BackBack
-11%

Hindi Sahitya Ak Parichya

Rs. 400 Rs. 356

आचार्य रामचन्द्र शुक्ल के अनुसार, ‘प्रत्येक देश का साहित्य वहाँ की जनता की चित्तवृत्ति का संचित प्रतिबिम्ब होता है, तब यह निश्चित है कि जनता की चित्तवृत्ति के परिवर्तन के साथ-साथ साहित्य के स्वरूप में भी परिवर्तन होता चला जाता है। आदि से अन्त तक इन्हीं चित्तवृत्तियों की परम्परा को... Read More

Description

आचार्य रामचन्द्र शुक्ल के अनुसार, ‘प्रत्येक देश का साहित्य वहाँ की जनता की चित्तवृत्ति का संचित प्रतिबिम्ब होता है, तब यह निश्चित है कि जनता की चित्तवृत्ति के परिवर्तन के साथ-साथ साहित्य के स्वरूप में भी परिवर्तन होता चला जाता है। आदि से अन्त तक इन्हीं चित्तवृत्तियों की परम्परा को परखते हुए साहित्य-परम्परा के साथ उनका सामंजस्य दिखाना साहित्य का इतिहास कहलाता है।’ आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी का मत है कि ‘साहित्य का इतिहास ग्रन्थों और ग्रन्थकारों के उद्भव और विलय की कहानी नहीं है, वह काल स्रोत में बहे आते हुए जीवन्त समाज की विकास कथा है।’ हिन्दी के इन दोनों मूर्धन्य विचारकों की परिभाषाओं से स्पष्ट है कि साहित्य जनता की चित्तवृत्तियों का संचित प्रतिबिम्ब है।
चित्तवृत्तियाँ समय एवं काल के अनुसार परिवर्तित होती रहती हैं। अतएव साहित्य के स्वरूप में भी परिवर्तन होता रहता है। इन परिस्थितियों के आलोक में साहित्य की इस विकासशील प्रवृत्ति को प्रस्तुत करना ही साहित्य का इतिहास कहलाता है। कहना न होगा कि साहित्य का विश्लेषण, अध्ययन केवल साहित्य एवं साहित्यकार तक सीमित रखकर नहीं किया जा सकता। साहित्य की विभिन्न प्रवृत्तियों की प्रस्तुति के लिए उससे सम्बन्धित राष्ट्रीय परम्पराओं, सामाजिक परिस्थितियों, आर्थिक परिस्थितियों, उस युग की चेतना, साहित्यकार की प्रतिभा तथा प्रवृत्ति का विश्लेषण आवश्यक है। देशकाल परिस्थिति भेद से समाज का स्वरूप परिवर्तित होता रहता है, साहित्य समाज का ही प्रतिबिम्ब होता है। स्पष्टतः समाज के स्वरूप के परिवर्तन का प्रभाव साहित्य पर पड़ता है। इस प्रकार साहित्य का इतिहास न केवल विकासशील प्रक्रिया का उद्घाटन करता है, बल्कि इस क्रम में नए और पुराने संघर्ष को भी रेखांकित करता चलता
है।
इसके अतिरिक्त इसमें साहित्य एवं समाज को प्रभावित करनेवाले विभिन्न आन्दोलनों, परिवर्तनों और प्रयोगों के सम्बन्ध का भी विवेचन होता है। साहित्य के इतिहास में रचना और रचनाकार की सृजनात्मक क्षमता को वर्तमान की कसौटी पर कसा जाता है। विश्वम्भर मानव के शब्दों में, ‘किसी भाषा में उस साहित्य का इतिहास लिखा जाना उस साहित्य की समृद्धि का परिणाम है। साहित्य के इतिहास को वह भित्तिचित्र समझिए जिसमें साहित्यिकों के आकृति-चित्र नहीं होते, हृदय-चित्र और मस्तिष्क-चित्र ही होते हैं।’
—इसी पुस्तक से Aacharya ramchandr shukl ke anusar, ‘pratyek desh ka sahitya vahan ki janta ki chittvritti ka sanchit pratibimb hota hai, tab ye nishchit hai ki janta ki chittvritti ke parivartan ke sath-sath sahitya ke svrup mein bhi parivartan hota chala jata hai. Aadi se ant tak inhin chittvrittiyon ki parampra ko parakhte hue sahitya-parampra ke saath unka samanjasya dikhana sahitya ka itihas kahlata hai. ’ aacharya hajariprsad dvivedi ka mat hai ki ‘sahitya ka itihas granthon aur granthkaron ke udbhav aur vilay ki kahani nahin hai, vah kaal srot mein bahe aate hue jivant samaj ki vikas katha hai. ’ hindi ke in donon murdhanya vicharkon ki paribhashaon se spasht hai ki sahitya janta ki chittvrittiyon ka sanchit pratibimb hai. Chittvrittiyan samay evan kaal ke anusar parivartit hoti rahti hain. Atev sahitya ke svrup mein bhi parivartan hota rahta hai. In paristhitiyon ke aalok mein sahitya ki is vikasshil prvritti ko prastut karna hi sahitya ka itihas kahlata hai. Kahna na hoga ki sahitya ka vishleshan, adhyyan keval sahitya evan sahitykar tak simit rakhkar nahin kiya ja sakta. Sahitya ki vibhinn prvrittiyon ki prastuti ke liye usse sambandhit rashtriy parampraon, samajik paristhitiyon, aarthik paristhitiyon, us yug ki chetna, sahitykar ki pratibha tatha prvritti ka vishleshan aavashyak hai. Deshkal paristhiti bhed se samaj ka svrup parivartit hota rahta hai, sahitya samaj ka hi pratibimb hota hai. Spashtatः samaj ke svrup ke parivartan ka prbhav sahitya par padta hai. Is prkar sahitya ka itihas na keval vikasshil prakriya ka udghatan karta hai, balki is kram mein ne aur purane sangharsh ko bhi rekhankit karta chalta
Hai.
Iske atirikt ismen sahitya evan samaj ko prbhavit karnevale vibhinn aandolnon, parivartnon aur pryogon ke sambandh ka bhi vivechan hota hai. Sahitya ke itihas mein rachna aur rachnakar ki srijnatmak kshamta ko vartman ki kasauti par kasa jata hai. Vishvambhar manav ke shabdon mein, ‘kisi bhasha mein us sahitya ka itihas likha jana us sahitya ki samriddhi ka parinam hai. Sahitya ke itihas ko vah bhittichitr samajhiye jismen sahityikon ke aakriti-chitr nahin hote, hriday-chitr aur mastishk-chitr hi hote hain. ’
—isi pustak se