Hindu Sabhyata

Regular price Rs. 538
Sale price Rs. 538 Regular price Rs. 579
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Hindu Sabhyata

Hindu Sabhyata

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘हिन्दू सभ्यता’ प्रख्यात इतिहासकार प्रो. राधाकुमुद मुखर्जी की सर्वमान्य अंग्रेज़ी पुस्तक ‘हिन्दू सविलाजेशन’ का अनुवाद है। अनुवाद किया है इतिहास और पुरातत्त्व के सुप्रतिष्ठ विद्वान डॉ. वासुदेवशरण अग्रवाल ने। इसलिए अनूदित रूप में भी यह कृति अपने विषय की अत्यन्त प्रामाणिक पुस्तकों में सर्वोपरि है।
हिन्दू सभ्यता के आदि स्वरूप के बारे में प्रो. मुखर्जी का यह शोधाध्ययन ऐतिहासिक तिथिक्रम से परे प्रागैतिहासिक, ऋग्वैदिक, उत्तरवैदिक और वेदोत्तर काल से लेकर इतिहास के सुनिश्चित तिथिक्रम के पहले दो सौ पचहत्तर वर्षों (ई. पू. 650-325) पर केन्द्रित है। इसके लिए उन्होंने ऋग्वेदीय भारतीय मानव के उपलब्ध भौतिक अवशेषों तथा उसके द्वारा प्रयुक्त विभिन्न प्रकार की उत्खनित सामग्री का सप्रमाण उपयोग किया है।
वस्तुतः प्राचीन सभ्यता या इतिहास-विषयक प्रामाणिक लेखन उपलब्ध अलिखित साक्ष्यों के बिना सम्भव ही नहीं है। यह मानते हुए भी कि भारत में साहित्य की रचना लिपि से पहले हुई और वह दीर्घकाल तक कंठ-परम्परा में जीवित रहकर ‘श्रुति’ कहलाया जाता रहा, उसे भारतीय इतिहास की प्राचीनतम साक्ष्य-सामग्री नहीं माना जा सकता। यों भी यह एक सर्वमान्य तथ्य है कि लिपि, लेखन-कला, शिक्षा या साहित्य मानव-जीवन में तभी आ पाए, जबकि सभ्यता ने अनेक शताब्दियों की यात्रा तय कर ली। इसलिए प्रागैतिहासिक युग के औज़ारों, हथियारों, बर्तनों और आवासगृहों तथा वैदिक और उत्तरवैदिक युग के वास्तु, शिल्प, चित्र, शिलालेख, ताम्रपट्ट और सिक्कों आदि वस्तुओं को ही अकाट्य ऐतिहासिक साक्ष्य के रूप में स्वीकार किया जाता है। कहना न होगा कि भारतीय संस्कृति और सभ्यता के क्षेत्र में अध्ययनरत शोध छात्रों के लिए अत्यन्त उपयोगी इस कृति के निष्कर्ष इन्हीं साक्ष्यों पर आधारित हैं। ‘hindu sabhyta’ prakhyat itihaskar pro. Radhakumud mukharji ki sarvmanya angrezi pustak ‘hindu savilajeshan’ ka anuvad hai. Anuvad kiya hai itihas aur puratattv ke suprtishth vidvan dau. Vasudevashran agrval ne. Isaliye anudit rup mein bhi ye kriti apne vishay ki atyant pramanik pustkon mein sarvopari hai. Hindu sabhyta ke aadi svrup ke bare mein pro. Mukharji ka ye shodhadhyyan aitihasik tithikram se pare pragaitihasik, rigvaidik, uttaravaidik aur vedottar kaal se lekar itihas ke sunishchit tithikram ke pahle do sau pachhattar varshon (ii. Pu. 650-325) par kendrit hai. Iske liye unhonne rigvediy bhartiy manav ke uplabdh bhautik avsheshon tatha uske dvara pryukt vibhinn prkar ki utkhnit samagri ka saprman upyog kiya hai.
Vastutः prachin sabhyta ya itihas-vishyak pramanik lekhan uplabdh alikhit sakshyon ke bina sambhav hi nahin hai. Ye mante hue bhi ki bharat mein sahitya ki rachna lipi se pahle hui aur vah dirghkal tak kanth-parampra mein jivit rahkar ‘shruti’ kahlaya jata raha, use bhartiy itihas ki prachintam sakshya-samagri nahin mana ja sakta. Yon bhi ye ek sarvmanya tathya hai ki lipi, lekhan-kala, shiksha ya sahitya manav-jivan mein tabhi aa paye, jabaki sabhyta ne anek shatabdiyon ki yatra tay kar li. Isaliye pragaitihasik yug ke auzaron, hathiyaron, bartnon aur aavasagrihon tatha vaidik aur uttaravaidik yug ke vastu, shilp, chitr, shilalekh, tamrpatt aur sikkon aadi vastuon ko hi akatya aitihasik sakshya ke rup mein svikar kiya jata hai. Kahna na hoga ki bhartiy sanskriti aur sabhyta ke kshetr mein adhyayanrat shodh chhatron ke liye atyant upyogi is kriti ke nishkarsh inhin sakshyon par aadharit hain.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products