Hum Na Marab

Regular price Rs. 371
Sale price Rs. 371 Regular price Rs. 399
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Hum Na Marab

Hum Na Marab

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

हर बड़ा लेखक, अपने ‘सृजनात्मक जीवन’ में, जिन तीन सच्चाइयों से अनिवार्यतः भिड़न्त लेता है, वे हैं—‘ईश्वर’, ‘काल’ तथा ‘मृत्यु’। अलबत्ता, कहा जाना चाहिए कि इनमें भिड़े बग़ैर कोई लेखक बड़ा भी हो सकता है, इस बात में सन्देह है। कहने की ज़रूरत नहीं कि ज्ञान चतुर्वेदी ने अपने रचनात्मक जीवन के तीस से अधिक वर्षों में, ‘उत्कृष्टता की निरन्तरता’ को जिस तरह अपने लेखन में एकमात्र अभीष्ट बनाकर रखा, कदाचित् इसी प्रतिज्ञा ने उन्हें, हमारे समय के बड़े लेखकों की श्रेणी में स्थापित कर दिया है। ‘हम न मरब’ में उन्होंने ‘मृत्यु’ को रचना के ‘प्रतिपाद्य’ के रूप में रखकर, उससे भिड़ंत ली है। ‘नश्वर’ और ‘अनश्वर’ के द्वैत ने दर्शन और अध्यात्म में, अपने ढंग से चुनौतियों का सामना किया; लेकिन ‘रचनात्मक साहित्य’ में इससे जूझने की प्रविधि नितान्त भिन्न होती है और वही लेखक के सृजन-सामर्थ्य का प्रमाणीकरण भी बनती है। ज्ञान चतुर्वेदी के सन्दर्भ में, यह इसलिए भी महत्त्वपूर्ण है कि वे अपने गल्प-युक्ति से ‘मृत्युबोध’ के ‘केआस’ को जिस आत्म-सजग शिल्प-दक्षता के साथ ‘एस्थेटिक’ में बदलते हैं, यही विशिष्टता उन्हें हमारे समय के अन्यतम लेखकों के बीच ले जाकर खड़ा कर देती है। Har bada lekhak, apne ‘srijnatmak jivan’ mein, jin tin sachchaiyon se anivaryatः bhidant leta hai, ve hain—‘iishvar’, ‘kal’ tatha ‘mrityu’. Albatta, kaha jana chahiye ki inmen bhide bagair koi lekhak bada bhi ho sakta hai, is baat mein sandeh hai. Kahne ki zarurat nahin ki gyan chaturvedi ne apne rachnatmak jivan ke tis se adhik varshon mein, ‘utkrishtta ki nirantarta’ ko jis tarah apne lekhan mein ekmatr abhisht banakar rakha, kadachit isi prtigya ne unhen, hamare samay ke bade lekhkon ki shreni mein sthapit kar diya hai. ‘ham na marab’ mein unhonne ‘mrityu’ ko rachna ke ‘pratipadya’ ke rup mein rakhkar, usse bhidant li hai. ‘nashvar’ aur ‘anashvar’ ke dvait ne darshan aur adhyatm mein, apne dhang se chunautiyon ka samna kiya; lekin ‘rachnatmak sahitya’ mein isse jujhne ki prvidhi nitant bhinn hoti hai aur vahi lekhak ke srijan-samarthya ka prmanikran bhi banti hai. Gyan chaturvedi ke sandarbh mein, ye isaliye bhi mahattvpurn hai ki ve apne galp-yukti se ‘mrityubodh’ ke ‘keas’ ko jis aatm-sajag shilp-dakshta ke saath ‘esthetik’ mein badalte hain, yahi vishishtta unhen hamare samay ke anytam lekhkon ke bich le jakar khada kar deti hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products