BackBack
-11%

Ishwar Ki Adhyakshata Mei

Rs. 300 Rs. 267

‘ईश्वर की अध्यक्षता में’ संग्रह जीवन और अनुभव के अप्रत्याशित विस्तारों में जाने की एक उत्कट कोशिश है। पिछले चार दशकों से अपने काव्य-वैविध्य, भाषिक प्रयोगशीलता के कारण जगूड़ी की कविता हमेशा अपने समय में उपस्थित रही है और उसमें समकालीनता का इतिहास दर्ज होता दिखता है। समय और समकाल,... Read More

Description

‘ईश्वर की अध्यक्षता में’ संग्रह जीवन और अनुभव के अप्रत्याशित विस्तारों में जाने की एक उत्कट कोशिश है। पिछले चार दशकों से अपने काव्य-वैविध्य, भाषिक प्रयोगशीलता के कारण जगूड़ी की कविता हमेशा अपने समय में उपस्थित रही है और उसमें समकालीनता का इतिहास दर्ज होता दिखता है। समय और समकाल, भौतिक और आधिभौतिक, प्रकृति और बाज़ार, मिथक और टेक्नोलॉजी, दृश्य और अदृश्य, पृथ्वी और उसमें मौजूद कीड़े तक का अस्तित्व उनकी कविता में परस्पर आते-जाते, हस्तक्षेप करते, खलबली मचाते, उलट-पुलट करते एक ऐसे विस्मयकारी लोक की रचना करते हैं जिसे देखकर पहला आश्चर्य तो यही होता है कि कहाँ कितने स्तरों पर कैसा जीवन सम्भव है, उसमें कितने ही आयाम हैं और कभी-कभी तो एक ही जीवन कई नए-नए रूपों की, नई-नई अभिव्यक्तियों की माँग करता दिखता है। अनेक बार एक अनुभव एक से अधिक अनुभवों की शक्ल में आता है और जगूड़ी की कोशिशें यह बतलाती हैं कि अनुभवों की ही तरह भाषा भी एक अनंत उपस्थिति है।
इसीलिए ‘ईश्वर की अध्यक्षता में’ ही ईश्वर विहीनता तक सब कुछ घटित हो रहा है : यहाँ अकल्पनीय मोड़ हैं, अनजानी उलझनें हैं, अछूती आकस्मिकताएँ हैं। कवि का ईश्वर हालाँकि एक प्रश्नचिह्न की तरह है, पर वह हज़ारों-लाखों वर्ष पुरानी रचनाशीलता से लेकर कल आनेवाले प्रयत्नों तक फैला हुआ है। यह सब कहीं अधिक-से-अधिक भाषा और कहीं कम-से-कम भाषा में अभिव्यक्त होता है। दरअसल ये उस एक बड़े उलटफेर की कविताएँ हैं जो हमारे समाज में हर क्षण हो रहा है और कविता जिसे कभी-कभी पकड़कर नए अर्थों में प्रकाशित कर देती है। साठ के बाद की हिन्दी कविता में धूमिल के बाद जगूड़ी की रचनाशीलता ने एक नया प्रस्थान और परिवर्तन का बिन्दु बनाया था। उनकी कविता आधुनिक समय की जटिलता के बीचोबीच परम्परा की अनुगूँजों, स्मृतियों और स्वप्नों को भी सम्भव करती चलती है। ‘ईश्वर की अध्यक्षता में’ लीलाधर जगूड़ी का एक ऐसा कविता-संग्रह है जिसे पढ़ते हुए उनके पाठक जीवन की एक नई विपुलता का इतिवृत्त पाने के साथ-साथ आधुनिक बाज़ार और वैश्वीकरण से पैदा हुए अवरोध, अनुरोध और विरोध की प्रामाणिक आवाज़ भी सुन पाएँगे। ‘iishvar ki adhyakshta men’ sangrah jivan aur anubhav ke apratyashit vistaron mein jane ki ek utkat koshish hai. Pichhle char dashkon se apne kavya-vaividhya, bhashik pryogshilta ke karan jagudi ki kavita hamesha apne samay mein upasthit rahi hai aur usmen samkalinta ka itihas darj hota dikhta hai. Samay aur samkal, bhautik aur aadhibhautik, prkriti aur bazar, mithak aur teknolauji, drishya aur adrishya, prithvi aur usmen maujud kide tak ka astitv unki kavita mein paraspar aate-jate, hastakshep karte, khalabli machate, ulat-pulat karte ek aise vismaykari lok ki rachna karte hain jise dekhkar pahla aashcharya to yahi hota hai ki kahan kitne stron par kaisa jivan sambhav hai, usmen kitne hi aayam hain aur kabhi-kabhi to ek hi jivan kai ne-ne rupon ki, nai-nai abhivyaktiyon ki mang karta dikhta hai. Anek baar ek anubhav ek se adhik anubhvon ki shakl mein aata hai aur jagudi ki koshishen ye batlati hain ki anubhvon ki hi tarah bhasha bhi ek anant upasthiti hai. Isiliye ‘iishvar ki adhyakshta men’ hi iishvar vihinta tak sab kuchh ghatit ho raha hai : yahan akalpniy mod hain, anjani ulajhnen hain, achhuti aakasmiktaen hain. Kavi ka iishvar halanki ek prashnchihn ki tarah hai, par vah hazaron-lakhon varsh purani rachnashilta se lekar kal aanevale pryatnon tak phaila hua hai. Ye sab kahin adhik-se-adhik bhasha aur kahin kam-se-kam bhasha mein abhivyakt hota hai. Darasal ye us ek bade ulatpher ki kavitayen hain jo hamare samaj mein har kshan ho raha hai aur kavita jise kabhi-kabhi pakadkar ne arthon mein prkashit kar deti hai. Saath ke baad ki hindi kavita mein dhumil ke baad jagudi ki rachnashilta ne ek naya prasthan aur parivartan ka bindu banaya tha. Unki kavita aadhunik samay ki jatilta ke bichobich parampra ki anugunjon, smritiyon aur svapnon ko bhi sambhav karti chalti hai. ‘iishvar ki adhyakshta men’ liladhar jagudi ka ek aisa kavita-sangrah hai jise padhte hue unke pathak jivan ki ek nai vipulta ka itivritt pane ke sath-sath aadhunik bazar aur vaishvikran se paida hue avrodh, anurodh aur virodh ki pramanik aavaz bhi sun payenge.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year