Look Inside
Jal Thal Mal
Jal Thal Mal

Jal Thal Mal

Regular price Rs. 278
Sale price Rs. 278 Regular price Rs. 299
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Jal Thal Mal

Jal Thal Mal

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

हर प्राणी प्रकृति के अपार रसों का एक संग्रह होता है। मिट्टी, पानी और हवा के उर्वरकों का एक गठबन्धन। फिर चाहे वह एक कोशिका वाला बैक्टीरिया हो या विराटाकार नीला व्हेल। जब किसी जीव की मृत्यु होती है, तब यह रचना टूट जाती है। सभी रस और उर्वरक अपने मूल स्वरूप में लौट जाते हैं, फिर दूसरे जीवी को जन्म देते हैं।
हर प्राणी सभी रसों का उपयोग नहीं कर सकता। हर जीव जितना हिस्सा भोग सकता है उतना भोगता है, जो नहीं पुसाता उसे त्याग देता है। यही ‘कचरा’ या ‘अपशिष्ट’ दूसरे जीवों के लिए ‘संसाधन’ बन जाता है, किसी और के काम आता है। दूसरे जीवों से लेन-देन किए बिना कोई भी प्राणी जी नहीं सकता। हम भी नहीं। प्रकृति में कुछ भी कूड़ा-करकट नहीं होता। न कचरा, न मैला, न अपशिष्ट ही।
हमारा भोजन मिट्टी से आता है। प्रकृति का नियम है कि मिट्टी से निकले रस वापस मिट्टी में जाने चाहिए। जहाँ का माल है, वहीं लौटना चाहिए। हम जो भी खाते हैं, वह अगले दिन मल-मूत्र बन के हमारे शरीर से निकल जाता है। सहज रूप में उसका संस्कार मिट्टी में ही होना चाहिए। खाद्य पदार्थ की फिर से खाद बननी चाहिए।
किन्तु आधुनिक स्वच्छता व्यवस्था हमारे मल-मूत्र को पानी में डालने लगी है। इससे हमारे जल-स्रोत दूषित हो रहे हैं, मिट्टी बंजर हो रही है। हमारा मल-मूत्र भी चौगुना हुआ है। लेकिन उसे ठिकाने लगाने के तरीक़े चौगुने नहीं हुए हैं। हमारी स्वच्छता आज प्रकृति के साथ युद्ध बन चुकी है।
यह किताब जल-थल-मल के इस बिगड़ते रिश्ते को क़ुदरत की नज़र से देखती है। इसमें उन लोगों का भी वर्णन है जिनके लिए सफ़ाई प्रकृति को बिगाड़ने का नहीं, निखारने का तरीक़ा है। उनकी स्वच्छता में शुचिता है, सामाजिकता है। जल, थल और मल का सुगम संयोग है। Har prani prkriti ke apar rason ka ek sangrah hota hai. Mitti, pani aur hava ke urvarkon ka ek gathbandhan. Phir chahe vah ek koshika vala baiktiriya ho ya viratakar nila vhel. Jab kisi jiv ki mrityu hoti hai, tab ye rachna tut jati hai. Sabhi ras aur urvrak apne mul svrup mein laut jate hain, phir dusre jivi ko janm dete hain. Har prani sabhi rason ka upyog nahin kar sakta. Har jiv jitna hissa bhog sakta hai utna bhogta hai, jo nahin pusata use tyag deta hai. Yahi ‘kachra’ ya ‘apshisht’ dusre jivon ke liye ‘sansadhan’ ban jata hai, kisi aur ke kaam aata hai. Dusre jivon se len-den kiye bina koi bhi prani ji nahin sakta. Hum bhi nahin. Prkriti mein kuchh bhi kuda-karkat nahin hota. Na kachra, na maila, na apshisht hi.
Hamara bhojan mitti se aata hai. Prkriti ka niyam hai ki mitti se nikle ras vapas mitti mein jane chahiye. Jahan ka maal hai, vahin lautna chahiye. Hum jo bhi khate hain, vah agle din mal-mutr ban ke hamare sharir se nikal jata hai. Sahaj rup mein uska sanskar mitti mein hi hona chahiye. Khadya padarth ki phir se khad banni chahiye.
Kintu aadhunik svachchhta vyvastha hamare mal-mutr ko pani mein dalne lagi hai. Isse hamare jal-srot dushit ho rahe hain, mitti banjar ho rahi hai. Hamara mal-mutr bhi chauguna hua hai. Lekin use thikane lagane ke tariqe chaugune nahin hue hain. Hamari svachchhta aaj prkriti ke saath yuddh ban chuki hai.
Ye kitab jal-thal-mal ke is bigadte rishte ko qudrat ki nazar se dekhti hai. Ismen un logon ka bhi varnan hai jinke liye safai prkriti ko bigadne ka nahin, nikharne ka tariqa hai. Unki svachchhta mein shuchita hai, samajikta hai. Jal, thal aur mal ka sugam sanyog hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products