BackBack
-11%

Hum Hushmat : Vol. 1

Rs. 550 Rs. 490

‘हम हशमत’ बोलते शब्द-चित्रों की एक घूमती हुई रील है। एक विस्तृत जीवन-फलक जैसे घूमता है और सामने एक के बाद एक चित्र उभरते जाते हैं—साफ़ और जीवन्त। और, अन्त में जब पूरी रील घूम जाती है तो एक कथा अपने-आप बुन जाती है—एक लम्बी जीवन-चित्र-कथा, जिसमें हर चित्र घटना... Read More

BlackBlack
Description

‘हम हशमत’ बोलते शब्द-चित्रों की एक घूमती हुई रील है। एक विस्तृत जीवन-फलक जैसे घूमता है और सामने एक के बाद एक चित्र उभरते जाते हैं—साफ़ और जीवन्त। और, अन्त में जब पूरी रील घूम जाती है तो एक कथा अपने-आप बुन जाती है—एक लम्बी जीवन-चित्र-कथा, जिसमें हर चित्र घटना है और हर चेहरा नायक। इन चेहरों में विख्यात लेखक हैं, पत्रकार हैं और अन्य अज़ीज़ हैं जिनमें से बहुतेरे आपके परिचित हैं। पार्टियाँ और दावतें आपने भी देखी होंगी, लेकिन टैक्सी ड्राइवर और नानबाई जैसे लोगों के बारे में आप शायद न जानने का भाव दिखाएँ, जबकि वास्तव में आप इन्हें भी जान रहे होते हैं—किसी भी मोड़ पर, किसी भी समय इनसे आपकी मुलाक़ात हो जाती है। यही चेहरे हैं जिनसे ‘हशमत’ मिलते हैं और जो एक-दूसरे से अलग होकर भी परस्पर जुड़े हुए हैं तथा उसी जीवन-प्रवाह के अंग हैं जिसमें हम-आप और सारे ही लोग बह रहे हैं।
‘हशमत’ को जीवन के सही और सम्पूर्ण मूल्यों की शिनाख़्त की बेचैनी है। अन्तरंग बातचीत और अपनी तटस्थ दृष्टि के ज़रिए वे साहित्य के वास्तविक सन्दर्भों को खोजना और समाज व व्यक्ति के सत्य को उजागर करना चाहते हैं, वैचारिक गुत्थियों और व्यवस्थामूलक पेचीदगियों को सुलझाना चाहते हैं। और, अन्त में जब ‘हशमत’ अपना परिचय भी दे डालते हैं तो पाठकीय जिज्ञासा सुखद विस्मय में बदल जाती है क्योंकि ‘हशमत’ के रूप में स्वयं कृष्णा सोबती हैं जिन्होंने ‘हम हशमत’ जैसी समर्थ रचना द्वारा फिर यह सिद्ध कर दिया है कि वह एक सिद्धहस्त कथा-लेखिका के साथ-साथ सार्थक रचना-दृष्टि से सम्पन्न शब्द-चित्रकार भी हैं। ‘ham hashmat’ bolte shabd-chitron ki ek ghumti hui ril hai. Ek vistrit jivan-phalak jaise ghumta hai aur samne ek ke baad ek chitr ubharte jate hain—saf aur jivant. Aur, ant mein jab puri ril ghum jati hai to ek katha apne-ap bun jati hai—ek lambi jivan-chitr-katha, jismen har chitr ghatna hai aur har chehra nayak. In chehron mein vikhyat lekhak hain, patrkar hain aur anya aziz hain jinmen se bahutere aapke parichit hain. Partiyan aur davten aapne bhi dekhi hongi, lekin taiksi draivar aur nanbai jaise logon ke bare mein aap shayad na janne ka bhav dikhayen, jabaki vastav mein aap inhen bhi jaan rahe hote hain—kisi bhi mod par, kisi bhi samay inse aapki mulaqat ho jati hai. Yahi chehre hain jinse ‘hashmat’ milte hain aur jo ek-dusre se alag hokar bhi paraspar jude hue hain tatha usi jivan-prvah ke ang hain jismen ham-ap aur sare hi log bah rahe hain. ‘hashmat’ ko jivan ke sahi aur sampurn mulyon ki shinakht ki bechaini hai. Antrang batchit aur apni tatasth drishti ke zariye ve sahitya ke vastvik sandarbhon ko khojna aur samaj va vyakti ke satya ko ujagar karna chahte hain, vaicharik gutthiyon aur vyvasthamulak pechidagiyon ko suljhana chahte hain. Aur, ant mein jab ‘hashmat’ apna parichay bhi de dalte hain to pathkiy jigyasa sukhad vismay mein badal jati hai kyonki ‘hashmat’ ke rup mein svayan krishna sobti hain jinhonne ‘ham hashmat’ jaisi samarth rachna dvara phir ye siddh kar diya hai ki vah ek siddhhast katha-lekhika ke sath-sath sarthak rachna-drishti se sampann shabd-chitrkar bhi hain.