Look Inside
Itihas Mein Abhage
Itihas Mein Abhage

Itihas Mein Abhage

Regular price Rs. 279
Sale price Rs. 279 Regular price Rs. 300
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Itihas Mein Abhage

Itihas Mein Abhage

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

दिनेश कुशवाह हमारे समय के महत्त्वपूर्ण कवि हैं। उनकी काव्य-प्रतिभा का क्या कहना! निरन्तर अमूर्त, नीरस, उजाड़ और अपठनीय होती हिन्दी कविता को उन्होंने 'इसी काया में मोक्ष' जैसा मुहावरा दिया जो समकालीन हिन्दी कविता के लिए नया अध्याय साबित हुआ। उनका दूसरा कविता-संग्रह 'इतिहास में अभागे' मानुष सत्यों की बेजोड़ कविताई है। दिनेश जी 'असिधाराव्रती' हैं। तलवार की धार पर चलने में उन्हें मज़ा आता है।
अद्भुत कथन-शैली, देशी मिठास और शास्त्रीय परिर्माजन से भरी भाषा का जो मणिकांचन योग दिनेश कुशवाह की कविता में उपस्थित होता है, अन्यत्र दुर्लभ है। कल्पना, प्रतीकों और बिम्बों से सज्जित अपनी कविता में वे वैज्ञानिक-दार्शनिक तर्कों के साथ ऐसी सरसता न जाने कहाँ से लाते हैं। जबकि वैचारिक आधार और राजनीतिक दृष्टि ही उनकी कविता के पाथेय हैं। प्रेम एवं करुणा की जो पुकार दिनेश कुशवाह की कविता में मिलती है, उसके अनुकरण में बार-बार अनेक कवि कंठ फूट पड़ते हैं। वे कबीर की तरह सच को सबसे बड़ा तप मानते हैं, और मुक्तिबोध की तरह अभिव्यक्ति के ख़तरे उठाना जानते हैं।
'चल्लू भर पानी का सनातन प्रश्न', 'भूमंडलीकृत आषाढ़ का एक दिन', 'महारास', 'आज भी खुला है अपना घर फूँकने का विकल्प', 'उजाले में आजानुबाहु', 'इतिहास में अभागे', 'मैंने रामानन्द को नहीं देखा', 'बहेलियों को नायक बना दिया', 'अच्छे दिनों का डर', 'विश्वग्राम की अगम अँधियारी रात', 'भय सेना', 'प्रेम के लिए की गई यात्राएँ', 'ईश्वर के पीछे', 'प्राणों में बाँसुरी' 'हर औरत का एक मर्द है', 'हरिजन देखि', 'यह पृथ्वी बच्चों के लिए है' तथा 'पूछती है मेरी बेटी' आदि कविताएँ इस बात का प्रमाण हैं।
काव्य विषयों के नवाचार के मामले में तो दिनेश कुशवाह का कोई शानी नहीं है। वे वाणी के उद्भट पंडित और काव्य के मर्मज्ञ कवि हैं। रूढिय़ों, अवैज्ञानिक धारणाओं, अन्धविश्वासों, अविचारित आस्थाओं, नियोजित पाखंडों, सुनियोजित षड्यंत्रों तथा कपट कुचालों पर कठिन कुठाराघाट करने से वे कभी नहीं चूकते। कविता और जीवन, दोनों में उनकी वाक्शक्ति से हतप्रभ विरोधी भी सहज बैर बिसराकर उनका बखान करने लगते हैं।
—शिवमूर्ति Dinesh kushvah hamare samay ke mahattvpurn kavi hain. Unki kavya-pratibha ka kya kahna! nirantar amurt, niras, ujad aur apathniy hoti hindi kavita ko unhonne isi kaya mein moksh jaisa muhavra diya jo samkalin hindi kavita ke liye naya adhyay sabit hua. Unka dusra kavita-sangrah itihas mein abhage manush satyon ki bejod kavitai hai. Dinesh ji asidharavrti hain. Talvar ki dhar par chalne mein unhen maza aata hai. Adbhut kathan-shaili, deshi mithas aur shastriy parirmajan se bhari bhasha ka jo manikanchan yog dinesh kushvah ki kavita mein upasthit hota hai, anyatr durlabh hai. Kalpna, prtikon aur bimbon se sajjit apni kavita mein ve vaigyanik-darshnik tarkon ke saath aisi sarasta na jane kahan se late hain. Jabaki vaicharik aadhar aur rajnitik drishti hi unki kavita ke pathey hain. Prem evan karuna ki jo pukar dinesh kushvah ki kavita mein milti hai, uske anukran mein bar-bar anek kavi kanth phut padte hain. Ve kabir ki tarah sach ko sabse bada tap mante hain, aur muktibodh ki tarah abhivyakti ke khatre uthana jante hain.
Challu bhar pani ka sanatan prashn, bhumandlikrit aashadh ka ek din, maharas, aaj bhi khula hai apna ghar phunkane ka vikalp, ujale mein aajanubahu, itihas mein abhage, mainne ramanand ko nahin dekha, baheliyon ko nayak bana diya, achchhe dinon ka dar, vishvagram ki agam andhiyari rat, bhay sena, prem ke liye ki gai yatrayen, iishvar ke pichhe, pranon mein bansuri har aurat ka ek mard hai, harijan dekhi, ye prithvi bachchon ke liye hai tatha puchhti hai meri beti aadi kavitayen is baat ka prman hain.
Kavya vishyon ke navachar ke mamle mein to dinesh kushvah ka koi shani nahin hai. Ve vani ke udbhat pandit aur kavya ke marmagya kavi hain. Rudhiyon, avaigyanik dharnaon, andhvishvason, avicharit aasthaon, niyojit pakhandon, suniyojit shadyantron tatha kapat kuchalon par kathin kutharaghat karne se ve kabhi nahin chukte. Kavita aur jivan, donon mein unki vakshakti se hataprabh virodhi bhi sahaj bair bisrakar unka bakhan karne lagte hain.
—shivmurti

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products