Look Inside
Hindu Banam Hindu
Hindu Banam Hindu
Hindu Banam Hindu
Hindu Banam Hindu

Hindu Banam Hindu

Regular price Rs. 185
Sale price Rs. 185 Regular price Rs. 199
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Hindu Banam Hindu

Hindu Banam Hindu

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

हिन्दुस्तान बहुत बड़ा है और पुराना देश है। मनुष्य की इच्छा के अलावा कोई शक्ति इसमें एकता नहीं ला सकती। कट्टरपन्थी हिन्दुत्व अपने स्वभाव के कारण ही ऐसी इच्छा नहीं पैदा कर सकता, लेकिन उदार हिन्दुत्व कर सकता है, जैसा पहले कई बार कर चुका है। हिन्दू धर्म संकुचित दृष्टि से राजनीतिक धर्म, सिद्धान्तों और संगठन का धर्म नहीं है। लेकिन राजनीतिक देश के इतिहास में एकता लाने की बड़ी कोशिशों को इससे प्रेरणा मिली है और उनका यह प्रमुख माध्यम रहा है। हिन्दू धर्म में उदारता और कट्टरता के महान युद्ध को देश की एकता और बिखराव की शक्तियों का संघर्ष भी कहा जा सकता है।
इधर हिन्दुत्व पूरी तरह समस्या का हल नहीं कर सका। विविधता में एकता के सिद्धान्त के पीछे सदन और बिखराव के बीज छिपे हैं। कट्टरपन्थी तत्त्वों के अलावा, जो हमेशा ऊपर से उदार हिन्दू विचारों में घुस आते हैं और हमेशा दिमाग़ी सफ़ाई हासिल करने में रुकावट डालते हैं, विविधता में एकता का सिद्धान्त ऐसे दिमाग़ को जन्म देता है जो समृद्ध और निष्क्रिय दोनों ही है।
प्रस्तुत पुस्तक में जातिवाद की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि, ग़ुलामी, आज़ादी और उत्थान, जातिप्रथा समस्या की जड़, छोटी जातियाँ और भाषा आदि महत्त्वपूर्ण पहलुओं पर प्रकाश डाला गया है। Hindustan bahut bada hai aur purana desh hai. Manushya ki ichchha ke alava koi shakti ismen ekta nahin la sakti. Kattarpanthi hindutv apne svbhav ke karan hi aisi ichchha nahin paida kar sakta, lekin udar hindutv kar sakta hai, jaisa pahle kai baar kar chuka hai. Hindu dharm sankuchit drishti se rajnitik dharm, siddhanton aur sangthan ka dharm nahin hai. Lekin rajnitik desh ke itihas mein ekta lane ki badi koshishon ko isse prerna mili hai aur unka ye prmukh madhyam raha hai. Hindu dharm mein udarta aur kattarta ke mahan yuddh ko desh ki ekta aur bikhrav ki shaktiyon ka sangharsh bhi kaha ja sakta hai. Idhar hindutv puri tarah samasya ka hal nahin kar saka. Vividhta mein ekta ke siddhant ke pichhe sadan aur bikhrav ke bij chhipe hain. Kattarpanthi tattvon ke alava, jo hamesha uupar se udar hindu vicharon mein ghus aate hain aur hamesha dimagi safai hasil karne mein rukavat dalte hain, vividhta mein ekta ka siddhant aise dimag ko janm deta hai jo samriddh aur nishkriy donon hi hai.
Prastut pustak mein jativad ki aitihasik prishthbhumi, gulami, aazadi aur utthan, jatiprtha samasya ki jad, chhoti jatiyan aur bhasha aadi mahattvpurn pahaluon par prkash dala gaya hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products