Look Inside
Hindi Sahitya Ka Doosara Itihas
Hindi Sahitya Ka Doosara Itihas

Hindi Sahitya Ka Doosara Itihas

Regular price Rs. 1,204
Sale price Rs. 1,204 Regular price Rs. 1,295
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Hindi Sahitya Ka Doosara Itihas Rajkamal

Hindi Sahitya Ka Doosara Itihas

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘हिन्दी साहित्य का दूसरा इतिहास’ हिन्दी के मूर्द्धन्य आलोचक, चिन्तक डॉ. बच्चन सिंह की महत्त्वपूर्ण पुस्तक है।
उन्होंने भूमिका में लिखा है : ‘‘न तो आचार्य रामचन्द्र शुक्ल के ‘हिन्दी साहित्य का इतिहास’ को लेकर दूसरा नया इतिहास लिखा जा सकता है और न उसे छोड़कर। नए इतिहास के लिए शुक्ल जी का इतिहास एक चुनौती है...।’’ किन्तु उन्होंने इस चुनौती को स्वीकारते हुए आगे लिखा : ‘‘रचनात्मक साहित्य पुराने पैटर्न को तोड़कर नया बनता है, तो साहित्य के इतिहास पर वह क्यों न लागू हो?’’ ‘हिन्दी साहित्य का दूसरा इतिहास’ साहित्येतिहास के लेखन के परिप्रेक्ष्य में यही नया पैटर्न ईजाद करने का साहसिक प्रयास है।
लेखक ने पुस्तक के पहले संस्करण की भूमिका में इस नए पैटर्न की ऐतिहासिक अनिवार्यता को स्पष्ट करते हुए लिखा : ‘‘शुक्ल जी के इतिहास का संशोधित और परिवर्द्धित संस्करण सन् 1940 में छपा था। उसके प्रकाशन के बाद 50 वर्ष से अधिक का समय निकल गया। इस अवधि में अनेकानेक शोध-ग्रन्थ छपे, नई पांडुलिपियाँ उपलब्ध हुईं, ढेर-सा साहित्य लिखा गया। नया इतिहास लिखने के लिए यह सामग्री कम पर्याप्त और कम महत्त्वपूर्ण नहीं है। यह भी ध्यातव्य है कि शुक्ल जी का इतिहास औपनिवेशिक भारत में लिखा गया। अब देश स्वतंत्र है। उसमें लोकतांत्रिक व्यवस्था है। भारतीय लोकतंत्र की अपनी समस्याएँ हैं। सांस्कृतिक-सामाजिक संघर्ष हैं, इन्हें देखने-समझने का बदला हुआ नज़रिया है। इस नए सन्दर्भ में यदि पिष्टपेषण नहीं करना है, तो नया इतिहास ही लिखा जाएगा।’’
यह 'दूसरा इतिहास’ इसी अर्थ में कुछ दूसरे ढंग से लिखा हुआ इतिहास है।
यह ग्रन्थ इतिहास की धारावाहिक निरन्तरता के साथ ही हिन्दी के प्रमुख साहित्यकारों और साहित्यिक कृतियों का मौलिक दृष्टि से मूल्यांकन प्रस्तुत करता है। इसके साथ ही डॉ. बच्चन सिंह ने अपने निजी दृष्टिकोण तथा साहित्यिक समझ के आधार पर इसमें बहुत कुछ नया जोड़ा है जो इस कृति को सच्चे अर्थों में हिन्दी साहित्य का विशिष्ट इतिहास प्रमाणित करता है। ‘hindi sahitya ka dusra itihas’ hindi ke murddhanya aalochak, chintak dau. Bachchan sinh ki mahattvpurn pustak hai. Unhonne bhumika mein likha hai : ‘‘na to aacharya ramchandr shukl ke ‘hindi sahitya ka itihas’ ko lekar dusra naya itihas likha ja sakta hai aur na use chhodkar. Ne itihas ke liye shukl ji ka itihas ek chunauti hai. . . . ’’ kintu unhonne is chunauti ko svikarte hue aage likha : ‘‘rachnatmak sahitya purane paitarn ko todkar naya banta hai, to sahitya ke itihas par vah kyon na lagu ho?’’ ‘hindi sahitya ka dusra itihas’ sahityetihas ke lekhan ke pariprekshya mein yahi naya paitarn iijad karne ka sahsik pryas hai.
Lekhak ne pustak ke pahle sanskran ki bhumika mein is ne paitarn ki aitihasik anivaryta ko spasht karte hue likha : ‘‘shukl ji ke itihas ka sanshodhit aur parivarddhit sanskran san 1940 mein chhapa tha. Uske prkashan ke baad 50 varsh se adhik ka samay nikal gaya. Is avadhi mein anekanek shodh-granth chhape, nai pandulipiyan uplabdh huin, dher-sa sahitya likha gaya. Naya itihas likhne ke liye ye samagri kam paryapt aur kam mahattvpurn nahin hai. Ye bhi dhyatavya hai ki shukl ji ka itihas aupaniveshik bharat mein likha gaya. Ab desh svtantr hai. Usmen loktantrik vyvastha hai. Bhartiy loktantr ki apni samasyayen hain. Sanskritik-samajik sangharsh hain, inhen dekhne-samajhne ka badla hua nazariya hai. Is ne sandarbh mein yadi pishtpeshan nahin karna hai, to naya itihas hi likha jayega. ’’
Ye dusra itihas’ isi arth mein kuchh dusre dhang se likha hua itihas hai.
Ye granth itihas ki dharavahik nirantarta ke saath hi hindi ke prmukh sahitykaron aur sahityik kritiyon ka maulik drishti se mulyankan prastut karta hai. Iske saath hi dau. Bachchan sinh ne apne niji drishtikon tatha sahityik samajh ke aadhar par ismen bahut kuchh naya joda hai jo is kriti ko sachche arthon mein hindi sahitya ka vishisht itihas prmanit karta hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products