BackBack
-11%

Jab Prashnchinh Bokhla Uthe

Rs. 195 Rs. 174

गजानन माधव मुक्तिबोध का कवि हमारी साझा साहित्यिक स्मृति में एक अविकल रूप से सजग और जाग्रत उपस्थिति है। उनकी कविताएँ उस कवि की अभिव्यक्तियाँ हैं जो अपने एक भी शब्द, एक भी भाव के प्रति कामचलाऊ रवैया नहीं अपनाता। यही दृष्टि व्यक्ति और विचारक मुक्तिबोध की अपने समाज और... Read More

Description

गजानन माधव मुक्तिबोध का कवि हमारी साझा साहित्यिक स्मृति में एक अविकल रूप से सजग और जाग्रत उपस्थिति है। उनकी कविताएँ उस कवि की अभिव्यक्तियाँ हैं जो अपने एक भी शब्द, एक भी भाव के प्रति कामचलाऊ रवैया नहीं अपनाता। यही दृष्टि व्यक्ति और विचारक मुक्तिबोध की अपने समाज और संसार के प्रति भी है।
इस पुस्तक में संकलित उनके राजनीतिक निबन्ध यह सिद्ध करने के लिए पर्याप्त हैं कि सच्ची कविता अपने समय-संसार के साथ सच्चे और ईमानदार सरोकारों के बिना सम्भव नहीं है। अपने समय की राष्ट्रीय और अन्तरराष्ट्रीय राजनीतिक, आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक स्थितियों पर मुक्तिबोध न सिर्फ़ पैनी निगाह रखते थे, बल्कि बराबर उन पर लिखते भी थे।
वे ‘सारथी’ में लगभग हर सप्ताह ‘यौगन्धरायण’, ‘अवन्तीलाल गुप्त’ और ‘विंध्येश्वरी प्रसाद’ आदि छद्म नामों से लिखा करते थे। इस संग्रह में ‘मुक्तिबोध रचनावली’ के प्रकाशन के बाद प्राप्त उनके राजनीतिक निबन्धों को संकलित किया गया है। कहने की ज़रूरत नहीं कि इस सामग्री से पाठकों को मुक्तिबोध की विश्वदृष्टि, चिन्तन की व्यापकता और सरोकारों की गहराई के नए आयाम देखने को मिलेंगे। Gajanan madhav muktibodh ka kavi hamari sajha sahityik smriti mein ek avikal rup se sajag aur jagrat upasthiti hai. Unki kavitayen us kavi ki abhivyaktiyan hain jo apne ek bhi shabd, ek bhi bhav ke prati kamachlau ravaiya nahin apnata. Yahi drishti vyakti aur vicharak muktibodh ki apne samaj aur sansar ke prati bhi hai. Is pustak mein sanklit unke rajnitik nibandh ye siddh karne ke liye paryapt hain ki sachchi kavita apne samay-sansar ke saath sachche aur iimandar sarokaron ke bina sambhav nahin hai. Apne samay ki rashtriy aur antarrashtriy rajnitik, aarthik, samajik aur sanskritik sthitiyon par muktibodh na sirf paini nigah rakhte the, balki barabar un par likhte bhi the.
Ve ‘sarthi’ mein lagbhag har saptah ‘yaugandhrayan’, ‘avantilal gupt’ aur ‘vindhyeshvri prsad’ aadi chhadm namon se likha karte the. Is sangrah mein ‘muktibodh rachnavli’ ke prkashan ke baad prapt unke rajnitik nibandhon ko sanklit kiya gaya hai. Kahne ki zarurat nahin ki is samagri se pathkon ko muktibodh ki vishvdrishti, chintan ki vyapakta aur sarokaron ki gahrai ke ne aayam dekhne ko milenge.