Look Inside
Irina Lok : Kachchh Ke Smriti Dweepon Par
Irina Lok : Kachchh Ke Smriti Dweepon Par
Irina Lok : Kachchh Ke Smriti Dweepon Par
Irina Lok : Kachchh Ke Smriti Dweepon Par

Irina Lok : Kachchh Ke Smriti Dweepon Par

Regular price Rs. 278
Sale price Rs. 278 Regular price Rs. 299
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Irina Lok : Kachchh Ke Smriti Dweepon Par

Irina Lok : Kachchh Ke Smriti Dweepon Par

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

संस्कृति की लीक पर उल्टा चलूँ तो शायद वहाँ पहुँच सकूँ, जहाँ भारतीय जनस्मृतियाँ नालबद्ध हैं। वांछित लीक के दरस हुए दन्तकथाओं तथा पुराकथाओं में और आगाज़ हुआ हिमालय में घुमक्कड़ी का। स्मृतियों की पुकार ऐसी ही होती है। नि:शब्द। बस एक अदृश्य-अबूझ खेंच, अनिर्वचनीय कर्षण। और चल पड़ता है यायावर वशीभूत...दीठबन्द...। जगहों की पुकार गूगल गुरु की पहुँच से परे। गूगल मैप के अनुगमन से रास्ते तय होते हैं, जगहें मिलती हैं पर क्या उनसे राबता हो पाता है? जब चित्त संघर्ष, त्याग, आत्मा का अनुगामी हो जाए तब हासिल होती है आलम-ए-बेख़ुदी। जाग्रत होती हैं सुषुप्त स्मृतियाँ। खेंचने लगती हैं जगहें। घटित होता है असल रमण। अगस्त दो हज़ार दस में, ऐसी ही आलम-ए-बेख़ुदी में, हम पहुँचे थे हिमालय में—सरस्वती नदी के उद्गम स्थल पर। परन्तु आन्तरिक जगत में चपल चित्त अधिक ठहर थोड़े ही सकता है, सो बेख़ुदी के वे आलम भी अल्पकालिक ही होते हैं। इस वर्ष भी वही हुआ। हिमालय की ना-नुकुर से आजिज़ आ, हमने चम्बल के बीहड़ों में जाने का मन बनाया। जानकारियाँ जुट गईं, तैयारियाँ मुकम्मल हुईं। किन्तु घर से निकलने के ठीक पहले अनदेखे ‘रन’ का धुँधला-सा अक्स ज़ेहन में उभरा और मैं वशीभूत-सा चल दिया गुजरात की ओर। किसे ख़बर थी कि यह दिशा परिवर्तन अप्रत्याशित नहीं वरन् सरस्वती नदी की पुकार के चलते है, कि यह असल में ‘धूमधारकांडी’ अभियान की अनुपूरक यात्रा ही है। तो साहेब लोगो, आगे के सफहों पर दर्ज हर हर्फ दरअसल गवाह है उस परानुभूति का जिसके असर में मुझे शब्दों में मंज़र और मंज़रों में शब्द नज़र आए। या यूँ कहूँ कि प्रचलित किसी शब्द में इतिहास या परिपाटी में समूचा कालखंड अनुभूत हुआ यानी कि यह किताब यायावरी का ‘डबल डोज़’ है। Sanskriti ki lik par ulta chalun to shayad vahan pahunch sakun, jahan bhartiy janasmritiyan nalbaddh hain. Vanchhit lik ke daras hue dantakthaon tatha purakthaon mein aur aagaz hua himalay mein ghumakkdi ka. Smritiyon ki pukar aisi hi hoti hai. Ni:shabd. Bas ek adrishya-abujh khench, anirvachniy karshan. Aur chal padta hai yayavar vashibhut. . . Dithband. . . . Jaghon ki pukar gugal guru ki pahunch se pare. Gugal maip ke anugman se raste tay hote hain, jaghen milti hain par kya unse rabta ho pata hai? jab chitt sangharsh, tyag, aatma ka anugami ho jaye tab hasil hoti hai aalam-e-bekhudi. Jagrat hoti hain sushupt smritiyan. Khenchne lagti hain jaghen. Ghatit hota hai asal raman. Agast do hazar das mein, aisi hi aalam-e-bekhudi mein, hum pahunche the himalay men—sarasvti nadi ke udgam sthal par. Parantu aantrik jagat mein chapal chitt adhik thahar thode hi sakta hai, so bekhudi ke ve aalam bhi alpkalik hi hote hain. Is varsh bhi vahi hua. Himalay ki na-nukur se aajiz aa, hamne chambal ke bihdon mein jane ka man banaya. Jankariyan jut gain, taiyariyan mukammal huin. Kintu ghar se nikalne ke thik pahle andekhe ‘ran’ ka dhundhala-sa aks zehan mein ubhra aur main vashibhut-sa chal diya gujrat ki or. Kise khabar thi ki ye disha parivartan apratyashit nahin varan sarasvti nadi ki pukar ke chalte hai, ki ye asal mein ‘dhumdharkandi’ abhiyan ki anupurak yatra hi hai. To saheb logo, aage ke saphhon par darj har harph darasal gavah hai us paranubhuti ka jiske asar mein mujhe shabdon mein manzar aur manzron mein shabd nazar aae. Ya yun kahun ki prachlit kisi shabd mein itihas ya paripati mein samucha kalkhand anubhut hua yani ki ye kitab yayavri ka ‘dabal doz’ hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products