Hindi Upanyas Ka Itihas

Regular price Rs. 1,399
Sale price Rs. 1,399 Regular price Rs. 1,495
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Hindi Upanyas Ka Itihas

Hindi Upanyas Ka Itihas

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

बीसवीं शताब्दी के अन्त के साथ हिन्दी उपन्यास की उम्र लगभग 130 वर्ष की हो चुकी है। बड़े ही बेमालूम ढंग से 1970 ई. में पं. गौरीदत्त की ‘देवरानी-जेठानी की कहानी’ के रूप में इसका जन्म हुआ, जिसकी तरफ़ लगभग सौ वर्षों तक किसी का ध्यान भी नहीं गया। लेखक ने पुष्ट तर्कों के आधार पर ‘देवरानी-जेठानी की कहानी’ को हिन्दी के प्रथम उपन्यास के रूप में स्वीकार किया है और 1970 ई. से 2000 ई. तक की अवधि में हिन्दी उपन्यास के ऐतिहासिक विकास को समझने का प्रयास किया है।
हिन्दी में प्रकाशित पुस्तकों के प्रामाणिक विवरण का अभिलेख सुरक्षित रखने की समृद्ध और विश्वसनीय परम्परा प्रायः नहीं है। इस कारण हिन्दी साहित्य के इतिहास-लेखन में अनेक प्रकार की मुश्किलें आती हैं। इस पुस्तक में पहली बार लगभग 1300 उपन्यासों का उल्लेख उनके प्रामाणिक प्रकाशन-काल के साथ किया गया है। यह दावा तो नहीं किया जा सकता कि इस किताब में कोई महत्त्वपूर्ण उपन्यासकार या उपन्यास छूट नहीं गया है, पर इस बात की कोशिश ज़रूर की गई है। साहित्य के इतिहास में सभी लिखित-प्रकाशित रचनाओं का उल्लेख न सम्भव है न आवश्यक, इसलिए सचेत रूप में भी अनेक उपन्यासों का ज़िक्र इस पुस्तक में नहीं किया गया है।
साहित्य के इतिहास में पुस्तकों की प्रकाशन-तिथियों की प्रामाणिकता के साथ-साथ यह भी ज़रूरी होता है कि सम्बद्ध विधा के विकास की धाराओं की सही पहचान की जाए। विधा के रूप में हिन्दी उपन्यास का विकास अभी जारी है। विकास ‘ऐतिहासिक काल’ में ही होता है और इतिहास में प्रामाणिक तथ्यों की महत्त्वपूर्ण भूमिका होती है। कोशिश यह की गई है कि यह पुस्तक हिन्दी उपन्यास का मात्र ‘इतिहास’ न बनकर ‘विकासात्मक इतिहास’ बने। Bisvin shatabdi ke ant ke saath hindi upanyas ki umr lagbhag 130 varsh ki ho chuki hai. Bade hi bemalum dhang se 1970 ii. Mein pan. Gauridatt ki ‘devrani-jethani ki kahani’ ke rup mein iska janm hua, jiski taraf lagbhag sau varshon tak kisi ka dhyan bhi nahin gaya. Lekhak ne pusht tarkon ke aadhar par ‘devrani-jethani ki kahani’ ko hindi ke prtham upanyas ke rup mein svikar kiya hai aur 1970 ii. Se 2000 ii. Tak ki avadhi mein hindi upanyas ke aitihasik vikas ko samajhne ka pryas kiya hai. Hindi mein prkashit pustkon ke pramanik vivran ka abhilekh surakshit rakhne ki samriddh aur vishvasniy parampra prayः nahin hai. Is karan hindi sahitya ke itihas-lekhan mein anek prkar ki mushkilen aati hain. Is pustak mein pahli baar lagbhag 1300 upanyason ka ullekh unke pramanik prkashan-kal ke saath kiya gaya hai. Ye dava to nahin kiya ja sakta ki is kitab mein koi mahattvpurn upanyaskar ya upanyas chhut nahin gaya hai, par is baat ki koshish zarur ki gai hai. Sahitya ke itihas mein sabhi likhit-prkashit rachnaon ka ullekh na sambhav hai na aavashyak, isaliye sachet rup mein bhi anek upanyason ka zikr is pustak mein nahin kiya gaya hai.
Sahitya ke itihas mein pustkon ki prkashan-tithiyon ki pramanikta ke sath-sath ye bhi zaruri hota hai ki sambaddh vidha ke vikas ki dharaon ki sahi pahchan ki jaye. Vidha ke rup mein hindi upanyas ka vikas abhi jari hai. Vikas ‘aitihasik kal’ mein hi hota hai aur itihas mein pramanik tathyon ki mahattvpurn bhumika hoti hai. Koshish ye ki gai hai ki ye pustak hindi upanyas ka matr ‘itihas’ na bankar ‘vikasatmak itihas’ bane.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products