Look Inside
Hum Ek Umra Se Wakif Hain
Hum Ek Umra Se Wakif Hain
Hum Ek Umra Se Wakif Hain
Hum Ek Umra Se Wakif Hain

Hum Ek Umra Se Wakif Hain

Regular price Rs. 163
Sale price Rs. 163 Regular price Rs. 175
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Hum Ek Umra Se Wakif Hain Rajkamal

Hum Ek Umra Se Wakif Hain

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description
परसाई जैसा बड़ा रचनाकार जब ‘हम इक उम्र से वाक़िफ़ हैं’ होने की बात करता है तो उसका मतलब सिर्फ़ उतना ही नहीं होता, क्योंकि उसकी ‘उम्र’ एक युग का पर्याय बन चुकी होती है। इसलिए यह कृति परसाई जी के जीवनालेख के साथ-साथ एक लम्बे रचनात्मक दौर का भी अंकन है। परसाई जी ने इस पुस्तक में अपने जीवन की उन विभिन्न स्थितियों और घटनाओं का वर्णन किया है, जिनमें न केवल उनके रचनाकार व्यक्तित्व का निर्माण हुआ, बल्कि उनकी लेखनी को भी एक नई धार मिल सकी। उनका समूचा जीवन एक सक्रिय बुद्धिजीवी का जीवन रहा। वे सदा सिद्धान्त को कर्म से जोड़कर चले और अपनी रचनात्मकता पर काल्पनिक यथार्थवाद की छाया तक नहीं पड़ने दी। इसलिए आकस्मिक नहीं कि इस पुस्तक में हम उन्हें विभिन्न आन्दोलनरत संगठनों के कुशल संगठनकर्ता के रूप में भी देख पाते हैं। इसके अलावा यह कृति उनकी सहज व्यंग्यप्रधान शैली में विभिन्न क्षेत्रों में कार्यरत व्यक्तियों से भी परिचित कराती है, जो किसी भी तरह उनसे जुड़े। कहना न होगा कि परसाई जी का यह संस्मरणात्मक आत्मकथ्य उन तमाम पाठकों और रचनाकारों के लिए प्रेरणाप्रद है जो कि एक बुनियादी सामाजिक बदलाव में साहित्यकार की भी एक रचनात्मक भूमिका को स्वीकार करते हैं। Parsai jaisa bada rachnakar jab ‘ham ik umr se vaqif hain’ hone ki baat karta hai to uska matlab sirf utna hi nahin hota, kyonki uski ‘umr’ ek yug ka paryay ban chuki hoti hai. Isaliye ye kriti parsai ji ke jivnalekh ke sath-sath ek lambe rachnatmak daur ka bhi ankan hai. Parsai ji ne is pustak mein apne jivan ki un vibhinn sthitiyon aur ghatnaon ka varnan kiya hai, jinmen na keval unke rachnakar vyaktitv ka nirman hua, balki unki lekhni ko bhi ek nai dhar mil saki. Unka samucha jivan ek sakriy buddhijivi ka jivan raha. Ve sada siddhant ko karm se jodkar chale aur apni rachnatmakta par kalpnik yatharthvad ki chhaya tak nahin padne di. Isaliye aakasmik nahin ki is pustak mein hum unhen vibhinn aandolanrat sangathnon ke kushal sangathankarta ke rup mein bhi dekh pate hain. Iske alava ye kriti unki sahaj vyangyaprdhan shaili mein vibhinn kshetron mein karyrat vyaktiyon se bhi parichit karati hai, jo kisi bhi tarah unse jude. Kahna na hoga ki parsai ji ka ye sansmarnatmak aatmkathya un tamam pathkon aur rachnakaron ke liye prernaprad hai jo ki ek buniyadi samajik badlav mein sahitykar ki bhi ek rachnatmak bhumika ko svikar karte hain.
Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products