BackBack
-11%

Hum Hushmat : Vol. 3

Rs. 400 Rs. 356

‘हम हशमत’ हमारे समकालीन जीवन-फलक पर एक लम्बे आख्यान का प्रतिबिम्ब है। इसमें हर चित्र घटना है और हर चेहरा कथानायक। ‘हशमत’ की जीवन्तता और भाषायी चित्रात्मकता उन्हें कालजयी मुखड़े के स्थापत्य में स्थित कर देती है। प्रस्तुत है ‘हम हशमत’ का तीसरा खंड। समकालीनों के संस्मरणों के बहाने, इस... Read More

BlackBlack
Vendor: Rajkamal Categories: Rajkamal Prakashan Books Tags: Memoirs
Description

‘हम हशमत’ हमारे समकालीन जीवन-फलक पर एक लम्बे आख्यान का प्रतिबिम्ब है। इसमें हर चित्र घटना है और हर चेहरा कथानायक। ‘हशमत’ की जीवन्तता और भाषायी चित्रात्मकता उन्हें कालजयी मुखड़े के स्थापत्य में स्थित कर देती है।
प्रस्तुत है ‘हम हशमत’ का तीसरा खंड। समकालीनों के संस्मरणों के बहाने, इस शती पर फैला हिन्दी साहित्य समाज, यहाँ अपने वैचारिक और रचनात्मक विमर्श के साथ उजागर है।
हिन्दी के सुधी पाठकों और आलोचकों ने ‘हम हशमत’ को संस्मरण विधा में मील का पत्थर माना था; ‘हम हशमत’ की विशेषता है तटस्थता। कृष्णा सोबती के भीतर पुख़्तगी से जमे ‘हशमत’ की सोच और उसके तेवर विलक्षण रूप से एक साथ दिलचस्प और गम्भीर हैं। नज़रिया ऐसा कि एक समय को साथ-साथ जीने के रिश्ते को निकटता से देखे और परिचय की दूरी को पाठ की बुनत और बनावट में जज़्ब कर ले। ‘हशमत’ की औपचारिक निगाह में दोस्तों के लिए आदर है, जिज्ञासा है, जासूसी नहीं। यही निष्पक्षता नए-पुराने परिचय को घनत्व और लचक देती है और पाठ में साहित्यिक निकटता की दूरी को भी बरकरार रखती
है।
अपनी ही आत्मविश्वासी आक्रामकता की रौ और अभ्यास में पुरुष-सत्ता द्वारा बनाए असहिष्णु साहित्य-समाज में एक पुरुष का अनुशासनीय बाना धरकर कृष्णा जी ने ‘हशमत’ की निगाह को वह ताक़त दी है जिसे सिर्फ़ पुरुष रहकर कोई मात्र पुरुष-अनुभव से सम्भव नहीं कर सकता, न ही कोई स्त्री, स्त्री की सीमाओं को फलाँगे बग़ैर साहित्य समाज की इस मानवीय गहनता को छू सकती है। ऐसा पाठ साहित्य और कलाओं में अर्द्धनारीश्वर की रचनात्मक सम्भावनाओं की ओर इंगित करता है।
‘हशमत’ के इस तीसरे खंड में शामिल हैं—सत्येन कुमार, जयदेव, निर्मल वर्मा, अशोक वाजपेयी, देवेन्द्र इस्सर, निर्मला जैन, विभूतिनारायण राय, रवीन्द्र कालिया, शम्भुनाथ, गिरधर राठी, आलोक मेहता और विष्णु खरे।
‘हम हशमत’ कृष्णा सोबती की क़लम की वह तुर्श और तीखी भंगिमा है, जो समय के पेचोख़म में सिर छुपाए बैठे मामूलीपन की आँख में सीधी जाकर लगती है। ‘ham hashmat’ hamare samkalin jivan-phalak par ek lambe aakhyan ka pratibimb hai. Ismen har chitr ghatna hai aur har chehra kathanayak. ‘hashmat’ ki jivantta aur bhashayi chitratmakta unhen kalajyi mukhde ke sthapatya mein sthit kar deti hai. Prastut hai ‘ham hashmat’ ka tisra khand. Samkalinon ke sansmarnon ke bahane, is shati par phaila hindi sahitya samaj, yahan apne vaicharik aur rachnatmak vimarsh ke saath ujagar hai.
Hindi ke sudhi pathkon aur aalochkon ne ‘ham hashmat’ ko sansmran vidha mein mil ka patthar mana tha; ‘ham hashmat’ ki visheshta hai tatasthta. Krishna sobti ke bhitar pukhtgi se jame ‘hashmat’ ki soch aur uske tevar vilakshan rup se ek saath dilchasp aur gambhir hain. Nazariya aisa ki ek samay ko sath-sath jine ke rishte ko nikatta se dekhe aur parichay ki duri ko path ki bunat aur banavat mein jazb kar le. ‘hashmat’ ki aupcharik nigah mein doston ke liye aadar hai, jigyasa hai, jasusi nahin. Yahi nishpakshta ne-purane parichay ko ghanatv aur lachak deti hai aur path mein sahityik nikatta ki duri ko bhi barakrar rakhti
Hai.
Apni hi aatmvishvasi aakramakta ki rau aur abhyas mein purush-satta dvara banaye ashishnu sahitya-samaj mein ek purush ka anushasniy bana dharkar krishna ji ne ‘hashmat’ ki nigah ko vah taqat di hai jise sirf purush rahkar koi matr purush-anubhav se sambhav nahin kar sakta, na hi koi stri, stri ki simaon ko phalange bagair sahitya samaj ki is manviy gahanta ko chhu sakti hai. Aisa path sahitya aur kalaon mein arddhnarishvar ki rachnatmak sambhavnaon ki or ingit karta hai.
‘hashmat’ ke is tisre khand mein shamil hain—satyen kumar, jaydev, nirmal varma, ashok vajpeyi, devendr issar, nirmla jain, vibhutinarayan raay, ravindr kaliya, shambhunath, girdhar rathi, aalok mehta aur vishnu khare.
‘ham hashmat’ krishna sobti ki qalam ki vah tursh aur tikhi bhangima hai, jo samay ke pechokham mein sir chhupaye baithe mamulipan ki aankh mein sidhi jakar lagti hai.