BackBack
-11%

Hindi Upanyas Ka Stree-Path

Rs. 500 Rs. 445

कहा जाता है कि आज की ज़मीन पर खड़े होकर पुरानी कृतियों का पाठ नहीं किया जाना चाहिए, ख़ासकर स्त्री एवं दलित दृष्टि से क्योंकि उस समय समाज स्त्री एवं दलित प्रश्नों को लेकर न इतना संवेदनशील था, न सजग। यह भी तर्क दिया जाता है कि लेखक अपने युग... Read More

Description

कहा जाता है कि आज की ज़मीन पर खड़े होकर पुरानी कृतियों का पाठ नहीं किया जाना चाहिए, ख़ासकर स्त्री एवं दलित दृष्टि से क्योंकि उस समय समाज स्त्री एवं दलित प्रश्नों को लेकर न इतना संवेदनशील था, न सजग। यह भी तर्क दिया जाता है कि लेखक अपने युग की वैचारिक हदबन्दियों के बीच रहकर ही अभिव्यक्ति की राह चुनता है। मुझे इस मान्यता पर आपत्ति है। एक, यदि युगीन वैचारिक हदबन्दियाँ ही रचना की घेरेबन्दी करती हैं, तब वह कालजयी कृति कैसे हुई? दूसरे, यदि साहित्यकार रचयिता/स्रष्टा है तो उसे अपनी गहन अन्तर्दृष्टि, उन्नत भावबोध और प्रखर कल्पना द्वारा वह सब साक्षात् करना है जो उसके अन्य समकालीनों की कर्मेन्द्रियों और ज्ञानेन्द्रियों की पहुँच से बाहर छूट रहा है। सृजन के समय अन्तर्दृष्टि के पंखों पर सवार लेखक जब कल्पनाशीलता के आकाश में विचरण करता है तो सोलहों आने लेखक होता है। मुक्ति की आकांक्षा से दिपदिपाती उसकी चेतना जड़ता और पराधीनता, बन्धन और व्यवस्थागत दबावों का निषेध कर व्यक्ति को ‘मनुष्य’ रूप में देखने लगती है।
मनुष्य को केन्द्र में रखनेवाला, मनुष्य-संसार की गति, ऊर्जा और सपनों से स्पन्दित होनेवाला साहित्य निर्वैयक्तिक हो ही नहीं सकता। एक ठोस सामाजिक-सांस्कृतिक पहचान मनुष्य और समाज की तरह साहित्य और साहित्यकार की भी है। लाख छुपाने की कोशिश करे इंसान, बड़े-बड़े दावों और डींगों के बीच अपनी क्षुद्रताओं और शातिरबाज़ियों को रंचमात्र भी नहीं छुपा पाता। लेखक भी इसका अपवाद नहीं।
पात्रों-स्थितियों-घटनाओं के ज़रिए बेशक वह नए वक़्त की आहटें लेने में सजग भाव से सन्नद्ध रहे, लेकिन इन्हें पाटती दरारों के बीच वह अभिव्यक्त हो ही जाता है। प्रेमचन्द से बहुत पहले पहली स्त्री शिक्षिका सावित्रीबाई फुले पर सड़े अंडे-टमाटर फेंककर स्त्रीद्वेषी दृष्टिकोण को अभिव्यक्त करता रहा है पुरुष-समाज।
यह पुस्तक प्रतिष्ठित रचनाकारों के दायित्वपूर्ण योगदान को धुँधलाने की धृष्टता नहीं, आलोचना के पुंसवादी स्वर के बरअक्स स्त्री-स्वर को धार देने की कोशिश है। यों भी साहित्य शब्दों-पंक्तियों-पन्नों-जिल्द में बँधी हदबन्दियों का मोहताज नहीं कि लाइब्रेरियों में पड़ा सड़ता रहे। जब वह एक नई समाज-संस्कृति, विचार या चरित्र बनकर लौकिक जगत के बीचोबीच आ बैठता है, तब उसे नई चुनौतियों और नए बदलावों के बीच निरन्तर अपने को प्रमाणित भी करते रहना पड़ता है। Kaha jata hai ki aaj ki zamin par khade hokar purani kritiyon ka path nahin kiya jana chahiye, khaskar stri evan dalit drishti se kyonki us samay samaj stri evan dalit prashnon ko lekar na itna sanvedanshil tha, na sajag. Ye bhi tark diya jata hai ki lekhak apne yug ki vaicharik hadbandiyon ke bich rahkar hi abhivyakti ki raah chunta hai. Mujhe is manyta par aapatti hai. Ek, yadi yugin vaicharik hadbandiyan hi rachna ki gherebandi karti hain, tab vah kalajyi kriti kaise hui? dusre, yadi sahitykar rachayita/srashta hai to use apni gahan antardrishti, unnat bhavbodh aur prkhar kalpna dvara vah sab sakshat karna hai jo uske anya samkalinon ki karmendriyon aur gyanendriyon ki pahunch se bahar chhut raha hai. Srijan ke samay antardrishti ke pankhon par savar lekhak jab kalpnashilta ke aakash mein vichran karta hai to solhon aane lekhak hota hai. Mukti ki aakanksha se dipadipati uski chetna jadta aur paradhinta, bandhan aur vyvasthagat dabavon ka nishedh kar vyakti ko ‘manushya’ rup mein dekhne lagti hai. Manushya ko kendr mein rakhnevala, manushya-sansar ki gati, uurja aur sapnon se spandit honevala sahitya nirvaiyaktik ho hi nahin sakta. Ek thos samajik-sanskritik pahchan manushya aur samaj ki tarah sahitya aur sahitykar ki bhi hai. Lakh chhupane ki koshish kare insan, bade-bade davon aur dingon ke bich apni kshudrtaon aur shatirbaziyon ko ranchmatr bhi nahin chhupa pata. Lekhak bhi iska apvad nahin.
Patron-sthitiyon-ghatnaon ke zariye beshak vah ne vaqt ki aahten lene mein sajag bhav se sannaddh rahe, lekin inhen patti dararon ke bich vah abhivyakt ho hi jata hai. Premchand se bahut pahle pahli stri shikshika savitribai phule par sade ande-tamatar phenkkar stridveshi drishtikon ko abhivyakt karta raha hai purush-samaj.
Ye pustak prtishthit rachnakaron ke dayitvpurn yogdan ko dhundhlane ki dhrishtta nahin, aalochna ke punsvadi svar ke baraks stri-svar ko dhar dene ki koshish hai. Yon bhi sahitya shabdon-panktiyon-pannon-jild mein bandhi hadbandiyon ka mohtaj nahin ki laibreriyon mein pada sadta rahe. Jab vah ek nai samaj-sanskriti, vichar ya charitr bankar laukik jagat ke bichobich aa baithta hai, tab use nai chunautiyon aur ne badlavon ke bich nirantar apne ko prmanit bhi karte rahna padta hai.