Look Inside
Hindi Vyakaran Mimansa
Hindi Vyakaran Mimansa
Hindi Vyakaran Mimansa
Hindi Vyakaran Mimansa

Hindi Vyakaran Mimansa

Regular price Rs. 558
Sale price Rs. 558 Regular price Rs. 600
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Hindi Vyakaran Mimansa

Hindi Vyakaran Mimansa

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

व्याकरण छह वेदांगों में से एक है। वह वेद का मुख है। अत: भारत में उसके अध्ययन की प्राचीनता उतनी ही है जितनी वेदों की। आज से कम से कम अढ़ाई हज़ार वर्ष पूर्व तो पाणिनि ने उसे पूर्णता तक पहुँचा दिया था।
व्याकरण में वर्णों के उच्चारण, शब्दों की रचना और रूप रचना तथा वाक्यों की रूप-रचना पर विचार होता है। वह भाषा का उच्चारण और रूप रचनामूलक अध्ययन करता है। दूसरे शब्दों में, वह शब्द-प्रधान है, अर्थ-प्रधान नहीं। इसीलिए उसे शब्दानुशासन या शब्दशास्त्र भी कहते हैं।
पश्चिम के ग्रामर अर्थ-प्रधान होते हैं। वे वर्णों के केवल लिपिगत रूप पर विचार करते हैं। शब्दों का वर्गीकरण उनके अर्थ के आधार पर करते हैं : अमुक बोधक, तमुक वाचक आदि। वाक्य में रूप-रचना का भी ध्यान रखते हैं पर प्रधानता विश्लेषण की ही होती है जो प्रकार्य (अर्थ) प्रधान होती है—क्रिया, उसका कर्ता, कर्म, पूरक आदि। सार यह कि ग्रामर अर्थ-प्रधान होते हैं, व्याकरण शब्द-प्रधान।
हिन्दी आदि सीखने के लिए विदेशियों ने ग्रामर बनाए, दुर्भाग्य से उन्हें ही व्याकरण कहा जाने लगा। बाद में ब्‍लूमफील्ड आदि ने भाषा के अध्ययन की व्याकरणिक शैली अपनाई पर उसे ग्रामर नहीं कहा, संरचनात्मक भाषिकी आदि कहा। उनकी भाषिकी व्याकरण है। इसीलिए उन्होंने ग्रामर नहीं कहा
प्रस्तुत रचना में डॉ. दीमशिन्स, कामता प्रसाद गुरु और किशोरीदास वाजपेयी के व्याकरणों की समीक्षा के व्यपदेश से व्याकरण का विषय क्षेत्र तो स्पष्ट किया ही गया है, सच्चे हिन्दी व्याकरण की रूपरेखा भी दी गई है; ऐसे व्याकरण बनेंगे तो भाषा अध्ययन की सही दिशा मिलेगी। जो ग्रामरी शैली को ठीक समझें, वे ग्रामर पढ़ें और लिखें भी, पर उन्हें व्याकरण न कहें? व्याकरण की वही परिभाषा रहने दें जो चार-पाँच हज़ार वर्ष से रही है। Vyakran chhah vedangon mein se ek hai. Vah ved ka mukh hai. At: bharat mein uske adhyyan ki prachinta utni hi hai jitni vedon ki. Aaj se kam se kam adhai hazar varsh purv to panini ne use purnta tak pahuncha diya tha. Vyakran mein varnon ke uchcharan, shabdon ki rachna aur rup rachna tatha vakyon ki rup-rachna par vichar hota hai. Vah bhasha ka uchcharan aur rup rachnamulak adhyyan karta hai. Dusre shabdon mein, vah shabd-prdhan hai, arth-prdhan nahin. Isiliye use shabdanushasan ya shabdshastr bhi kahte hain.
Pashchim ke gramar arth-prdhan hote hain. Ve varnon ke keval lipigat rup par vichar karte hain. Shabdon ka vargikran unke arth ke aadhar par karte hain : amuk bodhak, tamuk vachak aadi. Vakya mein rup-rachna ka bhi dhyan rakhte hain par prdhanta vishleshan ki hi hoti hai jo prkarya (arth) prdhan hoti hai—kriya, uska karta, karm, purak aadi. Saar ye ki gramar arth-prdhan hote hain, vyakran shabd-prdhan.
Hindi aadi sikhne ke liye videshiyon ne gramar banaye, durbhagya se unhen hi vyakran kaha jane laga. Baad mein ‍lumphild aadi ne bhasha ke adhyyan ki vyakarnik shaili apnai par use gramar nahin kaha, sanrachnatmak bhashiki aadi kaha. Unki bhashiki vyakran hai. Isiliye unhonne gramar nahin kaha
Prastut rachna mein dau. Dimshins, kamta prsad guru aur kishoridas vajpeyi ke vyakarnon ki samiksha ke vyapdesh se vyakran ka vishay kshetr to spasht kiya hi gaya hai, sachche hindi vyakran ki ruprekha bhi di gai hai; aise vyakran banenge to bhasha adhyyan ki sahi disha milegi. Jo gramri shaili ko thik samjhen, ve gramar padhen aur likhen bhi, par unhen vyakran na kahen? vyakran ki vahi paribhasha rahne den jo char-panch hazar varsh se rahi hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products