Look Inside
Hindi Sahitya Aur Nari Samaj
Hindi Sahitya Aur Nari Samaj
Hindi Sahitya Aur Nari Samaj
Hindi Sahitya Aur Nari Samaj

Hindi Sahitya Aur Nari Samaj

Regular price Rs. 925
Sale price Rs. 925 Regular price Rs. 995
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Hindi Sahitya Aur Nari Samaj

Hindi Sahitya Aur Nari Samaj

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

संसार के समस्त प्राणियों में 'स्त्री' मानव समाज की अपनी दुनिया है। यह जानने, समझने के बावजूद स्त्री घर के भीतर और बाहर समाज में उपेक्षित, अपमानित और प्रताड़ित होती रही है। कभी उसने प्रतिरोध किया तो कभी विरोध। हर हाल में झेलना स्त्री को ही पड़ा है। कभी परिस्थितियों की प्रतिकूलता ने उसे संघर्षमय बनाया तो कभी अपनों की अनाकुलता के कारण उसे विषमताओं को झेलना पड़ा। यदि वह उनसे उभरती तो कोई न कोई कलंक उसे कलुषित करता। मानो स्त्री कोई वस्तु है, जिसे प्रत्येक स्तर पर अपने आपको ढालना है। स्त्री, स्त्री है तभी वह ऐसा करने में सक्षम है। नारी मानव समाज का अभिन्न अंग है। समाज की ही भाँति साहित्य में भी नारी को लेकर कई विचारधाराएँ हैं। समय चाहे कोई भी रहा हो नारी के जीवन में कई उतार-चढ़ाव आए हैं। परिणामस्वरूप समय-समय पर नारी की स्थिति में परिवर्तन आया। सामाजिक रूप से नारी की स्थिति में आए परिवर्तन का प्रभाव हिन्दी साहित्य पर भी पड़ा, क्योंकि साहित्य समाज का प्रतिबिम्ब होता है। साहित्य मानव जीवन की ही प्रतिछाया है। समाज में नारी की गतिविधियों, चित्तवृत्तियों के अनुरूप हिन्दी साहित्य में भी नारी का चित्रण मिलता है। इस पुस्तक में नारी की सामाजिक और साहित्यिक स्वरूप को समझने और समझाने का प्रयास किया गया है। यह पुस्तक समाज और साहित्य दोनों दृष्टियों से नारी के स्वरूप को एकत्र करने का सत्प्रयत्न है। Sansar ke samast praniyon mein stri manav samaj ki apni duniya hai. Ye janne, samajhne ke bavjud stri ghar ke bhitar aur bahar samaj mein upekshit, apmanit aur prtadit hoti rahi hai. Kabhi usne pratirodh kiya to kabhi virodh. Har haal mein jhelna stri ko hi pada hai. Kabhi paristhitiyon ki pratikulta ne use sangharshmay banaya to kabhi apnon ki anakulta ke karan use vishamtaon ko jhelna pada. Yadi vah unse ubharti to koi na koi kalank use kalushit karta. Mano stri koi vastu hai, jise pratyek star par apne aapko dhalna hai. Stri, stri hai tabhi vah aisa karne mein saksham hai. Nari manav samaj ka abhinn ang hai. Samaj ki hi bhanti sahitya mein bhi nari ko lekar kai vichardharayen hain. Samay chahe koi bhi raha ho nari ke jivan mein kai utar-chadhav aae hain. Parinamasvrup samay-samay par nari ki sthiti mein parivartan aaya. Samajik rup se nari ki sthiti mein aae parivartan ka prbhav hindi sahitya par bhi pada, kyonki sahitya samaj ka pratibimb hota hai. Sahitya manav jivan ki hi pratichhaya hai. Samaj mein nari ki gatividhiyon, chittvrittiyon ke anurup hindi sahitya mein bhi nari ka chitran milta hai. Is pustak mein nari ki samajik aur sahityik svrup ko samajhne aur samjhane ka pryas kiya gaya hai. Ye pustak samaj aur sahitya donon drishtiyon se nari ke svrup ko ekatr karne ka satpryatn hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products