Look Inside
Hriday Rog Se Mukti
Hriday Rog Se Mukti

Hriday Rog Se Mukti

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Hriday Rog Se Mukti Rajkamal

Hriday Rog Se Mukti

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description
डॉ. अभय बंग को चौआलीस साल की उम्र में अचानक दिल का दौरा पड़ा।
‘‘...यह दिल का दौरा क्या सचमुच ही अचानक हुआ? या वर्षों से वह मुझे रोज़ ही हो रहा था, सिर्फ़ मुझे एक दिन अचानक ध्यान में आया? मृत्यु का क़रीब से दर्शन होने पर मुझ पर क्या परिणाम हुआ? मेरे हृदयरोग का क्या कारण मुझे ध्यान में आया? हृदयरोग से बाहर आने के लिए मैंने क्या किया? मैंने हृदयरोग का उपचार करने के बजाय हृदयरोग ने ही मेरा उपचार कैसे किया?’’
यह कहानी सर्वप्रथम मराठी में प्रकाशित हुई और उसने पूरे महाराष्ट्र को हिला दिया। लाखों लोगों ने उसे पढ़ा, औरों को पढ़ने को दी। हृदयरोग विशेषज्ञ अपने मरीज़ों को दवाई के साथ किताब पढ़ने की सलाह देने लगे। जगह-जगह इस किताब का सामुदायिक वाचन किया गया। कहा जाता है कि महाराष्ट्र के मध्यम वर्ग की जीवन-शैली पर इस किताब का गहरा असर हुआ है। और, ‘‘...इस कहानी का अन्त अभी नहीं हुआ है। आज भी हर रोज़ कुछ नया घटित हो रहा है।’’
साहित्यिक पुरस्कार प्राप्त सफलतम मराठी किताब का हिन्दी अनुवाद है ‘हृदयरोग से मुक्ति’। Dau. Abhay bang ko chaualis saal ki umr mein achanak dil ka daura pada. ‘‘. . . Ye dil ka daura kya sachmuch hi achanak hua? ya varshon se vah mujhe roz hi ho raha tha, sirf mujhe ek din achanak dhyan mein aaya? mrityu ka qarib se darshan hone par mujh par kya parinam hua? mere hridayrog ka kya karan mujhe dhyan mein aaya? hridayrog se bahar aane ke liye mainne kya kiya? mainne hridayrog ka upchar karne ke bajay hridayrog ne hi mera upchar kaise kiya?’’
Ye kahani sarvaprtham marathi mein prkashit hui aur usne pure maharashtr ko hila diya. Lakhon logon ne use padha, auron ko padhne ko di. Hridayrog visheshagya apne marizon ko davai ke saath kitab padhne ki salah dene lage. Jagah-jagah is kitab ka samudayik vachan kiya gaya. Kaha jata hai ki maharashtr ke madhyam varg ki jivan-shaili par is kitab ka gahra asar hua hai. Aur, ‘‘. . . Is kahani ka ant abhi nahin hua hai. Aaj bhi har roz kuchh naya ghatit ho raha hai. ’’
Sahityik puraskar prapt saphaltam marathi kitab ka hindi anuvad hai ‘hridayrog se mukti’.
Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products