Humsafaron Ke Darmiyan

Regular price Rs. 278
Sale price Rs. 278 Regular price Rs. 299
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Humsafaron Ke Darmiyan

Humsafaron Ke Darmiyan

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

आधुनिक उर्दू कविता के बारे में यह छोटी-सी किताब मेरे कुछ निबन्धों पर आधारित है। समकालीन साहित्य और उससे सम्बन्धित समस्याएँ मेरी सोच और दिलचस्पी का ख़ास विषय रही हैं। पिछले पचास-साठ बरसों में मैंने इस विषय पर कम से कम साठ-सत्तर निबन्ध लिखे होंगे। उन्नीसवीं सदी और बीसवीं सदी के बहुत से शायरों को मैंने अपने आलोचनात्मक अध्ययन का बहाना बनाया यानी कि ग़ालिब से लेकर आज तक की शायरी में मेरी गहरी दिलचस्पी रही है।
यहाँ आगे बढ़ने से पहले एक और सफ़ाई देना चाहता हूँ। पारम्परिक प्रगतिवाद, आधुनिकतावाद और उत्तर-आधुनिकतावाद में मेरा विश्वास बहुत कमज़ोर है। मैं समझता हूँ कि हमारी अपनी सामाजिक, सांस्कृतिक और राजनैतिक परम्परा के सन्दर्भ में ही हमारे अपने प्रगतिवाद, आधुनिकतावाद और उत्तर-आधुनिकता की रूपरेखा तैयार की जानी चाहिए। हमारा जीवन हमारे समय के पश्चिमी जीवन और सोच-समझ की कार्बन कॉपी नहीं है। जिस तरह हमारा सौन्दर्यशास्त्र या Aesthetic Culture अलग है, उसी तरह हमारी प्रोग्रेसिविज़्म (Progressivism) और Modernity या ज़दीदियत भी अलग है। मैंने इसी दृष्टिकोण के साथ आधुनिक युग के अधिकतर शायरों को समझने की कोशिश की है।
ये निबन्ध मेरी दो किताबों—'हमसफ़रों के दरमियाँ’ (सह-यात्रियों के बीच) और 'हमनफ़सों की बज़्म में’ (यार-दोस्तों की सभा में) से लिए गए हैं। इनमें मेरा विषय बननेवाले शायरों का स्वभाव, चरित्र, चेतना और रूप-रंग अलग-अलग हैं। मैं समझता हूँ कि आधुनिकतावाद को इसी भिन्नता और बहुलता का प्रतीक होना चाहिए।
—शमीम हनफी (प्रस्तावना से)
''हालाँकि हिन्दी में उर्दू साहित्य के आधुनिक दौर के अधिकांश शायरों से ख़ासी वाक़‍िफ़यत रही है, उन पर स्वयं उर्दू में जो विचार और विश्लेषण हुआ है, उससे हमारा अधिक परिचय नहीं रहा है। शमीम हनफी स्वयं शायर होने के अलावा एक बड़े आलोचक के रूप में उर्दू में बहुमान्य हैं। उनके कुछ निबन्धों के इस संचयन के माध्यम से उर्दू की आधुनिक कविता की कई जटिलताओं, तनावों और सूक्ष्मताओं को जान सकेंगे और कई बड़े उर्दू शायरों की रचनाओं का हमारा रसास्वादन गहरा होगा। हमें यह संचयन प्रस्तुत करते हुए प्रसन्नता है।”
—अशोक वाजपेयी Aadhunik urdu kavita ke bare mein ye chhoti-si kitab mere kuchh nibandhon par aadharit hai. Samkalin sahitya aur usse sambandhit samasyayen meri soch aur dilchaspi ka khas vishay rahi hain. Pichhle pachas-sath barson mein mainne is vishay par kam se kam sath-sattar nibandh likhe honge. Unnisvin sadi aur bisvin sadi ke bahut se shayron ko mainne apne aalochnatmak adhyyan ka bahana banaya yani ki galib se lekar aaj tak ki shayri mein meri gahri dilchaspi rahi hai. Yahan aage badhne se pahle ek aur safai dena chahta hun. Paramprik pragativad, aadhuniktavad aur uttar-adhuniktavad mein mera vishvas bahut kamzor hai. Main samajhta hun ki hamari apni samajik, sanskritik aur rajanaitik parampra ke sandarbh mein hi hamare apne pragativad, aadhuniktavad aur uttar-adhunikta ki ruprekha taiyar ki jani chahiye. Hamara jivan hamare samay ke pashchimi jivan aur soch-samajh ki karban kaupi nahin hai. Jis tarah hamara saundaryshastr ya aesthetic culture alag hai, usi tarah hamari progresivizm (progressivism) aur modernity ya zadidiyat bhi alag hai. Mainne isi drishtikon ke saath aadhunik yug ke adhiktar shayron ko samajhne ki koshish ki hai.
Ye nibandh meri do kitabon—hamasafron ke daramiyan’ (sah-yatriyon ke bich) aur hamanafson ki bazm men’ (yar-doston ki sabha men) se liye ge hain. Inmen mera vishay bannevale shayron ka svbhav, charitr, chetna aur rup-rang alag-alag hain. Main samajhta hun ki aadhuniktavad ko isi bhinnta aur bahulta ka prtik hona chahiye.
—shamim hanphi (prastavna se)
Halanki hindi mein urdu sahitya ke aadhunik daur ke adhikansh shayron se khasi vaq‍ifayat rahi hai, un par svayan urdu mein jo vichar aur vishleshan hua hai, usse hamara adhik parichay nahin raha hai. Shamim hanphi svayan shayar hone ke alava ek bade aalochak ke rup mein urdu mein bahumanya hain. Unke kuchh nibandhon ke is sanchyan ke madhyam se urdu ki aadhunik kavita ki kai jatiltaon, tanavon aur sukshmtaon ko jaan sakenge aur kai bade urdu shayron ki rachnaon ka hamara rasasvadan gahra hoga. Hamein ye sanchyan prastut karte hue prsannta hai. ”
—ashok vajpeyi

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products