BackBack
-11%

Hindi Vyakaran

Kamta Prasad Guru

Rs. 195 Rs. 174

प्रस्तुत पुस्तक ‘हिन्दी व्याकरण’ में व्याकरण की उपयोगिता और आवश्यकता बतलाई गई है, तथापि यहाँ इतना कहना उचित जान पड़ता है कि किसी भाषा के व्याकरण का निर्माण उसके साहित्य की पूर्ति का कारण होता है और उसकी प्रगति में सहायता देता है। भाषा की सत्ता स्वतंत्र होने पर भी... Read More

BlackBlack
Description

प्रस्तुत पुस्तक ‘हिन्दी व्याकरण’ में व्याकरण की उपयोगिता और आवश्यकता बतलाई गई है, तथापि यहाँ इतना कहना उचित जान पड़ता है कि किसी भाषा के व्याकरण का निर्माण उसके साहित्य की पूर्ति का कारण होता है और उसकी प्रगति में सहायता देता है। भाषा की सत्ता स्वतंत्र होने पर भी व्याकरण उसका सहायक अनुयायी बनकर उसे समय और स्थान-स्थान पर जो आवश्यक सूचनाएँ देता है, उससे भाषा को लाभ होता है।
यह व्याकरण अधिकांश में, अंग्रेज़ी व्याकरण के ढंग पर लिखा गया है। इस प्रणाली के अनुसरण का मुख्य कारण यह है कि हिन्दी में आरम्भ ही से इसी प्रणाली का उपयोग किया गया है और आज तक किसी लेखक ने संस्कृत प्रणाली का कोई पूर्ण आदर्श उपस्थित नहीं किया। वर्तमान प्रणाली के प्रचार का दूसरा कारण यह है कि इसमें स्पष्टता और सरलता विशेष रूप से पाई जाती है और सूत्र तथा भाष्य, दोनों ऐसे मिले रहते हैं कि पूरा व्याकरण, विशद रूप में लिखा जा सकता है। इस पुस्तक में अधिकांश में वही पारिभाषिक शब्द रखे गए हैं, जो हिन्दी में, ‘भाषाभास्कर’ के द्वारा प्रचलित हो गए हैं। यथार्थ में ये सब शब्द संस्कृत व्याकरण के हैं, जिससे और भी कुछ शब्द लिए गए हैं। थोड़े-बहुत आवश्यक पारिभाषिक शब्द मराठी तथा बांग्ला भाषाओं के व्याकरणों से लिए गए हैं और उपर्युक्त शब्दों के अभाव में कुछ शब्दों की रचना लेखक द्वारा स्वयं की गई है। Prastut pustak ‘hindi vyakran’ mein vyakran ki upyogita aur aavashyakta batlai gai hai, tathapi yahan itna kahna uchit jaan padta hai ki kisi bhasha ke vyakran ka nirman uske sahitya ki purti ka karan hota hai aur uski pragati mein sahayta deta hai. Bhasha ki satta svtantr hone par bhi vyakran uska sahayak anuyayi bankar use samay aur sthan-sthan par jo aavashyak suchnayen deta hai, usse bhasha ko labh hota hai. Ye vyakran adhikansh mein, angrezi vyakran ke dhang par likha gaya hai. Is prnali ke anusran ka mukhya karan ye hai ki hindi mein aarambh hi se isi prnali ka upyog kiya gaya hai aur aaj tak kisi lekhak ne sanskrit prnali ka koi purn aadarsh upasthit nahin kiya. Vartman prnali ke prchar ka dusra karan ye hai ki ismen spashtta aur saralta vishesh rup se pai jati hai aur sutr tatha bhashya, donon aise mile rahte hain ki pura vyakran, vishad rup mein likha ja sakta hai. Is pustak mein adhikansh mein vahi paribhashik shabd rakhe ge hain, jo hindi mein, ‘bhashabhaskar’ ke dvara prachlit ho ge hain. Yatharth mein ye sab shabd sanskrit vyakran ke hain, jisse aur bhi kuchh shabd liye ge hain. Thode-bahut aavashyak paribhashik shabd marathi tatha bangla bhashaon ke vyakarnon se liye ge hain aur uparyukt shabdon ke abhav mein kuchh shabdon ki rachna lekhak dvara svayan ki gai hai.