Hindu Paramparaon Ka Rashtriyakaran

Regular price Rs. 460
Sale price Rs. 460 Regular price Rs. 495
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Hindu Paramparaon Ka Rashtriyakaran

Hindu Paramparaon Ka Rashtriyakaran

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

अंग्रेज़ी में आज से उन्नीस साल पहले प्रकाशित यह पुस्तक एक ऐसे ढाँचे की प्रस्तावना करती है जो भारतेन्दु के पारम्परिक और परिवर्तनोन्मुख पहलुओं की एक साथ सुसंगत रूप में व्याख्या कर सके। इस ढाँचे में भारतेन्दु हिन्दुस्तान के उस उदीयमान मध्यवर्ग के नेतृत्वकारी प्रतिनिधि के रूप में सामने आते हैं जो पहले से मौजूद दो मुहावरों के साथ अन्तरक्रिया करते हुए एक तीसरे आधुनिकतावादी मुहावरे को गढ़ रहा था। ये तीन मुहावरे क्या थे, इनकी अन्तरक्रियाओं की क्या पेचीदगियाँ थीं, साम्प्रदायिकता और राष्ट्रवाद के सहविकास में आरम्भिक साम्प्रदायिकता और आरम्भिक राष्ट्रवाद को चिह्नित करनेवाला यह तीसरा मुहावरा किस तरह समावेशन-अपवर्जन की दोहरी प्रक्रिया के बीच हिन्दी भाषा और साहित्य को हिन्दुओं की भाषा और साहित्य के रूप में रच रहा था और इस तरह समेकित रूप से राष्ट्रीय भाषा, साहित्य तथा धर्म की गढ़ंत का ऐतिहासिक किरदार निभा रहा था, किस तरह नई हिन्दू संस्कृति के निर्माण में एक-दूसरे के साथ जुड़ती-भिड़ती तमाम शक्तियों के आपसी सम्बन्धों को भारतेन्दु के विलक्षण व्यक्तित्व और कृतित्व में सबसे मुखर अभिव्यक्ति मिल रही थी—यह किताब इन अन्तस्सम्बन्धित पहलुओं का एक समग्र आकलन है। यहाँ बल एकतरफ़ा फ़ैसले सुनाने के बजाय चीज़ों के ऐतिहासिक प्रकार्य और गतिशास्त्र को समझने पर है। ध्वस्त करने या महिमामंडित करने की जल्दबाज़ी वसुधा डालमिया के लेखन का स्वभाव नहीं है, मामला भारतेन्दु का हो या भारतेन्दु पर विचार करनेवाले विद्वानों का। हिन्दी में इस किताब का आना एकाधिक कारणों से ज़रूरी था। नई सूचनाओं और स्थापनाओं के लिए तो इसे पढ़ा ही जाना चाहिए, साथ ही हर तथ्य को साक्ष्य से पुष्ट करनेवाली शोध-प्रविधि, हर कोण से सवाल उठानेवाली विश्लेषण-विधि और खंडन-मंडन के जेहादी जोश से रहित निर्णय-पद्धति के नमूने के रूप में भी यह पठनीय है। Angrezi mein aaj se unnis saal pahle prkashit ye pustak ek aise dhanche ki prastavna karti hai jo bhartendu ke paramprik aur parivartnonmukh pahaluon ki ek saath susangat rup mein vyakhya kar sake. Is dhanche mein bhartendu hindustan ke us udiyman madhyvarg ke netritvkari pratinidhi ke rup mein samne aate hain jo pahle se maujud do muhavron ke saath antrakriya karte hue ek tisre aadhuniktavadi muhavre ko gadh raha tha. Ye tin muhavre kya the, inki antrakriyaon ki kya pechidagiyan thin, samprdayikta aur rashtrvad ke sahavikas mein aarambhik samprdayikta aur aarambhik rashtrvad ko chihnit karnevala ye tisra muhavra kis tarah samaveshan-apvarjan ki dohri prakriya ke bich hindi bhasha aur sahitya ko hinduon ki bhasha aur sahitya ke rup mein rach raha tha aur is tarah samekit rup se rashtriy bhasha, sahitya tatha dharm ki gadhant ka aitihasik kirdar nibha raha tha, kis tarah nai hindu sanskriti ke nirman mein ek-dusre ke saath judti-bhidti tamam shaktiyon ke aapsi sambandhon ko bhartendu ke vilakshan vyaktitv aur krititv mein sabse mukhar abhivyakti mil rahi thi—yah kitab in antassambandhit pahaluon ka ek samagr aaklan hai. Yahan bal ekatarfa faisle sunane ke bajay chizon ke aitihasik prkarya aur gatishastr ko samajhne par hai. Dhvast karne ya mahimamandit karne ki jaldbazi vasudha dalamiya ke lekhan ka svbhav nahin hai, mamla bhartendu ka ho ya bhartendu par vichar karnevale vidvanon ka. Hindi mein is kitab ka aana ekadhik karnon se zaruri tha. Nai suchnaon aur sthapnaon ke liye to ise padha hi jana chahiye, saath hi har tathya ko sakshya se pusht karnevali shodh-prvidhi, har kon se saval uthanevali vishleshan-vidhi aur khandan-mandan ke jehadi josh se rahit nirnay-paddhati ke namune ke rup mein bhi ye pathniy hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products