BackBack
-5%Sold out
Look Inside

Jahalat Ke Pachas Saal

Rs. 1,113 Rs. 1,057

श्रीलाल शुक्ल के रचना संसार की सबसे बड़ी शक्ति है—व्यंग्य। शायद ही कोई दूसरा लेखक हो जिसने व्यंग्य का इतना विपुल, विविध और बहुआयामी उपयोग किया हो। ऐसे अद्वितीय लेखक श्रीलाल शुक्ल के लगभग सभी व्यंग्य निबन्धों का संग्रह है—'जहालत के पचास साल’। इस तरह देखें तो इस पुस्तक का... Read More

readsample_tab

श्रीलाल शुक्ल के रचना संसार की सबसे बड़ी शक्ति है—व्यंग्य। शायद ही कोई दूसरा लेखक हो जिसने व्यंग्य का इतना विपुल, विविध और बहुआयामी उपयोग किया हो। ऐसे अद्वितीय लेखक श्रीलाल शुक्ल के लगभग सभी व्यंग्य निबन्धों का संग्रह है—'जहालत के पचास साल’। इस तरह देखें तो इस पुस्तक का प्रकाशन हिन्दी जगत में एक महत्त्वपूर्ण घटना तो है ही, यह एक अति विशिष्ट लेखक श्रीलाल शुक्ल के व्यंग्य की दुनिया को भली-भाँति जानने, समझने और उसमें सैर करने का दुर्लभ अवसर भी जुटाता है। 'जहालत के पचास साल’ की रचनाएँ आधुनिक भारत के महान से महान व्यक्तियों, संस्थाओं, अवधारणाओं, घोषणाओं, नारों की भी गल्तियों को नहीं बख्शतीं। समाज, सभ्यता और संस्कृति के किसी भी हिस्से की चूक पर श्रीलाल शुक्ल के व्यंग्य की बेधक मार के निशानों से भरी पड़ी है यह किताब। यह कहने में हर्ज नहीं कि यदि आ$जादी के बाद के भारत का असली चेहरा देखना हो तो वह समाजशास्त्र और पत्रकारिता से भी ज्यादा प्रामाणिक और चाक्षुष दिखेगा 'जहालत के पचास साल’ में। 'जहालत के पचास साल’ की रचनात्मक उत्कृष्टता का एक स्रोत यह है कि इसके व्यंग्य और हल्के-फुल्केपन के पीछे श्रीलाल शुक्ल का गहन अध्यवसाय, समय की सच्ची समझ और मनुष्यता के प्रति गहरे सरोकार का बल सक्रिय रहता है। इस संग्रह की रचनाएँ औसत समाज और औसत व्यंग्य-लेखन—दोनों को—कड़ी चुनौती देती हैं और फटकार लगाती हैं। संक्षेप में कहा जाए तो 'जहालत के पचास साल’ में भारतीय सत्ता और समाज की कारगुजारियों से सीधी भिड़ंत है। इस लड़ाई में भाषा के लिए एक से बढ़कर एक अमोघ अस्त्र तैयार करते हैं श्रीलाल शुक्ल। Shrilal shukl ke rachna sansar ki sabse badi shakti hai—vyangya. Shayad hi koi dusra lekhak ho jisne vyangya ka itna vipul, vividh aur bahuayami upyog kiya ho. Aise advitiy lekhak shrilal shukl ke lagbhag sabhi vyangya nibandhon ka sangrah hai—jahalat ke pachas sal’. Is tarah dekhen to is pustak ka prkashan hindi jagat mein ek mahattvpurn ghatna to hai hi, ye ek ati vishisht lekhak shrilal shukl ke vyangya ki duniya ko bhali-bhanti janne, samajhne aur usmen sair karne ka durlabh avsar bhi jutata hai. Jahalat ke pachas sal’ ki rachnayen aadhunik bharat ke mahan se mahan vyaktiyon, sansthaon, avdharnaon, ghoshnaon, naron ki bhi galtiyon ko nahin bakhshtin. Samaj, sabhyta aur sanskriti ke kisi bhi hisse ki chuk par shrilal shukl ke vyangya ki bedhak maar ke nishanon se bhari padi hai ye kitab. Ye kahne mein harj nahin ki yadi aa$jadi ke baad ke bharat ka asli chehra dekhna ho to vah samajshastr aur patrkarita se bhi jyada pramanik aur chakshush dikhega jahalat ke pachas sal’ mein. Jahalat ke pachas sal’ ki rachnatmak utkrishtta ka ek srot ye hai ki iske vyangya aur halke-phulkepan ke pichhe shrilal shukl ka gahan adhyavsay, samay ki sachchi samajh aur manushyta ke prati gahre sarokar ka bal sakriy rahta hai. Is sangrah ki rachnayen ausat samaj aur ausat vyangya-lekhan—donon ko—kadi chunauti deti hain aur phatkar lagati hain. Sankshep mein kaha jaye to jahalat ke pachas sal’ mein bhartiy satta aur samaj ki karagujariyon se sidhi bhidant hai. Is ladai mein bhasha ke liye ek se badhkar ek amogh astr taiyar karte hain shrilal shukl.

Description

श्रीलाल शुक्ल के रचना संसार की सबसे बड़ी शक्ति है—व्यंग्य। शायद ही कोई दूसरा लेखक हो जिसने व्यंग्य का इतना विपुल, विविध और बहुआयामी उपयोग किया हो। ऐसे अद्वितीय लेखक श्रीलाल शुक्ल के लगभग सभी व्यंग्य निबन्धों का संग्रह है—'जहालत के पचास साल’। इस तरह देखें तो इस पुस्तक का प्रकाशन हिन्दी जगत में एक महत्त्वपूर्ण घटना तो है ही, यह एक अति विशिष्ट लेखक श्रीलाल शुक्ल के व्यंग्य की दुनिया को भली-भाँति जानने, समझने और उसमें सैर करने का दुर्लभ अवसर भी जुटाता है। 'जहालत के पचास साल’ की रचनाएँ आधुनिक भारत के महान से महान व्यक्तियों, संस्थाओं, अवधारणाओं, घोषणाओं, नारों की भी गल्तियों को नहीं बख्शतीं। समाज, सभ्यता और संस्कृति के किसी भी हिस्से की चूक पर श्रीलाल शुक्ल के व्यंग्य की बेधक मार के निशानों से भरी पड़ी है यह किताब। यह कहने में हर्ज नहीं कि यदि आ$जादी के बाद के भारत का असली चेहरा देखना हो तो वह समाजशास्त्र और पत्रकारिता से भी ज्यादा प्रामाणिक और चाक्षुष दिखेगा 'जहालत के पचास साल’ में। 'जहालत के पचास साल’ की रचनात्मक उत्कृष्टता का एक स्रोत यह है कि इसके व्यंग्य और हल्के-फुल्केपन के पीछे श्रीलाल शुक्ल का गहन अध्यवसाय, समय की सच्ची समझ और मनुष्यता के प्रति गहरे सरोकार का बल सक्रिय रहता है। इस संग्रह की रचनाएँ औसत समाज और औसत व्यंग्य-लेखन—दोनों को—कड़ी चुनौती देती हैं और फटकार लगाती हैं। संक्षेप में कहा जाए तो 'जहालत के पचास साल’ में भारतीय सत्ता और समाज की कारगुजारियों से सीधी भिड़ंत है। इस लड़ाई में भाषा के लिए एक से बढ़कर एक अमोघ अस्त्र तैयार करते हैं श्रीलाल शुक्ल। Shrilal shukl ke rachna sansar ki sabse badi shakti hai—vyangya. Shayad hi koi dusra lekhak ho jisne vyangya ka itna vipul, vividh aur bahuayami upyog kiya ho. Aise advitiy lekhak shrilal shukl ke lagbhag sabhi vyangya nibandhon ka sangrah hai—jahalat ke pachas sal’. Is tarah dekhen to is pustak ka prkashan hindi jagat mein ek mahattvpurn ghatna to hai hi, ye ek ati vishisht lekhak shrilal shukl ke vyangya ki duniya ko bhali-bhanti janne, samajhne aur usmen sair karne ka durlabh avsar bhi jutata hai. Jahalat ke pachas sal’ ki rachnayen aadhunik bharat ke mahan se mahan vyaktiyon, sansthaon, avdharnaon, ghoshnaon, naron ki bhi galtiyon ko nahin bakhshtin. Samaj, sabhyta aur sanskriti ke kisi bhi hisse ki chuk par shrilal shukl ke vyangya ki bedhak maar ke nishanon se bhari padi hai ye kitab. Ye kahne mein harj nahin ki yadi aa$jadi ke baad ke bharat ka asli chehra dekhna ho to vah samajshastr aur patrkarita se bhi jyada pramanik aur chakshush dikhega jahalat ke pachas sal’ mein. Jahalat ke pachas sal’ ki rachnatmak utkrishtta ka ek srot ye hai ki iske vyangya aur halke-phulkepan ke pichhe shrilal shukl ka gahan adhyavsay, samay ki sachchi samajh aur manushyta ke prati gahre sarokar ka bal sakriy rahta hai. Is sangrah ki rachnayen ausat samaj aur ausat vyangya-lekhan—donon ko—kadi chunauti deti hain aur phatkar lagati hain. Sankshep mein kaha jaye to jahalat ke pachas sal’ mein bhartiy satta aur samaj ki karagujariyon se sidhi bhidant hai. Is ladai mein bhasha ke liye ek se badhkar ek amogh astr taiyar karte hain shrilal shukl.

Additional Information
Book Type

Paperback

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year

Jahalat Ke Pachas Saal

श्रीलाल शुक्ल के रचना संसार की सबसे बड़ी शक्ति है—व्यंग्य। शायद ही कोई दूसरा लेखक हो जिसने व्यंग्य का इतना विपुल, विविध और बहुआयामी उपयोग किया हो। ऐसे अद्वितीय लेखक श्रीलाल शुक्ल के लगभग सभी व्यंग्य निबन्धों का संग्रह है—'जहालत के पचास साल’। इस तरह देखें तो इस पुस्तक का प्रकाशन हिन्दी जगत में एक महत्त्वपूर्ण घटना तो है ही, यह एक अति विशिष्ट लेखक श्रीलाल शुक्ल के व्यंग्य की दुनिया को भली-भाँति जानने, समझने और उसमें सैर करने का दुर्लभ अवसर भी जुटाता है। 'जहालत के पचास साल’ की रचनाएँ आधुनिक भारत के महान से महान व्यक्तियों, संस्थाओं, अवधारणाओं, घोषणाओं, नारों की भी गल्तियों को नहीं बख्शतीं। समाज, सभ्यता और संस्कृति के किसी भी हिस्से की चूक पर श्रीलाल शुक्ल के व्यंग्य की बेधक मार के निशानों से भरी पड़ी है यह किताब। यह कहने में हर्ज नहीं कि यदि आ$जादी के बाद के भारत का असली चेहरा देखना हो तो वह समाजशास्त्र और पत्रकारिता से भी ज्यादा प्रामाणिक और चाक्षुष दिखेगा 'जहालत के पचास साल’ में। 'जहालत के पचास साल’ की रचनात्मक उत्कृष्टता का एक स्रोत यह है कि इसके व्यंग्य और हल्के-फुल्केपन के पीछे श्रीलाल शुक्ल का गहन अध्यवसाय, समय की सच्ची समझ और मनुष्यता के प्रति गहरे सरोकार का बल सक्रिय रहता है। इस संग्रह की रचनाएँ औसत समाज और औसत व्यंग्य-लेखन—दोनों को—कड़ी चुनौती देती हैं और फटकार लगाती हैं। संक्षेप में कहा जाए तो 'जहालत के पचास साल’ में भारतीय सत्ता और समाज की कारगुजारियों से सीधी भिड़ंत है। इस लड़ाई में भाषा के लिए एक से बढ़कर एक अमोघ अस्त्र तैयार करते हैं श्रीलाल शुक्ल। Shrilal shukl ke rachna sansar ki sabse badi shakti hai—vyangya. Shayad hi koi dusra lekhak ho jisne vyangya ka itna vipul, vividh aur bahuayami upyog kiya ho. Aise advitiy lekhak shrilal shukl ke lagbhag sabhi vyangya nibandhon ka sangrah hai—jahalat ke pachas sal’. Is tarah dekhen to is pustak ka prkashan hindi jagat mein ek mahattvpurn ghatna to hai hi, ye ek ati vishisht lekhak shrilal shukl ke vyangya ki duniya ko bhali-bhanti janne, samajhne aur usmen sair karne ka durlabh avsar bhi jutata hai. Jahalat ke pachas sal’ ki rachnayen aadhunik bharat ke mahan se mahan vyaktiyon, sansthaon, avdharnaon, ghoshnaon, naron ki bhi galtiyon ko nahin bakhshtin. Samaj, sabhyta aur sanskriti ke kisi bhi hisse ki chuk par shrilal shukl ke vyangya ki bedhak maar ke nishanon se bhari padi hai ye kitab. Ye kahne mein harj nahin ki yadi aa$jadi ke baad ke bharat ka asli chehra dekhna ho to vah samajshastr aur patrkarita se bhi jyada pramanik aur chakshush dikhega jahalat ke pachas sal’ mein. Jahalat ke pachas sal’ ki rachnatmak utkrishtta ka ek srot ye hai ki iske vyangya aur halke-phulkepan ke pichhe shrilal shukl ka gahan adhyavsay, samay ki sachchi samajh aur manushyta ke prati gahre sarokar ka bal sakriy rahta hai. Is sangrah ki rachnayen ausat samaj aur ausat vyangya-lekhan—donon ko—kadi chunauti deti hain aur phatkar lagati hain. Sankshep mein kaha jaye to jahalat ke pachas sal’ mein bhartiy satta aur samaj ki karagujariyon se sidhi bhidant hai. Is ladai mein bhasha ke liye ek se badhkar ek amogh astr taiyar karte hain shrilal shukl.