिता को सन्दिग्ध पहले से ही महसूस किया जा रहा था लेकिन अब आकर जब खुले बाज़ार के चलते विश्व-भर की नैतिकताएँ एक दूसरे के सामने खड़ी हो गईं और एक दूसरे की निगाह से अपना मूल्यांकन करने लगीं तो सभी को अपना बहुत कुछ व्यर्थ लगने लगा और इसके चलते जो अब तक खोया था, उसे पाने की हताशा सर चढ़कर बोलने लगी।
मंडल के बाद जाति जिस तरह भारतीय समाज में एक नए विमर्श का बाना धरकर वापस आई, वह सत्तर और अस्सी के सामाजिक आदर्शवाद के लिए अकल्पनीय था। वृहत् विचारों की जगह अब जातियों के आधार पर अपनी अस्मिता की खोज होने लगी और राजनीति पहले जहाँ जातीय समीकरणों को वोटों में बदलने के लिए चुपके-चुपके गाँव की शरण लिया करती थी, उसका मौक़ा उसे अब शिक्षा के आधुनिक केन्द्रों में भी, खुलेआम मिलने लगा।
यह उपन्यास ऐसे ही एक शिक्षण-संस्थान के नए युवा की नई ज़ुबान और नई रफ़्तार में लिखी कहानी है। बड़े स्तर की राजनीति द्वारा छात्रशक्ति का दुरुपयोग, छात्रों के अपने जातिगत अहंकारों की लड़ाई, प्रेम त्रिकोण, छात्र-चुनाव, हिंसा, साज़‍िशें, हत्याएँ, बलात्कार जैसे इन सभी कहानियों के स्थायी चित्र बन गए हैं, वह सब इस उपन्यास में भी है और उसे इतने प्रामाणिक ढंग से चित्रित किया गया है कि ख़ुद ही हम यह सोचने पर बाध्य हो जाते हैं कि अस्मिताओं की पहचान और विचार के विकेन्द्रीकरण को हमने सोवियत संघ के विघटन के बाद जितनी उम्मीद से देखा था, कहीं वह कोई बहुत बड़ा भटकाव तो नहीं था? लेकिन अच्छी बात यह है कि इक्कीसवीं सदी के डेढ़ दशक बीत जाने के बाद अब उस भटकाव का आत्मविश्वास कम होने लगा है और नई पीढ़ी एक बड़े फ़लक पर, ज़्यादा वयस्क और विस्तृत सोच की खोज करती दिखाई दे रही है। Nabbe ka dashak samajik aur rajnitik mulyon ke liye is mayne mein nirnayak sabit hua ki ab tak ke kai bhitri vidhi-nishedh is daur mein aakar apna asar antat: kho baithe. Jivan ke dainik kriyaklap mein unki upyogita ko sandigdh pahle se hi mahsus kiya ja raha tha lekin ab aakar jab khule bazar ke chalte vishv-bhar ki naitiktayen ek dusre ke samne khadi ho gain aur ek dusre ki nigah se apna mulyankan karne lagin to sabhi ko apna bahut kuchh vyarth lagne laga aur iske chalte jo ab tak khoya tha, use pane ki hatasha sar chadhkar bolne lagi. Mandal ke baad jati jis tarah bhartiy samaj mein ek ne vimarsh ka bana dharkar vapas aai, vah sattar aur assi ke samajik aadarshvad ke liye akalpniy tha. Vrihat vicharon ki jagah ab jatiyon ke aadhar par apni asmita ki khoj hone lagi aur rajniti pahle jahan jatiy samikarnon ko voton mein badalne ke liye chupke-chupke ganv ki sharan liya karti thi, uska mauqa use ab shiksha ke aadhunik kendron mein bhi, khuleam milne laga.
Ye upanyas aise hi ek shikshan-sansthan ke ne yuva ki nai zuban aur nai raphtar mein likhi kahani hai. Bade star ki rajniti dvara chhatrshakti ka durupyog, chhatron ke apne jatigat ahankaron ki ladai, prem trikon, chhatr-chunav, hinsa, saz‍ishen, hatyayen, balatkar jaise in sabhi kahaniyon ke sthayi chitr ban ge hain, vah sab is upanyas mein bhi hai aur use itne pramanik dhang se chitrit kiya gaya hai ki khud hi hum ye sochne par badhya ho jate hain ki asmitaon ki pahchan aur vichar ke vikendrikran ko hamne soviyat sangh ke vightan ke baad jitni ummid se dekha tha, kahin vah koi bahut bada bhatkav to nahin tha? lekin achchhi baat ye hai ki ikkisvin sadi ke dedh dashak bit jane ke baad ab us bhatkav ka aatmvishvas kam hone laga hai aur nai pidhi ek bade falak par, zyada vayask aur vistrit soch ki khoj karti dikhai de rahi hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products