BackBack
-11%

Itihas Ki Punarvyakhya

Rs. 395 Rs. 352

यदि किसी राष्ट्र के वर्तमान पर उसका अतीत अथवा इतिहास अनिष्ट की तरह मँडराने लगे तो उसके कारणों की पड़ताल नितान्त आवश्यक है। इतिहास की पुनर्व्‍याख्‍या इसी आवश्यकता का परिणाम है। विज्ञानसम्मत इतिहास-दृष्टि के लिए प्रख्यात जिन विद्वानों का अध्ययन-विश्लेषण इस कृति में शामिल है, उसे दो विषयों पर केन्द्रित... Read More

BlackBlack
Description

यदि किसी राष्ट्र के वर्तमान पर उसका अतीत अथवा इतिहास अनिष्ट की तरह मँडराने लगे तो उसके कारणों की पड़ताल नितान्त आवश्यक है। इतिहास की पुनर्व्‍याख्‍या इसी आवश्यकता का परिणाम है। विज्ञानसम्मत इतिहास-दृष्टि के लिए प्रख्यात जिन विद्वानों का अध्ययन-विश्लेषण इस कृति में शामिल है, उसे दो विषयों पर केन्द्रित किया गया है। पहला, ‘भारतीय इतिहास के अध्ययन के लिए नई दृष्टि’, और दूसरा, ‘साम्प्रदायिकता और भारतीय इतिहास-लेखन’। सर्वविदित है कि इतिहास के स्रोत अपने समय की तथ्यात्मकता में निहित होते हैं, लेकिन इतिहास तथ्यों का संग्रह-भर नहीं होता। उसके लिए तथ्यों का अध्ययन आवश्यक है और अध्ययन के लिए वैज्ञानिक दृष्टिकोण। इसके बिना उन प्रवृत्तियों को समझना कठिन है, जो पिछले कुछ वर्षों से भारतीय इतिहास के मिथकीकरण का दुष्प्रयास कर रही हैं। इसे कई रूपों में रेखांकित किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, अतीत को लेकर एक काल्पनिक श्रेष्ठताबोध, वर्तमान के लिए अप्रासंगिक पुरातन सिद्धान्तों का निरन्तर दोहराव, सन्दिग्ध और मनगढ़ंत प्रमाणों का सहारा, तथ्यों का विरूपीकरण आदि। स्वातंत्र्योत्तर भारत में हिन्दू और मुस्लिम परम्परावादियों में इसे समान रूप से लक्षित किया जा सकता है। मस्जिदों में बदल दिए गए तथाकथित मन्दिरों के पुनरुत्थान-पुनर्निर्माण या फिर पुरातत्त्व विभाग द्वारा संरक्षित मस्जिदों में नए सिरे से उपासना के प्रयास ऐसी ही प्रवृत्तियों को उजागर करते हैं।
वस्तुत: ज्यों-ज्यों इतिहास और परम्परा के वैज्ञानिक मूल्यांकन की कोशिशें हो रही हैं, त्यों-त्यों उसके समानान्तर मिथकीकरण के प्रयासों में भी तेज़ी आ रही है। कहने की आवश्यकता नहीं कि ऐसे प्रयासों के पीछे राजनीति-प्रेरित कुछ इतर स्वार्थों की पूर्ति भी एक उद्देश्य है, जिसका भंडाफोड़ करना आज की ऐतिहासिक ज़रूरत है, क्योंकि प्रजातीय और धार्मिक श्रेष्ठता का दम्भ संसार में कहीं भी टकराव और विनाश को आमंत्रण देता रहा है। प्रो. रोमिला थापर के शब्दों में कहें तो, “20वीं शताब्दी के प्रारम्भ में जर्मनी में सामाजिक परिवर्तन की अनिश्चितता और मध्यवर्ग का विस्तार आर्य-मिथक का उपयोग कर रहे फासीवाद के उदय के मूल कारण थे। इस अनुभव से यह स्पष्ट हो जाना चाहिए कि जातीय मूल और पहचान के सिद्धान्तों का उपयोग बड़ी सावधानी से किया जाए, वरना उसके कारण ऐसे विस्फोट हो सकते हैं, जो एक पूरे समाज को तबाह कर दें। इन परिस्थितियों में इतिहास के नाम पर वृहत्तर समाज द्वारा ऐतिहासिक विचारों के ग़लत इस्तेमाल के तरीक़ों से इतिहासकार को सावधान रहना होगा।”
कहना न होगा कि यह मूल्यवान कृति इतिहास और इतिहास-लेखन की ज्वलन्त समस्याओं से तो परिचित कराती ही है, आज के लिए अत्यन्त प्रासंगिक विचार-दृष्टि को भी हमारे सामने रखती है। Yadi kisi rashtr ke vartman par uska atit athva itihas anisht ki tarah mandrane lage to uske karnon ki padtal nitant aavashyak hai. Itihas ki punarv‍yakh‍ya isi aavashyakta ka parinam hai. Vigyansammat itihas-drishti ke liye prakhyat jin vidvanon ka adhyyan-vishleshan is kriti mein shamil hai, use do vishyon par kendrit kiya gaya hai. Pahla, ‘bhartiy itihas ke adhyyan ke liye nai drishti’, aur dusra, ‘samprdayikta aur bhartiy itihas-lekhan’. Sarvavidit hai ki itihas ke srot apne samay ki tathyatmakta mein nihit hote hain, lekin itihas tathyon ka sangrah-bhar nahin hota. Uske liye tathyon ka adhyyan aavashyak hai aur adhyyan ke liye vaigyanik drishtikon. Iske bina un prvrittiyon ko samajhna kathin hai, jo pichhle kuchh varshon se bhartiy itihas ke mithkikran ka dushpryas kar rahi hain. Ise kai rupon mein rekhankit kiya ja sakta hai. Udahran ke liye, atit ko lekar ek kalpnik shreshthtabodh, vartman ke liye aprasangik puratan siddhanton ka nirantar dohrav, sandigdh aur managdhant prmanon ka sahara, tathyon ka virupikran aadi. Svatantryottar bharat mein hindu aur muslim parampravadiyon mein ise saman rup se lakshit kiya ja sakta hai. Masjidon mein badal diye ge tathakthit mandiron ke punrutthan-punarnirman ya phir puratattv vibhag dvara sanrakshit masjidon mein ne sire se upasna ke pryas aisi hi prvrittiyon ko ujagar karte hain. Vastut: jyon-jyon itihas aur parampra ke vaigyanik mulyankan ki koshishen ho rahi hain, tyon-tyon uske samanantar mithkikran ke pryason mein bhi tezi aa rahi hai. Kahne ki aavashyakta nahin ki aise pryason ke pichhe rajniti-prerit kuchh itar svarthon ki purti bhi ek uddeshya hai, jiska bhandaphod karna aaj ki aitihasik zarurat hai, kyonki prjatiy aur dharmik shreshthta ka dambh sansar mein kahin bhi takrav aur vinash ko aamantran deta raha hai. Pro. Romila thapar ke shabdon mein kahen to, “20vin shatabdi ke prarambh mein jarmni mein samajik parivartan ki anishchitta aur madhyvarg ka vistar aarya-mithak ka upyog kar rahe phasivad ke uday ke mul karan the. Is anubhav se ye spasht ho jana chahiye ki jatiy mul aur pahchan ke siddhanton ka upyog badi savdhani se kiya jaye, varna uske karan aise visphot ho sakte hain, jo ek pure samaj ko tabah kar den. In paristhitiyon mein itihas ke naam par vrihattar samaj dvara aitihasik vicharon ke galat istemal ke tariqon se itihaskar ko savdhan rahna hoga. ”
Kahna na hoga ki ye mulyvan kriti itihas aur itihas-lekhan ki jvlant samasyaon se to parichit karati hi hai, aaj ke liye atyant prasangik vichar-drishti ko bhi hamare samne rakhti hai.