BackBack

Itihas Chakkra

Rs. 99

वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य में ऐसे नेताओं की कमी बहुत खलती है जो सत्ता की तिकड़मों के बजाय समाज और देश की वास्तविक चिन्ताओं को लेकर न सिर्फ़ सोचने की प्रवृत्ति रखते हों, बल्कि उनमें तमाम परिस्थितियों को एक व्यापक नज़रिए के साथ देखने की क्षमता भी हो। भारतीय राजनीति में... Read More

BlackBlack
Description

वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य में ऐसे नेताओं की कमी बहुत खलती है जो सत्ता की तिकड़मों के बजाय समाज और देश की वास्तविक चिन्ताओं को लेकर न सिर्फ़ सोचने की प्रवृत्ति रखते हों, बल्कि उनमें तमाम परिस्थितियों को एक व्यापक नज़रिए के साथ देखने की क्षमता भी हो।
भारतीय राजनीति में एकाधिक व्यक्तित्व ऐसे रहे हैं जो अपनी वैचारिक उद्यमिता में विश्व का नेतृत्व करने की क्षमता रखते थे। राममनोहर लोहिया ऐसे ही नेता थे। अपने तकरीबन चार दशकों के राजनीतिक जीवन में वे ज़मीनी हक़ीक़तों के अध्ययन और चिन्तन-मनन में इस तरह व्यस्त रहे कि सत्ता-केन्द्रित राजनीति ने उन्हें बहुत अहमियत नहीं दी। न ही उन्होंने इसके लिए कोई हड़बड़ी दिखाई। और जब देश की निगाह उनकी सामर्थ्य की ओर गई, वे चले गए।
लेकिन उनकी वैचारिक थाती उनके लेखन के रूप में आज भी हमारे पास है, और हम चाहें तो एक सम्पूर्ण तथा न्यायसंगत समाज का विज़न उनके आधार पर गढ़ सकते हैं। इस पुस्तक में हम इतिहास को लेकर उनकी दृष्टि तथा विचारों से अवगत होते हैं। देखने लायक है कि उनकी इतिहास-दृष्टि जन-गण के जीवन को कभी अपने सामने से ओझल नहीं होने देती। उनके शब्द हैं : “इतिहास को बनाने व समझने में एक हानिकारक भूल यह होती है कि आंशिक कौशल को पूर्ण कौशल समझ लिया जाए और संसार के एक भाग की स्थिति को समस्त संसार पर लागू मान लिया जाए। हम इतिहास के अब तक सूखे रेगिस्तान को ऐसी मृग मरीचिकाएँ और सपनों के ऐसे बाग़ न पैदा करने दें कि दिमाग़ को ऐसे बीजों को अंकुरित होते देखने का भ्रम हो जाए जो अभी बोए भी नहीं गए हैं।”
यह पुस्तक लोहिया के इतिहास बोध और दृष्टि की परिचायक है। Vartman rajnitik paridrishya mein aise netaon ki kami bahut khalti hai jo satta ki tikadmon ke bajay samaj aur desh ki vastvik chintaon ko lekar na sirf sochne ki prvritti rakhte hon, balki unmen tamam paristhitiyon ko ek vyapak nazariye ke saath dekhne ki kshamta bhi ho. Bhartiy rajniti mein ekadhik vyaktitv aise rahe hain jo apni vaicharik udyamita mein vishv ka netritv karne ki kshamta rakhte the. Ramamnohar lohiya aise hi neta the. Apne takriban char dashkon ke rajnitik jivan mein ve zamini haqiqton ke adhyyan aur chintan-manan mein is tarah vyast rahe ki satta-kendrit rajniti ne unhen bahut ahamiyat nahin di. Na hi unhonne iske liye koi hadabdi dikhai. Aur jab desh ki nigah unki samarthya ki or gai, ve chale ge.
Lekin unki vaicharik thati unke lekhan ke rup mein aaj bhi hamare paas hai, aur hum chahen to ek sampurn tatha nyaysangat samaj ka vizan unke aadhar par gadh sakte hain. Is pustak mein hum itihas ko lekar unki drishti tatha vicharon se avgat hote hain. Dekhne layak hai ki unki itihas-drishti jan-gan ke jivan ko kabhi apne samne se ojhal nahin hone deti. Unke shabd hain : “itihas ko banane va samajhne mein ek hanikarak bhul ye hoti hai ki aanshik kaushal ko purn kaushal samajh liya jaye aur sansar ke ek bhag ki sthiti ko samast sansar par lagu maan liya jaye. Hum itihas ke ab tak sukhe registan ko aisi mrig marichikayen aur sapnon ke aise baag na paida karne den ki dimag ko aise bijon ko ankurit hote dekhne ka bhram ho jaye jo abhi boe bhi nahin ge hain. ”
Ye pustak lohiya ke itihas bodh aur drishti ki parichayak hai.