BackBack
-11%

Itihas, Sanskriti Aur Sampradayikta

Rs. 695 Rs. 619

गुणाकर मुळे को हम विज्ञान विषयों के लेखक के रूप में जानते हैं। उन्होंने हिन्‍दी पाठकों को सरलतम शब्दावली में विज्ञान की कठिन अवधारणाओं, आविष्कारों और खोजों से परिचित कराया। लेकिन उनके लेखन का उद्‌देश्य वैज्ञानिक दृष्टि को आमजन की जीवन-शैली और विचार का हिस्सा बनाना था। इसीलिए उन्होंने शुद्ध... Read More

Description

गुणाकर मुळे को हम विज्ञान विषयों के लेखक के रूप में जानते हैं। उन्होंने हिन्‍दी पाठकों को सरलतम शब्दावली में विज्ञान की कठिन अवधारणाओं, आविष्कारों और खोजों से परिचित कराया। लेकिन उनके लेखन का उद्‌देश्य वैज्ञानिक दृष्टि को आमजन की जीवन-शैली और विचार का हिस्सा बनाना था। इसीलिए उन्होंने शुद्ध सूचनात्मक वैज्ञानिक लेखक के साथ संस्कृति, समाज, धर्म, अंधविश्वास आदि पर भी हमेशा लिखा। मार्क्सवाद उनकी वैचारिक भूमि रहा और आधुनिक जीवन-मूल्य उनके अभीष्ट। यह किताब उनके ऐसे ही लेखन का संकलन है जिसमें संस्कृति, धर्म, हिन्‍दुत्व की राजनीति, आर्यों का मूल आदि विभिन्न विषयों पर उनका लेखन शामिल है। पाठक इन लेखों में काफ़ी कुछ नया पाएँगे।
रामकथा को लीजिए। आज राम को लेकर देश में साम्‍प्रदायिक तनाव पैदा करने के प्रयास जारी हैं। मगर राम काफ़ी हद तक एक मिथकीय चरित्र है, इस बात के पर्याप्त सबूत वाल्मीकि-रामायण में ही मौजूद हैं।
शिवाजी जैसे कई ऐतिहासिक चरित्रों को विकृत रूप में पेश करके मुस्लिम-द्वेष को उभारने के प्रयास हो रहे हैं। मगर प्रामाणिक इतिहास इस बात की गवाही देता है कि शिवाजी रत्ती-भर भी मुस्लिम-द्वेषी नहीं थे। इस बात को 'ऐसा था शिवाजी का राजधर्म' लेख में स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है।
इधर के वर्षों में देश में धार्मिक असहिष्णुता और साम्‍प्रदायिकता में तेज़ी से वृद्धि हुई है। इस पर रोक लगाने के लिए आम जनता को शिक्षित करना अत्यावश्यक है—उनकी अपनी भाषा में। साम्‍प्रदायिकता अपने प्रचार-प्रसार के लिए आम जनता की भाषा का भरपूर उपयोग कर रही है। साम्‍प्रदायिकता के प्रतिकार के लिए भी जनता की भाषा का ही उपयोग होना चाहिए। इस तरह गुणाकर मुळे की यह पुस्तक तमाम मुद्‌दों से टकराते हुए ऐसे कैनवस की रचना करती है, जहाँ विचार-विमर्श अपने सृजनात्मक रूप में सम्‍भव हो सके। Gunakar muळe ko hum vigyan vishyon ke lekhak ke rup mein jante hain. Unhonne hin‍di pathkon ko saraltam shabdavli mein vigyan ki kathin avdharnaon, aavishkaron aur khojon se parichit karaya. Lekin unke lekhan ka ud‌deshya vaigyanik drishti ko aamjan ki jivan-shaili aur vichar ka hissa banana tha. Isiliye unhonne shuddh suchnatmak vaigyanik lekhak ke saath sanskriti, samaj, dharm, andhvishvas aadi par bhi hamesha likha. Marksvad unki vaicharik bhumi raha aur aadhunik jivan-mulya unke abhisht. Ye kitab unke aise hi lekhan ka sanklan hai jismen sanskriti, dharm, hin‍dutv ki rajniti, aaryon ka mul aadi vibhinn vishyon par unka lekhan shamil hai. Pathak in lekhon mein kafi kuchh naya payenge. Ramaktha ko lijiye. Aaj raam ko lekar desh mein sam‍prdayik tanav paida karne ke pryas jari hain. Magar raam kafi had tak ek mithkiy charitr hai, is baat ke paryapt sabut valmiki-ramayan mein hi maujud hain.
Shivaji jaise kai aitihasik charitron ko vikrit rup mein pesh karke muslim-dvesh ko ubharne ke pryas ho rahe hain. Magar pramanik itihas is baat ki gavahi deta hai ki shivaji ratti-bhar bhi muslim-dveshi nahin the. Is baat ko aisa tha shivaji ka rajdharm lekh mein spasht rup se dekha ja sakta hai.
Idhar ke varshon mein desh mein dharmik ashishnuta aur sam‍prdayikta mein tezi se vriddhi hui hai. Is par rok lagane ke liye aam janta ko shikshit karna atyavashyak hai—unki apni bhasha mein. Sam‍prdayikta apne prchar-prsar ke liye aam janta ki bhasha ka bharpur upyog kar rahi hai. Sam‍prdayikta ke pratikar ke liye bhi janta ki bhasha ka hi upyog hona chahiye. Is tarah gunakar muळe ki ye pustak tamam mud‌don se takrate hue aise kainvas ki rachna karti hai, jahan vichar-vimarsh apne srijnatmak rup mein sam‍bhav ho sake.